ENGLISH HINDI Tuesday, November 19, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
दादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चाअवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्तप्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौरप्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटनपंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा
पंजाब

नगर परिषद शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर नहीं कर रही काम

November 05, 2019 12:22 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर दो साल पहले जो काम किया गया था, उसका कोई रिजल्ट नजर नहीं आ रहा है। स्लम फ्री बनाना तो दूर की बात, शहर में मनमर्जी से यहां-वहां बनाई जा रही झुग्गियाें व अवैध कब्जों को हटाने का काम भी नहीं किया जा रहा है।

आलम यह है कि इस समय जीरकपुर में 2 हजार के करीब झुग्गियां हैं, जिनको हटाने के लिए एमसी कोई काम नहीं कर रही है। इन झुग्गियों से परेशान होकर लोग लोकल बाॅडीज विभाग के अधिकारियों, यहां तक कि मंत्री से भी मिल चुके हैं पर उसके बाद भी कोई रिजल्ट नहीं आ रहा है। कई मीटिंग्स और सर्वे का नतीजा भी जीरो:

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

शहर को स्लम फ्री बनाने के लिए कई बार एमसी अधिकारियों की मीटिंग हुई। इसको लेकर सर्वे भी हुआ। यह भी तय किया गया कि स्लम फ्री बनाने के लिए नगर परिषद कई जगहों पर ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स बनाएगी। इस काम के लिए जमीन लोकेट करने का दावा जरूरत किया गया पर इस पर काम नहीं किया गया। ढकोली क्षेत्र में जमीन मालिक झुग्गियां बनाकर किराये पर दे रहे है। यह काम जमीन मालिकों को खेती करने से ज्यादा मुनाफे वाला साबित हो रहा है। इसलिए जमीन पर झुग्गियां बनाकर दे रहे हैं। एक एकड़ जमीन पर 100 के करीब झुग्गियां बनाई हैं। एक झुग्गी से 1000 से 1500 रुपये किराया मिलता है। मालिक को एक एकड़ जमीन से महीने में एक लाख किराया आता है। पूरे साल में 12 लाख किराया। जबकि जमीन पर फसल उगाने से इसका 25 प्रतिशत भी कमाई नहीं हो पाती।

यहां ढकोली के कई लोगों जीरकपुर नगर कौंसिल को कई बार शिकायत दे चुके हैं कि ढकोली क्षेत्र में कृष्णा एन्कलेव के पास जमीन पर सैकड़ों झुग्गियां बनाई है। पास में रह रहे लोगों का कहना है कि यहां घर लेकर अब पछता रहे है। प्रशासन सुनवाई नहीं करता है। लोगों का कहना है कि उनके घरों के आसपास का माहौल बेहद खराब हो गया है।

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चा अवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्त छतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्म सरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मान जददी जायदाद देखने गए व्यक्ति पर चाचा ने किया हमला मामला दर्ज होटल में युवती के सुसाइड के तार गुड़गांव के बहुचर्चित बिहार के पूर्व डीजीपी के बेटे नीरज दत्त की आत्महत्या के साथ जुड़े जमीन पर कब्जा करने के आरोप में 7 व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज मानव मंगल स्मार्ट वर्ल्ड में बाल दिवस समारोह सांसद प्रनीत कौर और बलबीर सिंह सिद्धू ने दयालपुरा गांव में राज्य के पहले आयुश अस्पताल का रखा नींव पत्थर ज़ीरकपुर की हवा में प्रदूषण तत्व निश्चित मात्रा की अपेक्षा अधिक, पटाख़ों के साथ बढ़ा शहर का प्रदूषण