ENGLISH HINDI Tuesday, November 19, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
दादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चाअवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्तप्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौरप्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटनपंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा
हरियाणा

उम्मीदवार 23 तक प्रस्तुत करें चुनाव खर्च लेखा-जोखा: उपायुक्त

October 31, 2019 07:31 PM

सिरसा, सतीश बांसल:
विधानसभा आम चुनाव 2019 के दौरान चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवार 23 नवंबर तक अपने चुनाव खर्च संबंधी लेखा जोखा प्रस्तुत कर दें। इसके लिए उम्मीदवार निर्धारित तिथि को अपने चुनाव खर्च के लेखे-जोखे के मूल वाऊचर संबंधित उम्मीदवार या एजेंट द्वारा हस्तारित हो को नोडल अधिकारी एवं उप आबकारी एवं कराधान आयुक्त के कार्यालय में प्रस्तुत करें।   

लेखे प्रस्तुत न करने पर जन प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 10ए के अंतर्गत भविष्य में चुनाव लडऩे के लिए अयोग्य घोषित किया जा सकता है।


जिला निर्वाचन अधिकारी अशोक कुमार गर्ग ने जानकारी देते हुए बताया कि उम्मीदवार को चुनाव परिणाम से 30 दिन के अंदर अपने चुनावी खर्च का लेखा-जोखा प्रस्तुत करना होता है। इसी कड़ी में हरियाणा विधानसभा आम चुनाव 2019 में चुनाव लडऩे वाले उमीदवार 23 नवम्बर तक अपने चुनाव खर्च के मूल वाउचर नोडल अधिकारी एवं उप आबकारी एवं कराधान आयुक्त के कार्यालय में प्रस्तुत करवा दें। उन्होंने बताया कि जन प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 78 के अंतर्गत चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों को चुनाव परिणाम की तिथि से 30 दिनों की अवधि के दौरान अपने चुनाव के खर्च के लेखे प्रस्तुत करना जरूरी है।
उन्होंने कहा कि चुनाव खर्च के लेखे पूरे मूल वाऊचर जोकि उम्मीदवार या चुनाव एजेंट से हस्ताक्षरित हो, चुनाव खर्च रजिस्टर में पूर्ण खर्च विवरण, चैक बुक, बैंक स्टेटमेंट, जोकि खर्च के रजिस्टर में वर्णित हो पूरी तरह से क्रॉस चैक हो व उम्मीदवार / चुनाव एजेंट द्वारा प्रमाणित एवं हस्ताक्षरित हो नोडल अधिकारी एवं उप आबकारी एवं कराधान आयुक्त (बिक्रीकर) को उनके कार्यालय में अविलंब प्रसत करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि यदि निश्चित समयावधि में चुनाव खर्च के लेखे प्रस्तुत न करने पर जन प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 10ए के अंतर्गत भविष्य में चुनाव लडऩे के लिए अयोग्य घोषित किया जा सकता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें