ENGLISH HINDI Saturday, July 11, 2020
Follow us on
 
चंडीगढ़

मंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जी

November 11, 2019 09:05 PM

  चंडीगढ़ (मनोज शर्मा)

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंदिर के हक में सुनाए फैसले का स्वागत करते हुए नामधारी मुखी सतिगुरू दलीप सिंह जी ने कहा कि मंदिर के हक में आया फैसला, चाहे देर से ही आया, एक दम दरूसत फैसला है। इसकी जितनी भी प्रशंसा की जाये उतनी ही कम है। हम ने शुरू से ही राम मंदिर के हक में आवाज बुलंद की थी।

उन्होंने कहा कि यह किसी एक पक्ष की जीत या हार नहीं है बल्कि सच्चाई की जीत है और यह भी कहा कि प्रत्येक पक्ष को इस फैसले का स्वागत करना चाहिए क्योंकि भगवान राम चन्द्र जी केवल हिन्दुओं के ही नहीं बल्कि सभी के भगवान हैं। जिन्होंने अपने पिता जी की आज्ञा मानते हुए 14 साल का वनवास व्यतीत किया। उन्होंने इतिहास की बातें साँझा करते हुए कहा कि मुगल राज के समय मुसलमान राजाओं द्वारा अनेक मंदिरों को तोड़ कर मस्जिदें बनाई गई, जिस के बारे में हमारी गुरवाणी में लिखा है "ठाकुर दुआरे ढाहिकै तिहि ठउड़ी मासीत उसारा"।

एक ही नहीं बल्कि लाखों मंदिर तोड़ के मस्जिद बनाई गई हैं। सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर बनाने की आज्ञा दे दी है, हम नामधारी संगत उसका बहुत-बहुत स्वागत और खुलकर समर्थन करते हैं। हिन्दुओं और सारे भारत वासियों को हम बधाई देते हैं। इस मौके पर नवतेज सिंह नामधारी, हरविन्द्र सिंह नामधारी, हरभजन सिंह फौरमैन, गुरमेल बराड़, तजिंदर सिंह नामधारी (विश्व हिन्दू परिषद), अजमेर सैनी, प्रभजिन्दर सिंह प्रिन्स, सेवक देव सिंह और अरविंद्र सिंह लाड़ी मौजूद थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
परीक्षाएं लेने के फैसले विरुद्ध ‘आप’ विद्यार्थी विंग ने किया रोष प्रदर्शन बिजली विभाग का कारनामा: भुगतान तिथि वाले दिन भेजे जा रहे हैं बिल पेड़ों के बिना जीवन नहीं, पेड़ ही जीवन है, पेड़ लगाओ जीवन बचाओ बाबा अंबेडकर के घर पर तोड़फोड़ करने वालों पर कार्रवाई करे सरकार: रामदरबार में किया प्रदर्शन एक्सल फार्मा के स्वामी ने शमघान घाट में किया पौधारोपण "अन्नपूर्णा" का आयोजन किया ट्राइसिटी में बढ़िया कारगुजारी दिखाने वालों का सम्मान टंडन ने परिवार के साथ किया मिलकर पौधरोपण गोरैया: कम होती संख्या पर चिन्ता, पुन: चहचहाट के लिए संरक्षण पर बढते कदम विश्व हिंदू परिषद ने समाज सेविका सुप्रिया गोयल को किया सम्मानित