ENGLISH HINDI Tuesday, November 19, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
दादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चाअवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्तप्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौरप्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटनपंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा
हरियाणा

फसल अवशेष जलाने पर तुरंत होगी एफआईआर दर्ज: डीसी

October 30, 2019 07:42 PM

सिरसा, बांसल:
उपायुक्त अशोक कुमार गर्ग ने कहा कि जिला में धान की फसल कटाई शुरू हो गई है, इसलिए अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों पर कड़ी नजर रखें। कहीं भी धान की पराली / अवशेष जलाने की सूचना मिलती है तो तुरंत फायर ब्रिगेड को बुला कर आग बुझवाएं और इसका खर्च संबंधित किसान से वसूल किया जाए।
वे आज स्थानीय लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में अधिकारियों की बैठक को संंबोधित कर रहे थे। इस बैठक में एसडीएम सिरसा जयवीर यादव, एसडीएम ऐलनाबाद संयम गर्ग, एसडीएम कालांवाली निर्मल नागर, सीटीएम कुलभूषण बंसल, डीआरओ राजेंद्र कुमार, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, बीडीपीओ सहित कृषि विभाग के अधिकारी मौजूद थे।
उपायुक्त ने कहा कि जिला में 85 हजार हैक्टेयर भूमि पर धान की बिजाई की गई थी। उन्होंने बताया कि फसल अवशेष प्रबंधन के लिए कृषि विभाग द्वारा कृषि यंत्रों पर 40 से 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी उपलब्ध करवाई जा रही है, इस बारे किसानों को अधिक से अधिक जागरूक करें ताकि फसल अवशेष जलाने पर लगाम कसी जा सके। उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति धान की पराली या फसल अवशेष जलाता पाया जाता है तो उसके विरूद्ध एफआईआर दर्ज करवाएं तथा कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि ग्राम स्तर पर जागरूकता कैंपों का आयोजन कर किसानों को फसल अवशेष न जलाने बारे प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि किसानो को पर्यावरण व मानव जीवन पर होने पर दुष्प्रभावों के बारे में भी किसानों को जागरूक करें। उन्होंने तहसीलदार व बीडीपीओ को निर्देश दिए कि पटवारियों व ग्राम सचिवों से लगातार सम्पर्क में रहें तथा प्रतिदिन उनकी रिपोर्ट लें। यदि कोई पटवारी या ग्राम सचिव समय पर रिपोर्ट नहीं देता तो उनके खिलाफ तुरंत कार्रवाई करें।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें