ENGLISH HINDI Friday, October 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

30 के करीब कैंसर मरीजों की जांच की

October 05, 2019 11:16 PM

ऋषिकेश, रातुड़ी: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में कनखल, हरिद्वार स्थित रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में मासिक कैंसर परीक्षण एवं उपचार शिविर आयोजित किया गया। शिविर में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने लगभग 30 मरीजों की जांच की व उन्हें आवश्यक परामर्श दिया। इस दौरान एम्स में कैंसर का ऑपरेशन करा चुके तीन मरीजों का परीक्षण भी किया गया। शिविर में संस्थान के चिकित्सकीय दल ने मरीजों व उनके तीमारदारों को कैंसर की बीमारी के प्रति जागरुक भी किया। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि एम्स उत्तराखंड में कैंसर के समुचित इलाज के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने बताया कि संस्थान का उद्देश्य इस तरह के नियमित शिविरों के माध्यम से लोगों को इस घातक व जानलेवा बीमारी के प्रति जागरुक करना है,जिससे वह समय रहते स्वास्थ्य परीक्षण व उपचार सुनिश्चित कर सकें। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान में बीती चार जुलाई से प्रत्येक सप्ताह बृहस्पतिवार को प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी ओपीडी भी शुरू कर दी गई है, इस साप्ताहिक क्लिनिक का उद्देश्य मरीजों में कैंसर को प्रथम पायदान पर पहचान कर उसका समुचित उपचार करना है,जिससे उन्हें इस बीमारी से पूरी तरह से मुक्त किया जा सके। उन्होंने बताया कि लोग स्वास्थ्य के प्रति जागरुक हों तो कैंसर का जल्दी से पता लगाकर बीमारी का पूर्णरूप से उपचार किया जा सकता है। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि राज्य में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना का उद्देश्य उत्तराखंड व समीपवर्ती राज्यों के लोगों के स्वास्थ्य की त्वरित जांच व समुचित उपचार सुविधाएं मुहैया कराना है। शनिवार को रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम कनखल में आयोजित मासिक शिविर में एम्स के सर्जिकल ओंकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. एसपी अग्रवाल व डा.अनु अग्रवाल ने मरीजों का सघन परीक्षण किया और उन्हें उचित परामर्श दिया। प्रो. अग्रवाल ने बताया कि रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में अगले माह दो नवंबर को मासिक कैंसर परीक्षण शिविर का आयोजन किया जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये