ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

राजभाषा माह में हिन्दी लेखन व भाषण प्रतियोगिताओं का आयोजन

September 24, 2019 07:42 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन चण्डीगढ़ स्थित मीडिया इकाईयों पत्र सूचना कार्यालय तथा रीज़नल आउटरीच ब्यूरो द्वारा हिन्दी लेखन व भाषण प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिताओं में दोनों कार्यालयों के प्रतिभागियों ने जल संरक्षण, पोषण अभियान, प्लास्टिक मुक्त भारत, गुरू नानक देव जी 550वीं जयंती व महात्मा गांधी की 150वीं जयंती विषयों पर निबंध, कविता, कहानी, पत्र लेखन, हिन्दी शब्द ज्ञान व भाषण प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया।
हिन्दी लेखन प्रतियोगिता के पत्र सूचना कार्यालय के विजेताओं में हिमांशी प्रथम, धर्म सिंह नेगी द्वितीय तथा क्षितिज वशिष्ठ ने तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया। तथा श्रीमती रिंकू देवी, सर्वजीत व तेजमान नेगी ने एमटीएस श्रेणी में प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया। भाषण प्रतियोगिता में धर्म सिंह नेगी प्रथम, राजरानी द्वितीय व दुर्गावती तृतीय स्थान की विजेता रहे।
रीजनल आउटरीच ब्यूरो के विजेताओं में लेखन प्रतियोगिता में कुमारी रीना प्रथम, प्रदीप द्वितीय व किरण बाला को तृतीय पुरस्कार तथा भाषण प्रतियोगिता में श्री रूस सिंह को प्रथम व अमित कुमार को द्वितीय पुरस्कार दिया गया।
इस अवसर पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की अपर-महानिदेशक (क्षेत्रीय) श्रीमती देवप्रीत सिंह ने विजेता प्रतिभागियों को हिन्दी प्रतियोगिता में जीतने पर बधाई दी और कार्यालय में हिन्दी के प्रयोग को लेकर उनकी संराहनीय कार्यों के लिए सबकी प्रशंसा की । इस अवसर पर कार्यक्रम के विशेष अतिथि हिन्दी शिक्षण संस्थान के हिन्दी अधिकारी श्री अरविन्द कुमार ने मंत्रालय द्वारा हिन्दी के प्रचार प्रसार में अपने कर्मचारियों को प्रेरित करने के लिए मौलिक कहानियां व कविता लेखन के प्रयास की प्रशंसा की। इस अवसर पर रीज़नल आउटरीच ब्यूरो के निदेशक श्री आशीष गोयल ने हिन्दी के प्रयोग के लिए कर्मचारियों का आह्वान किया। रीजनल आउटरीच ब्यूरो की सहायक निदेशक व हिन्दी अधिकारी सुश्री सपना ने हिन्दी प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाया और पुरस्कार वितरण समारोह कार्यक्रम का संचालन किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये