ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

वर्ष में एक बार उत्तराखंड व अपने गांव आएं अनिवासी

September 30, 2019 06:16 PM

देहरादून, (ओम रतूड़ी)

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने विदेश में बसे अनिवासी भारतीयों से वर्ष में एक बार अपने देश जरूर आने की अपील की। उन्होंने उत्तराखंड प्रवासियों को भी साल में एक बार उत्तराखंड एवं अपने गांव आने की बात भी कही।
अपने चार देशों के विदेश दौरे व कंपाला में आयोजित सीपीए सम्मेलन से लौटने के बाद सोमवार को हुुई बातचीत में उन्होंंने बताया कि प्रवासियों के बीच उत्तराखंड के संबंध में कई विषयों पर वार्ता भी हुई।

राष्ट्रमंडल संसदीय संघ का 64वें सम्मेलन युगांडा की राजधानी कम्पाला में आयोजित किया गया। इस सम्मेलन में सीपीए के 52 देशों की 180 शाखाओं द्वारा प्रतिभाग किया गया। दिनांक 23 सितंबर को उत्तराखंड के विधान सभा अध्यक्ष ने सीपीए की मेजबानी कर रहे युगांडा की संसद के अध्यक्ष श्रीमती रेबेका कडाका से शिष्टाचार भेंट वार्ता की तथा सम्मेलन के संबंध में चर्चा की व सीपीए की कार्यकारी समिति की अध्यक्ष कैमरुन की संसद की उपाध्यक्ष श्रीमती एमिलिया लिफाफा से भी भेंटवार्ता की गई और सीपीए की कार्यकारी समिति के संबंध में विचार विमर्श हुआ।

  
राष्ट्रमंडल संसदीय संघ का 64वें सम्मेलन युगांडा की राजधानी कम्पाला में आयोजित किया गया। इस सम्मेलन में सीपीए के 52 देशों की 180 शाखाओं द्वारा प्रतिभाग किया गया। दिनांक 23 सितंबर को उत्तराखंड के विधान सभा अध्यक्ष ने सीपीए की मेजबानी कर रहे युगांडा की संसद के अध्यक्ष श्रीमती रेबेका कडाका से शिष्टाचार भेंट वार्ता की तथा सम्मेलन के संबंध में चर्चा की व सीपीए की कार्यकारी समिति की अध्यक्ष कैमरुन की संसद की उपाध्यक्ष श्रीमती एमिलिया लिफाफा से भी भेंटवार्ता की गई और सीपीए की कार्यकारी समिति के संबंध में विचार विमर्श हुआ।

बैठक में सीपीए की गतिविधियों के विषय में प्रस्तुत वार्षिक रिपोर्ट तथा सीपीए के वार्षिक लेखों की समीक्षा की गई। समिति ने सीपीए की भविष्य की गतिविधियों के विषय में निर्णय लिए। बैठक में नए सदस्यों के सीपीए की सदस्यता हेतु विभिन्न देशों द्वारा दिए गए आवेदन पर विचार किया गया।

उन्होंने बताया कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की अध्यक्षता में सीपीए इंडिया रीजन के सदस्यों की बैठक हुई जिसमें सम्मेलन के दौरान भारतीय दल की रणनीति बनाई गई। दिनांक 26 सितंबर को सम्मेलन का विधिवत औपचारिक उद्घाटन करते हुए युगांडा के राष्ट्रपति युवेरी मुसेवेनी ने सभी सदस्यों का स्वागत करते हुए उन्होंने राष्ट्रमंडल देशों से आपसी तालमेल के साथ अपने जनसंख्या बल का उपयोग विदेशी निवेश बढ़ाने, सुरक्षा और सांस्कृतिक आदान-प्रदान पर एक साथ काम करने के लिए आह्वान किया।

जलवायु परिवर्तन पर प्रेम चंद अग्रवाल ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भारत द्वारा जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए किए जा रहे कार्याें के बारे में बताया और यह भी बताया कि भारत की प्राथमिकता देश से गरीबी का उन्मूलन करना तथा सभी नागरिकों को मूलभूत आवश्यकताएं उपलब्ध कराता है तो वहीं देश जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए स्वच्छ ऊर्जा तकनीक के प्रयोग से विकास के कम कार्बन उत्सर्जन वाले रास्ते पर चलने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने बताया कि सम्मेलन के दौरान प्रेम चन्द ने अग्रवाल दूसरी पारी में युवा बेरोजगारी के महत्वपूर्ण विषय पर आयोजित राउण्ड टेबल चर्चा में कहा, देश बेरोजगारी की समस्या के स्थाई समाधान के लिए कार्य कर रहा है। उन्होंने औद्योगिक विकेंद्रीकरण कर अधिक से अधिक संख्या में क्षेत्रीय औद्योगिक हब विकसित किए जाने पर जोर दिया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये