ENGLISH HINDI Wednesday, May 27, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

साल दर साल 40 से 50 हजार बढ़ रहे हैं अंधेपन के रोगी

October 08, 2019 12:19 PM

ऋषिकेश (रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में नेत्र कोष की स्थापना के करीब डेढ़ माह में 14 लोगों के कॉर्निया दान किए गए। जबकि संस्थान में अब तक अंधेपन से ग्रस्त 19 लोगों को सफलतापूर्वक कॉर्निया प्रत्यारोपित किए जा चुके हैं। एम्स प्रशासन ने नेत्रदान महादान के संकल्प के साथ कॉर्निया का दान कराने वाले परिवारों का आभार व्यक्त किया है। निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि देश में अंधेपन की समस्या से ग्रसित लोगों की संख्या में साल दर साल 40 से 50 हजार की बढ़ोत्तरी हो रही है। उन्होंने बताया कि नेत्रदान के संकल्प के बिना कॉर्निया की समस्या को समाप्त नहीं किया जा सकता। प्रो. कांत ने बताया कि अंधता से ग्रस्त लोगों की समस्या का समाधान नेत्रदान के प्रति जागरुकता से ही संभव है, लिहाजा संस्थान लोगों को नेत्रदान के प्रति जागरुक करने को लेकर लगातार अभियान चला रहा है। बताया कि अधेपन से ग्रसित मरीजों की समस्या के निदान के उद्देश्य से ही एम्स संस्थान में बीते 26 अगस्त को आई बैंक (नेत्र कोष) की स्थापना की गई। निदेशक एम्स ने कहा कि हम सभी को नेत्रदान को लेकर जागरुक होने की आवश्यकता है, तभी हम समाज को अंधता से मुक्ति दिलाने में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। एम्स के नेत्र रोग विभागाध्यक्ष डा. संजीव मित्तल व नेत्र कोष की चिकित्सा निदेशक डा. नीति गुप्ता ने बताया कि बीते करीब दो सप्ताह में गंगानगर, ऋषिकेश निवासी राजीव कुकरेजा ने अपने पिता दिवंगत अविनाश कुकरेजा, हथियाथुल रुड़की, हरिद्वार निवासी अमरीशपाल ने अपने चाचा विजयपाल महेंद्र पाल, भीमावाला विकासनगर देहरादून निवासी इंदु सिंह ने अपने परिजन शिव सिंह, दहिया की मोडोवाली, रुड़की हरिद्वार निवासी इंद्रपाली ने अपने पति सादेराम, आवास विकास कॉलोनी ऋषिकेश निवासी निरभाग सिंह ने अपने पिता मगन सिंह व दक्ष गंभीर ने अपने पिता सुरेंद्र कुमार के देहावसान के बाद उनके नेत्रदान का संकल्प लिया और एम्स नेत्र बैंक को कॉर्निया दान की। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व एम्स आई बैंक को आठ दिवंगत लोगों के परिजन कॉर्निया का दान करा चुके हैं। उन्होंने बताया कि एम्स के नेत्र कोष को अब तक कुल 14 लोगों के कॉर्निया प्राप्त हुए हैं,जबकि संस्थान में 19 जरुरतमंद लोगों को सफलतापूर्वक कॉर्निया प्रत्यारोपित किए जा चुके हैं। चिकित्सकों ने बताया कि यह लोग कई वर्षों से काॅर्निया (अंधापन) की बीमारी से ग्रस्त थे, कॉर्निया प्रत्यारोपण के बाद इन लोगों का जीवन रोशन हुआ है। चिकित्सकों ने लोगों से अपील की कि नेत्रदान करने के इच्छुक व्यक्ति एम्स ऋषिकेश के आई बैंक में दूरभाष संख्या 0135-2460835 व 09068563883 पर संपर्क कर सकते हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के बाद बंगाल में एनडीआरएफ की 10 अतिरिक्त टीमें तैनात की गई "जैव विविधता भारतीय संस्कृति का अनिवार्य हिस्सा है": शेखावत कोविड—19 परीक्षण में 9 पॉजिटिव जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया कोरोना संकट में आर्थिक मंदी से झूझ रहा भारतीय फिल्म जगत: प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों से सहयोग की गुहार भारत के स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन बने विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन आत्मनिर्भर भारत अभियानः संवृद्धि आवेग की आगामी तरंग की ओर लक्षित