ENGLISH HINDI Monday, May 25, 2020
Follow us on
 
पंजाब

नगर परिषद शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर नहीं कर रही काम

November 05, 2019 12:22 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर दो साल पहले जो काम किया गया था, उसका कोई रिजल्ट नजर नहीं आ रहा है। स्लम फ्री बनाना तो दूर की बात, शहर में मनमर्जी से यहां-वहां बनाई जा रही झुग्गियाें व अवैध कब्जों को हटाने का काम भी नहीं किया जा रहा है।

आलम यह है कि इस समय जीरकपुर में 2 हजार के करीब झुग्गियां हैं, जिनको हटाने के लिए एमसी कोई काम नहीं कर रही है। इन झुग्गियों से परेशान होकर लोग लोकल बाॅडीज विभाग के अधिकारियों, यहां तक कि मंत्री से भी मिल चुके हैं पर उसके बाद भी कोई रिजल्ट नहीं आ रहा है। कई मीटिंग्स और सर्वे का नतीजा भी जीरो:

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

शहर को स्लम फ्री बनाने के लिए कई बार एमसी अधिकारियों की मीटिंग हुई। इसको लेकर सर्वे भी हुआ। यह भी तय किया गया कि स्लम फ्री बनाने के लिए नगर परिषद कई जगहों पर ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स बनाएगी। इस काम के लिए जमीन लोकेट करने का दावा जरूरत किया गया पर इस पर काम नहीं किया गया। ढकोली क्षेत्र में जमीन मालिक झुग्गियां बनाकर किराये पर दे रहे है। यह काम जमीन मालिकों को खेती करने से ज्यादा मुनाफे वाला साबित हो रहा है। इसलिए जमीन पर झुग्गियां बनाकर दे रहे हैं। एक एकड़ जमीन पर 100 के करीब झुग्गियां बनाई हैं। एक झुग्गी से 1000 से 1500 रुपये किराया मिलता है। मालिक को एक एकड़ जमीन से महीने में एक लाख किराया आता है। पूरे साल में 12 लाख किराया। जबकि जमीन पर फसल उगाने से इसका 25 प्रतिशत भी कमाई नहीं हो पाती।

यहां ढकोली के कई लोगों जीरकपुर नगर कौंसिल को कई बार शिकायत दे चुके हैं कि ढकोली क्षेत्र में कृष्णा एन्कलेव के पास जमीन पर सैकड़ों झुग्गियां बनाई है। पास में रह रहे लोगों का कहना है कि यहां घर लेकर अब पछता रहे है। प्रशासन सुनवाई नहीं करता है। लोगों का कहना है कि उनके घरों के आसपास का माहौल बेहद खराब हो गया है।

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
मोगा सेक्स स्कैंडल-3 की सीबीआई से जांच करवाएं कैप्टन: चीमा कोविड-19 के मद्देनजऱ नाई की दुकानों/ सैलूनज़ के लिए एडवाइजऱी जारी पंजाब को अमृतसर में एक और डेंगू परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना की मिली मंज़ूरी कोरोना वायरस से देश को मुक्त करने में निरंकारी सेवादार पूरा कर रहे निरंकारी मिश्न का लक्ष्य वाहनों पर उच्च सुरक्षा रजिस्ट्रेशन प्लेटें लगाने की समय-सीमा 30 जून तक बढ़ाई दूध परखने हेतु जि़ला स्तर पर लैबोरेट्रिज स्थापित: बाजवा फर्जीवाड़ा: फर्जी 'केबीसी' द्वारा भोले-भाले नौजवानों को भेजे जा रहे 25-25 लाख रुपए के फर्जी चैक मिड-डे-मील स्कीम के अतर्गत खाना पकाने की लागत दर में बढ़ोत्तरी बरनाला पुलिस के हाथ लगी 40 करोड़ रुपए कीमती हैरोईन और पाकिस्तानी 15 अनचले कारतूस पंचायती राज के चुने हुए नुमाइंदों की सुरक्षा करना सरकार का फर्ज: आप