ENGLISH HINDI Tuesday, November 12, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयारअज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादेंप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल
धर्म

रामकथा: श्री राम जानकी के विवाहोत्सव का लिया आनंद

October 03, 2019 11:46 AM
चंडीगढ़: प्रोग्रेसिव सोसायटी सेक्टर 50- बी चंडीगढ़ में श्री राम कथा 7-10-2019 तक शाम 4:30 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक हो रही है । इस अवसर पर चौथे दिन की कथा में ब्रह्मर्षि विश्वात्मा बावरा जी महाराज की परम शिष्या कथा व्यास पूज्नीय स्वामी डॉक्टर अमृता दीदी जी के मुख से निरंतर श्री राम कथा  अमृत की वर्षा होती रही।

दीदी जी  ने भगवान द्वारा संत गौमाता के हित के लिए अवतार की महिमा का गुणगान करते हुए बताया कि किस प्रकार श्री राम जी ने पूर्ण ब्रह्म होते हुए भी लोक मर्यादा के लिए गुरु के आश्रम में रहकर विद्या प्राप्त की।  ताड़का, मारीच, सुबाहु नामक राक्षसों को मारकर भक्तजनों की रक्षा की। सती अहिल्या जी का चरण स्पर्श से उद्धार किया। उसके पश्चात राजा जनक के दरबार में जाकर गुरु विश्वामित्र की आज्ञा से शिव धनुष को तोड़कर सीता जी को वधु रूप में स्वीकार किया।

 
पूजनीय दीदी जी  ने भगवान द्वारा संत गौमाता के हित के लिए अवतार की महिमा का गुणगान करते हुए बताया कि किस प्रकार श्री राम जी ने पूर्ण ब्रह्म होते हुए भी लोक मर्यादा के लिए गुरु के आश्रम में रहकर विद्या प्राप्त की।  ताड़का, मारीच, सुबाहु नामक राक्षसों को मारकर भक्तजनों की रक्षा की। सती अहिल्या जी का चरण स्पर्श से उद्धार किया। उसके पश्चात राजा जनक के दरबार में जाकर गुरु विश्वामित्र की आज्ञा से शिव धनुष को तोड़कर सीता जी को वधु रूप में स्वीकार किया।
भगवान श्री राम जानकी के विवाह की मनोहारी झांकी का दर्शन कर भक्त भावविभोर ही गए। कुछ भक्तों ने तो स्वयं को अवधवासी के रूप में सजाया हुआ था, जो बैंड बाजे के साथ बारात लेकर आए और पंडाल में परम आनंद के साथ नृत्य एवं विवाहोत्सव मनाया गया। कथा के  अंत में भक्तों में प्रसाद वितरित किया गया तथा भंडारे की व्यवस्था की गई।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
मनीमाजरा से निकली मेहंदीपुर बालाजी के लिए डाक ध्वजा यात्रा श्री श्याम कार्तिक मेला महोत्सव 6 नवंबर से पद्मासना मन्दिर वैश्विक एकता, अंतर धार्मिक संस्कृति व पर्यटन का प्रतीक श्री गोवर्धन पूजन का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया: आशा दीदी मन्त्रों उच्चारण से 48 घंटे का साईं नाम जाप शुरू नौंवें दिन राम भक्त हनुमान प्रसंग एवं राम राज्य प्रसंग से राम कथा का पूर्णाहुति हवन से हुआ समापन 42 महिलाओं सहित 216 निरंकारी श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान स्वास्तिक विहार में दुर्गा पूजा में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, झांकियों ने मनमोहा माता की चौकी एवम मासिक रामायण पाठ का आयोजन