ENGLISH HINDI Monday, January 20, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
प्रधानमंत्री जनकल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार अभियान चंडीगढ़ संगठन ने अरुण सूद से मुलाकात कर दी बधाई छुप छुप कर किए थियेटर से हासिल किया मुकाम : मनु सिंहपरीक्षा पे चर्चा: पीएम मोदी से 60 से ज्यादा बच्चे पूछेंगे सवालएडवाकेट गुरदयाल शर्मा के सुपुत्र विनय शर्मा की रस्म पगड़ी 24 जनवरी कोद लास्ट बेंचर्स ने गरीब बच्चों के साथ धूमधाम से मनाया लोहड़ी का त्यौहार: बच्चों को बांटे गर्म वस्त्र, कम्बल और गिफ्ट्सविश्व हिंदू परिषद पंजाब की तरफ से पंजाब के माननीय राज्यपाल को दिया ज्ञापन1652 होमगार्ड जवानों की होगी भर्ती26 को राज्यपाल अंबाला में, मुख्यमंत्री जींद में फहराऐंगे राष्ट्रीय ध्वज
धर्म

पद्मासना मन्दिर वैश्विक एकता, अंतर धार्मिक संस्कृति व पर्यटन का प्रतीक

October 31, 2019 11:28 AM

ऋषिकेश, ओम रातुड़ी:
परमार्थ निकेतन में बाली-इण्डोनेशिया से श्रद्धालुओं का दल आया दल के सदस्यों ने परमार्थ निकेतन में स्थित बाली संस्कृति का प्रतीक पद्मासना मन्दिर में विशेष पूजा अर्चना की, तत्पश्चात विश्व विख्यात परमार्थ गंगा आरती में सहभाग किया और विशेष मंत्रों से पूजन किया।
परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि पर्यटन को वैश्विक रूप से बढ़ावा देने के लिये एक-दूसरे की संस्कृति को आपस में साझा करना नींव का पत्थर साबित हो सकता है। पर्यटन को वैश्विक रूप से बढ़ाने के लिये हमें सांस्कृतिक, राजनीतिक, सामाजिक तथा आर्थिक मूल्यों को बढ़ाने के साथ आपसी भाईचारे को विकसित करना होगा। उन्होने कहा कि हम पर्यटन के माध्यम से आज की वैश्विक समस्याओं यथा प्रदूषित और घटता जल स्तर, पर्यावरण प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिग जैसे अनेक समस्याओं पर खुलकर चर्चा की जा सकती है तथा इन समस्याओं के समाधान के लिये पर्यटन को एक सशक्त माध्यम के रूप में उपयोग करना बेहतर होगा। वैश्विक पर्यटन के माध्यम से हम विश्व की संस्कृतियों को आपस में जोड़कर विविधता में एकता को विकसित कर सकते है। वास्तव में देखा जाये तो ’’पर्यटन विविधता में एकता का एक उत्सव है’’। मुझे तो लगता है आध्यात्मिक पर्यटन के माध्यम से हम वैश्विक समस्याओं को हल करते हुये वैश्विक शान्ति के मार्ग को प्रशस्त कर सकते है।
दल के सदस्यों ने कहा कि परमार्थ निकेतन की गंगा आरती का अनुभव अत्यंत अद्भुत है। यहा की शान्ति और सुन्दरता मन मोहक है वास्तव में यह स्थान स्वर्गतुल्य है।
बाली से आये दल में गुस्ताह नुराह आर्य, इडा अयू केतुत जूनी सुपारी, श्रीमती बालाजी, राजा डोली सिरगड़, वेपन सुप्रीत, सुरावन, मनेश त्रिपाठी, पूजा, अमित जुत्शी और अन्य सदस्यों ने आज की गंगा आरती में सहभाग किया। साध्वी भगवती सरस्वती जी ने सभी को पर्यावरण संरक्षण का संकल्प कराया और रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
मुमुक्षु हिमांशु जैन बने अमन मुनि और मुमुक्षु रजत जैन बने तेजस मुनि विश्व शांति कल्याणार्थ पर हिमाचल महासभा चंडीगढ़ ने सजाया भव्य दरबार साहिबज़ादों की शहादत को किया याद: लगाया चाय ब्रेड पकोड़े का लंगर मन की शांति की नितांत आवश्यकता है साईं बाबा का 24वां स्वरूप स्थापना दिवस 6 दिसम्बर को मनाया जायेगा : प्रसिद्ध भजन गायक पंकज राज करेंगे बाबा का गुणगान मनीमाजरा से निकली मेहंदीपुर बालाजी के लिए डाक ध्वजा यात्रा श्री श्याम कार्तिक मेला महोत्सव 6 नवंबर से श्री गोवर्धन पूजन का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया: आशा दीदी मन्त्रों उच्चारण से 48 घंटे का साईं नाम जाप शुरू