ENGLISH HINDI Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
 
पंजाब

’पुलिस स्मरणोत्सव दिवस’ पर बीएसएफ मुख्यालय में शहीदों को दी श्रद्धांजलि

October 21, 2019 09:33 PM

जालंधर, फेस2न्यूज

’पुलिस स्मरणोत्सव दिवस’ के अवसर पर फ्रंटियर मुख्यालय जालंधर के प्रांगण में 2018-19 के दौरान देश की सम्प्रभुता एव अखण्डता की रक्षा करते हुए शहीद पुलिस और केन्द्रीय सुरक्षा बलों के कार्मिकों को भाव-भीनी श्रद्धांजलि दी गई।

इस अवसर पर श्री मधु सूदन शर्मा, उप महानिरीक्षक, सीमा सुरक्षा बल पंजाब  फ्रंटियर, ने 2018-19 (01 सितम्बर 2018 से 31 अगस्त 2019) तक शाहीद हुये सभी पुलिस बलों 292 पुलिसकर्मियों  ( सीमा सुरक्षा बल -41 सीमा प्रहरी ) कार्मिकों के नाम पढ़े और षहीद स्थल पर पुश्पांजलि अर्पित करके उनकी शहादत को नमन किया ।

इस अवसर पर ’पुलिस स्मरणोत्सव दिवस’ परेड का आयोजन किया गया तथा उपस्थित सभी कार्मिकों ने दो मिनट का मौन रखकर शहीदों को याद किया । इस अवसर पर पंजाब राज्य के 13 व हिमाचल प्रदेश के 01 (कुल 14) ऐसे स्कूल जिनमे बी.एस.एफ. के शहीद हुए कार्मिको ने षिक्षा ग्रहण की थी उन स्कूलांे में एक विषेश सम्मान समारोह का आयोजन करके वहाँ पढने वाले बच्चों को उनकी बहादुरी के बारे में अवगत कराया गया ताकि स्कूल के बच्चों को इन वीर सीमा प्रहरियो ं के जीवन से प्रेरणा मिल सके। इस कार्य की पूर्ति हेतु पंजाब फ्रंटियर द्वारा ऐसे सभी स्कूलां मंे बल के प्रतिनिधियों  को भेजा गया।
आज के दिन चीनी हमले में शहीद हुए थे दस पुलिस कर्मी
21 अक्टूबर सन् 1959 को लद्दाख में चीनी सैनिकों द्वारा 20 भारतीय पुलिस कर्मियों पर अचानक हमला कर दिया गया। इस संघर्ष मंे 10 जवानों को वीरगति प्राप्त हुई एवं बचे हुए पुलिस कार्मियो ं को चीनी सैनिको ं ने अपने कब्जे में ले लिया । इनमें से 07 पुलिसकर्मी उनके कब्जे से बचने में कामयाब रहे। दिनाॅक 28 नवम्बर 1959 को चीनी सैनिको  द्वारा इन शहीद हुए पुलिस कर्मियो के पार्थिव शारीर को ससम्मान भारत को सांैप दिया गया ।

लद्दाख के हाॅट स्प्रिंग्स में शहीद पुलिस कर्मियों के पार्थिव शरीर का पुलिस सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इन शहीद भारतीय पुलिस कर्मियो ं की याद मंे दिनाॅक 21 अक्टूबर 1960 से सभी पुलिस बलों द्वारा ‘पुलिस स्मरण दिवस‘ का आयोजन शुरू किया गया।

सन् 1965 से लेकर अब तक के अपने स्वर्णिम सफर मंे सीमा सुरक्षा बल के बहादुर सीमा प्रहरियो ं ने देष के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया हैं तथा अनेकों ने राश्ट्रीय सुरक्षा के प्रति अपने अद्भुत समर्पण के फलस्वरूप वीरगति प्राप्त की। इस बल की अटूट कर्तव्यनिश्ठा, अगाध देश प्रेम और सीमा प्रहरियो ं के सर्वोच्च बलिदान की मान्यता स्वरूप भारत सरकार द्वारा अब तक सीमा सुरक्षा बल को 01 महावीर चक्र, 04 कीर्ति चक्र, 13 षौर्य चक्र, 232 राश्ट्रपति पुलिस वीरता पदक और 929 पुलिस वीरता पदकों से सम्मानित किया जा चुका है। सीमा सुरक्षा बल के 53 वर्शों का इतिहास देष की सीमाआंे की सुरक्षा के प्रति अपने समर्पण और प्रतिबद्धता की महान गाथाओ ं से भरा पड़ा है।

इस बल ने राश्ट्रीय सुरक्षा को कायम रखन के लिए स्वयं को सौपे ं गये सभी दायित्वो ं का निर्वहन किया है। पंजाब एवं कश्मीर सहित पूर्वोंतर राज्यो, उडीसा तथा छतीसगढ़ राज्यो ं के आतंकवाद ग्रस्त इलाको ं मंे आतंकवाद के खातम े और षांति स्थापना के प्रयासो ं मे ं बल की सराहनीय भूमिका रही है। सीमा प्रहरियो का हरेक बलिदान भारत वर्ष के गौरवशाली इतिहास में सदैव स्मरणीय रहेगा।

 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
ऐस यूनियन के चुनाव में जसवीर सिंह प्रधान और जगतार सिंह बने चेयरमैन ज़ीरकपुर के ढकोली क्षेत्र में मंदहाली से परेशान कारोबारी ने छत से छलांग मार की खुदकुशी कैप्टन ने कड़े प्रतिबंध लगाने का किया ऐलान गले मिलना तो दूर—हाथ मिलाना भी जुर्म तथास्तु चैरिटेबल सोसाइटी ने वितरित किए सैनिटरी नैपकिन और मास्क गौ हत्या करने वाले पर धारा 302 का पर्चा दर्ज किया जाए: सिंगला पंजाब नेशनल बैंक फेज -3 ए बैंक की मोहाली शाखा में डकैती का पर्दाफाश, तीन युवक गिरफ्तार बिजली कट से ग्रामवासी परेशान रिक्शा द्वारा जरूरतमन्द महिलाओं को बनाया जायेगा आत्मनिर्भर स्कूली सिलेबस में साजिश के अंतर्गत खत्म किए अहम पाठों के विरुद्ध संसद तक विरोध करेंगे -‘आप’