ENGLISH HINDI Sunday, January 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द लास्ट बेंचर्स "और अमृत कैंसर फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया मैमोग्राफी, डेकसा और डेंटल जांच शिविर26 को वाईस ऑफ़ इंडिया नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन पर विशाल पद यात्रा कैंसर की चपेट में गांव बडबर, 6 से अधिक लोगों की हो चुकी मौतवाल्मीकि समाज ने नगर निगम कमिश्नर और पूर्व मेयर राजेश कालिया का पुतला फूंकाअवैध माइनिंग के खिलाफ हरकत में आया प्रशासन, मुबारिकपुर घग्गर नदी पर बनाए अवैध पुल को तोड़ागणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयकर विभाग ने लगाया रक्तदान शिविर, 108 रक्त यूनिट एकत्रितजुडो चैंपियनशिप में आर्यन ने जीता गोल्ड, प्रिंस ने रजत व अंजू ने कांस्य हासिल कियापंजाब की सर्वदलीय बैठक के बयान का कोई औचित्य नहीं: मुख्यमंत्री
राष्ट्रीय

गंगा के तटों और ऋषिकेश की स्वच्छता हम सभी के हाथों में:त्रिवेेन्द्र सिंह रावत

December 02, 2019 07:30 PM

ऋषिकेश, ओम रतूड़ी् 

ऋषिकेश मेयर श्रीमती अनिता ममगाई  का एक वर्ष का कार्यकाल सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के अवसर पर ऋषिकेश में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेेन्द्र सिंह रावत ने ऋषिकेश शहर के विकास के लिये अनेक घोषणायें की। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी का सहयोग रहा तो ऋषिकेश स्वच्छ और सुन्दर हो जायेगा। यहां पर देश विदेश से सतत पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। गंगा के तटों और ऋषिकेश की स्वच्छता हम सभी के हाथों में है।

संकल्प से लक्ष्य की ओर,मेयर ऋषिकेश का एक वर्ष का कार्यकाल सफलतापूर्वक सम्पन्न,समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेेन्द्र सिंह रावत, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने किया सहभाग, योग नगरी ऋषिकेश में एक योग विश्वविद्यालय होना चाहिये जिसके अन्तर्गत योग आयुर्वेद और योग का प्रशिक्षण विश्व से आने वाले विद्यार्थियों को दिया जा सके।

हमें अपने शहरों को स्वच्छ रखने के लिये यह संकल्प करना होगा कि हम प्लास्टिक और गंदगी सड़कों पर नहीं डालेंगे।मुख्यमंत्री ने 10 लाख रूपयें भरत मन्दिर पब्लिक स्कूल के बच्चों के फर्नीचर के लिये भेंट किया। पीडब्ल्यूडी के भवन का नवीनीकरण, खंडगाव और कृष्णनगर को नगर निगम में शामिल करना, ऋषिकेश में पार्किग की व्यवस्था पर भी चर्चा की। मुख्यमंत्री ने ऋषिकेश के विकास पर अपना भावी नीति पर भी चर्चा की घोषणायें की।

इस अवसर पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने ’’नगर निगम, ऋषिकेश के निर्वाचित बोर्ड ने सफलतापूर्वक अपना एक वर्ष का कार्यकाल पूर्ण किया है इस हेतु व्यक्तिगत रूप से मेयर श्रीमती अनिता ममगाई और निर्वाचित बोर्ड को बधाईयाँ दी। कहा कि उत्तराखण्ड राज्य माँ गंगा का उद्गम स्थल है और विश्व स्तर पर ख्यातिप्राप्त है तथा ऋषिकेश को तो प्राचीन काल से ही योग और ध्यान की नगरी के रूप में गरिमा व महिमा प्राप्त है। यहां पर विश्व के अनेक देशों से अध्यात्म, संस्कृति, संस्कार, तीर्थ सेवन के लिये पर्यटक आते है। उत्तराखण्ड के पर्यटन को वैश्विक पहचान दिलाने में ऋषिकेश की अहम भूमिका है।

ऋषिकेश शहर सभी की कार्य कुशलता एवं समर्पण से सर्वोत्तम शहर बनेगा, यहाँ का पर्यावरण, जल- जंगल- जमीन, प्राचीन संस्कृति को सहेजने तथा गंगा की पवित्रता को बनायें रखने हेतु हम सभी मिलकर कार्य करेंगे।’’अब हम सभी को स्वच्छ ऋषिकेश, कचरा मुक्त ऋषिकेश पर फोकस करना है। “हमारा कचरा हमारी जिम्मेदारी“ इस भाव के साथ आगे बढ़ना होगा। जब हम ’’हमरा शहर हमारी शान’’ इस भाव को समझेगे तभी हमारा शहर प्रगति करेगा।

स्वामी जी ने मुख्यमंत्री से कहा कि योग नगरी ऋषिकेश में एक योग विश्वविद्यालय होना चाहिये जिसके अन्तर्गत योग आयुर्वेद और योग का प्रशिक्षण विश्व से आने वाले विद्यार्थियों को दिया जा सके। अब शहर में जहां पर भी गार्बेज है वहां पर गार्डेन बनें, गार्बेज टू गार्डेन ताकि लोगों को खाली स्थानों पर कचरा डालने का मौका न मिले।

श्रीमती अनिता ममगाई ने कहा कि हमारे नगर निगम बोर्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों ने ऋषिकेश नगर निगम को विकास के पथ पर आगे बढ़ाया है। उन्होने यहां कि जनता का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि हमने एक वर्ष में विकास का रोड मेप तैयार करते हुुुये जनता और सरकार के सहयोग से रोड़ लाइट, सड़क की स्वच्छता और हरियाली के क्षेत्र में अद्भुत कार्य किया है। हमारी नगरपालिका, माननीय मुख्यमंत्री जी के सहयोग और मार्गदर्शन में सतत विकास कर रही।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पासपोर्ट धारकों को पासपोर्ट की समाप्ति तिथि से पहले भेजा जाएगा संदेश क्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं? बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना जांच के दायरे में करीब 20 हजार लोग, दिल्ली पुलिस कर रही है पड़ताल भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव जल होगा तो सब होगा: स्वामी चिदानन्द सरस्वती चिकित्सक को चिकित्सा ज्ञान के साथ व्यवहार कुशल होना भी जरुरी: प्रो. कांत फरवरी से अयोध्या में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 100008 कुंडीय श्री सीताराम महायज्ञ नागरिकता संशोधन विधेयक किसी के भी विरोध में नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती