ENGLISH HINDI Tuesday, November 19, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
दादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चाअवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्तप्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौरप्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटनपंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा
राष्ट्रीय

कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने

October 15, 2019 09:06 PM

ऋषिकेश, ओम रातुड़ी: परमार्थ निकेतन में गांधीवादी दर्शन पर आयोजित कार्यशाला में आये साबरमती आश्रम के व्यवस्थापक जयेश भाई के नेतृत्व में साबरमती आश्रम से आये गांधीवादी कार्यकर्ता और छात्रों ने प्रस्थान किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती, साबरमती आश्रम के व्यवस्थापक जयेश भाई, देवेन्द्र भाई, गंगा नन्दिनी, गांधी आश्रम अहमदाबाद के छात्र और कार्यकर्ता, परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमारों ने वृहद स्तर पर स्वच्छता अभियान चलाया। जयेश भाई ने स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज को झाडू भेंट किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि अब एक कदम स्वच्छता की ओर नहीं बल्कि हर कदम स्वच्छता की ओर। स्वच्छता के लिये हर एक को लगना होगा हर एक को जुड़ना होगा। उन्होने कहा कि सफाई का काम हर एक का काम, हर घर का काम, हर गांव का काम और हम सब का काम है। स्वामी जी ने कहा कि सभी के प्रयासों और संकल्पों के बाद अभी भी बहुत सारी जगहों पर गंदगी दिखायी देती है, कूड़े के ढ़ेर लगे हुये हैं। मुझे लगता है अब कूड़ा मुक्त भारत बने; गार्बेज फ्री इण्डिया बने। कूड़ा मुक्त भारत और कुरीति मुक्त भारत बने। यह सब से बड़ी कुरीति है कि हम किसी को छोटा किसी को बड़ा समझें; किसी को ऊँच किसी को नीच समझें। उन्होने कहा कि हम सब बराबर है, सब एक है और भारत माता की संतान है। आईये बिना भेदभाव किये भारतमाता की सेवा करे।
स्वामी जी ने कहा कि गांधी दर्शन स्वच्छता के बिना अधूरा है। गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में साफ-सफाई और स्वच्छता के लिये प्रण कर अपना शौचालय खुद साफ करने का निर्णय लिया था। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र और राज्य सरकारों के मध्य समन्वय से स्वच्छ भारत मिशन और स्वच्छता की कार्यप्रणाली में व्यवहारिक परिवर्तन हुआ है और स्वच्छ भारत मिशन श्रेष्ठ दिशा की ओर अग्रसर हो रहा है परन्तु इसमें प्रत्येक व्यक्ति की सहभागिता की जरूरत है। स्वामी जी ने कहा कि स्वच्छता के प्रति उदासीनता को छोड़कर स्वच्छता के उच्च मापदंड़ों को अपनाने का समय है आईये स्वच्छता को स्वीकार करें और उसे अंगीकार करे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने झाडू उठाकर सभी को स्वच्छ, स्वस्थ और समृद्ध भारत बनाने का संकल्प कराया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सड़क दुर्घटना में पौड़ी गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत समेत तीन घायल सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ साधु संतों ने की बैठक अमेज़न फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए 10 नवम्बर को दिल्ली में व्यापारियों की राष्ट्रीय बैठक आरसीईपी को अपनाने के केंद्र के निर्णय का सीआईआई ने किया समर्थन इस्‍पात मंत्री ने निवेशकों को भारत के विकास क्रम में भागीदार बनने का न्‍यौता दिया नराकास पंचकूला द्वारा स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आयोजित ईपीएफओ पेंशन न्यूनतम 7500 रूपये करने की मांग तेज झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के कार्यक्रम की घोषणा वॉट्सऐप में जल्द शुरू होगा पेमेंट की खास सर्विस: सीईओ ज़करबर्ग राष्ट्रपति करेंगे 2 से 4 नवम्बर तक सिक्किम और मेघालय का दौरा