ENGLISH HINDI Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
 
चंडीगढ़

आने वाला समय आयुर्वेदिक चिकित्सा का : डॉ. नरेश मित्तल

October 12, 2019 09:13 PM

चण्डीगढ़ : श्री धन्वंतरी एजुकेशनल सोसायटी द्वारा श्री धन्वंतरी आयुर्वेदिक कॉलेज, से. 46 में आज "चैलेंजेज एंड स्ट्रैंग्थ ऑफ़ आयुष फॉर द प्रिवेंशन एंड मैनेजमेंट ऑफ़ लाइफस्टाइल डिसऑर्डर्स" विषय को लेकर एक राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित किया गया जिसमें सुप्रीम कोर्ट के माननीय न्यायाधीश (से.नि.) जस्टिस अशोक बहल  मुख्य अतिथि के तौर पर पधारे। सोसाइटी के महासचिव डॉ. नरेश मित्तल ने सेमीनार में कहा कि आने वाला समय आयुर्वेदिक चिकित्सा का है व जिस प्रकार लोग एलोपैथिक चिकित्सकों से अपॉइंटमेंट लेकर इलाज़ करवाते हैं, वोही स्थिति आयुर्वेदाचार्यों के साथ भी पेश आने वाली है।

श्री धन्वंतरी आयुर्वेदिक कॉलेज, से. 46 में एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित : देश भर से कई आयुर्वेदिक विद्वान हुए शामिल

कॉलेज के स्वस्थरक्षण एवं योग विभाग के प्रमुख प्रो.(डॉ.) डीके चड्ढा ने बताया कि इस सेमिनार के सफल आयोजन से ये संस्थान में लाइफ़स्टाइल डिसऑर्डर्स पर काम करने हेतु एक सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में उभरेगा व एक मील का पत्थर साबित होगा। इसके अलावा साथ ही चण्डीगढ़ भी आयुष सुविधाओं की मामले में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्यात होगा। उन्होंने बताया कि सेमिनार में डॉक्टर जेएलएन शास्त्री, डॉ सुश्री तनुजा नेसारी, डॉक्टर दीपिका गंजू गुणावत एवं डॉ. बी.टी. चिंदानामूर्ति कीनोट स्पीकर थे।

इस मौके पर जीआरएयू, होशियारपुर के उपकुलपति प्रो. डॉ. बीके कौशिक, आयुष पंजाब के निदेशक डॉ राकेश शर्मा, आयुष हरियाणा के निदेशक डॉ. एसएस बाहनमनी, जीआरएयू के रजिस्ट्रार एवं सीसीआईएम एग्जीक्यूटिव डॉ. संजीव गोयल, सीसीआईएम के सदस्य व जाने-माने चिकित्सक वैद्य जगजीत सिंह, सीसीआईएम सदस्य डॉ. अनिल भारद्वाज, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डॉ. दिलीप मिश्रा, डॉ. विकास गिल व डॉ. धर्मेंद्र विशिष्ट के साथ-साथ पंजाब एवं हरियाणा के सभी आयुष महाविद्यालयों के प्रमुख अधिकारीयों ने भी इसमें शिरकत की। इस मौके पर आयुर्वेद की सेवा करने वाले चिकित्सकों को उनकी सेवाओं के लिए सम्मानित भी किया गया। इसके साथ ही 1979 व 1980 के बैच की एलुमनी मीट भी रखी गयी थी।
उन्होंने कॉलेज के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ये आयुर्वेदिक कॉलेज उन चंद ऐसे संस्थानों में से एक है जिसके साथ अस्पताल भी जुड़ा है। हॉस्पिटल सीजीएचएस के एप्रूव्ड पैनल में है तथा एनएबीएच एक्रीडिटेशन भी है। इसके अलावा एनएएसी की एक्रीडिटेशन प्राप्त करने हेतु प्रक्रिया जारी है। उन्होंने बताया कि कॉलेज में चार मंजिला नया ब्लॉक निर्माणाधीन है जिसकी दो मंजिले पूरी हो चुकी है। इसके बनने के बाद यूजीसी की रिक्वायरमेंट पूरी हो जाएगी तथा नए सत्र से यहां पीजी कोर्स व अन्य पाठ्यक्रम भी यहां पढाये जा सकेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
वाल्मीकि आश्रम में की शिव परिवार की स्थापना सान्या शर्मा बनना चाहती है डॉक्टर, हासिल किए 92 फीसदी अंक गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल राम दरबार स्कूल में फलदार पौधे लगाए, प्रदीप छाबड़ा भी पहुंचे कोरोना महामारी से बचने के लिए मास्क सैनिटाइजर और 2 गज की दूरी जरूरी पौधारोपण....ताकि धरती हरी भरी रहे सावन में प्रवासी चिड़िया करतीं चीं..चीं कोरोना योद्धाओं को पुरस्कार देकर अपने जन्मदिन पर किया सम्मानित परीक्षाएं लेने के फैसले विरुद्ध ‘आप’ विद्यार्थी विंग ने किया रोष प्रदर्शन बिजली विभाग का कारनामा: भुगतान तिथि वाले दिन भेजे जा रहे हैं बिल पेड़ों के बिना जीवन नहीं, पेड़ ही जीवन है, पेड़ लगाओ जीवन बचाओ