ENGLISH HINDI Friday, October 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

संयुक्त हिन्दी कार्यशाला का आयोजन

September 27, 2019 06:26 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
सरकारी कामकाज में हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार, सांख्यिकीय एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के अन्तर्गत राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (क्षेत्र संकार्य प्रभाग), क्षेत्रीय कार्यालय, चंडीगढ़ द्वारा अधिकारियों/कर्मचारियों के हिन्दी ज्ञान वर्धन हेतु एक दिवसीय संयुक्त हिन्दी कार्यशाला का आयोजन कान्फ्रेंस हाल, केन्द्रीय सदन,तृतीय तल,सैक्टर -9/ए, चंडीगढ़ में किया गया। श्री गौरव सिंह, सहायक निदेशक एवं कार्यालयाध्यक्ष ने कार्यशाला में पधारे वक्ताओं और प्रतिभागियों का स्वागत किया। तदुपरान्त कार्यशाला का उदघाटन श्री विनय कुमार, उप निदेशक,चंडीगढ़ द्वारा किया गया। श्री विनय कुमार ने कार्यशाला के उदघाटन सम्बोधन में प्रभागियों को अपना अधिक से अधिक सरकारी कामकाज राजभाषा हिन्दी में करने हेतु आग्रह किया। उन्होंने अपने सम्बोधन में यह भी कहा कि प्रत्येक भाषा अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम व शब्दों का वाहन तथा एक –दूसरे तक पहुँचने का पुल होती है। इस अवसर पर पधारे वक्ता डा० पंकज अनेजा,हिन्दी अधिकारी, पी जी आई, चंडीगढ़ ने “वर्तमान परिवेश में हिन्दी का महत्व तथा राजभाषा हिन्दी की संवैधानिक स्थिति” पर बहुत ही विस्तृत जानकारी प्रतिभागियों को दी। इसी क्रम में श्री अरविन्द कुमार,सहायक निदेशक, हिन्दी शिक्षण योजना, चंडीगढ़ ने “आवाज के माध्यम से हिन्दी में टाइप कैसे किया जाए तथा WhatsAppपर अपनी आवाज के माध्यम से हिन्दी टाइपिंग तथा प्रारूप एवं टिप्पणी” पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस कार्यशाला में क्षेत्रीय/उप क्षेत्रीय कार्यालयों के 38 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये