ENGLISH HINDI Tuesday, August 11, 2020
Follow us on
 
पंजाब

जीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा

December 06, 2019 11:56 AM

फाजिल्का, मनोज नागपाल:
उत्तर रेलवे के जनरल मैनेजर के 6 दिसंबर को प्रस्तावित फाजिल्का रेलवे स्टेशन के दौरे को लेकर स्थानीय रेलवे प्रशासन एक पैर पर खड़ा प्रतीत हो रहा है। जीएम के स्वागत के लिए पलक पांवड़े बिछाए बैठे रेलवे प्रशासन ने स्थानीय रेलवे स्टेशन को इस तरह दुल्हन की तरह सजा दिया है कि रेलवे स्टेशन मेट्रो स्टेशन जैसा नजारा पेश कर रहा है।
चप्पे चप्पे पर रोशनी का प्रबंध किया गया है। स्टेशन की तरफ आने वाली सारी सडक़ें नई बना दी गई हैं, यहां तक कि आसपास के रेलवे क्रासिंग की तरफ आने वाली सडक़ें भी नई बना दी गई हैं। चूने से क्रासिंग के आसपास की लाइनों की रंगाई पुताई की गई है। पूरे स्टेशन का वाइट वॉश इस तरह किया गया है जैसे दीवाली पर किया जाता है। सफाई की तो पूछिये ही न कि आप को ढूंढने से भी गंदगी कहीं नजर नहीं आएगी। अकसर बंद रहने वाले प्रतीक्षालय व यात्री कक्ष चमका दिए गए हैं। गंदगी से अटे रहने वाले शौचालयों को लगता है कि हार्पिक उड़ेल उड़ेलकर साफ किया गया है। यहां पहुंच रहे जीएम की आंखों को पसंद आने वाली किसी वस्तु की कमी न रह जाए, इसके लिए अकसर बैठने के लिए बैंचों को तरसने वाले यात्रियों के लिए प्लेटफार्मों पर स्टील के नए बैंच लगा दिए गए हैं। दिव्यांगों के लिए स्टेशन में आने जाने के लिए रैंप की जो कमी थी, वो भी ताजा ताजा रैंप बनाकर दूर कर दी गई है। जीएम के आने की पूर्व संध्या पर पूरे प्लेटफार्मों की अच्छी तरह धुलाई की गई हैं और ताजा ताजा धुले प्लेटफार्म की तस्वीर खींची गई तो पानी की चमक मेें प्लेटफार्म और पूरा स्टेशन यूं नजर आ रहा था, मानो फर्श इटालियन मार्बल से बने हों। बहरहाल जीएम व उनके साथ आने वाले फिरोजपुर मंडल के डिवीजनल रेलवे मैनेजर और अन्य अधिकारियों के यहां आगमन से लेकर उनकी वापसी तक तो ऐसा ही फ्रेश फेे्रश माहौल दिखने वाला है, उनके जाने के बाद क्या हाल होगा, यह सीन बरकरार रहेगा या नहीं, इसकी आशंका आम लोगों के मनों में बनी हुई है और स्टेशन पर आने वाला हर यात्री यही दुआ कर रहा है कि जीएम साहब आप रोज आया करो।

ब्यूटीफिकेशन के लिए रेलवे प्रशासन को पूरे नंबर
रेलवे प्रशासन द्वारा मेट्रो स्टेशन की तरह सजाए गए स्थानीय रेलवे स्टेशन को देखकर अगर नंबर देने की बात की जाए तो उसमें रेलवे प्रशासन को पूरे नंबर दिए जा सकते हैं। जीएम के स्वागत के मामले में तो रेलवे प्रशासन ने खुद को अब तक के सभी प्रयासों के मामले में नंबर वन साबित कर दिया है, लेकिन कहते हैं न कि नंबर वन बनना तो आसान होता है, लेकिन हमेशा नंबर वन बने रहना मुश्किल होता है, इसलिए अब मिले शतप्रतिशत नंबरों का मजा तभी है जब रेलवे प्रशासन अपने बॉस के आगमन के लिए बिछाए पलक पावंड़ों की तरह अपने भगवान यानी ‘ग्राहक राजा’ के लिए भी ऐसे ही सेवाएं देता रहे और हमेशा नंबर वन बना रहा। बहरहाल रेलवे अधिकारियों के लिए तो आज जीएम आगमन का दिन ही सबसे बड़ा टास्क है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा ‘ऐजूकेशन हब्ब’ के तौर पर विकसित होगा मोहाली, यूनिवर्सिटी की स्थापना के लिए ‘लैटर ऑफ इनटैंट’ जारी सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीद शहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करना रेहड़ी—फड़ी वालों ने कब्जा कर लोगों के लिए की परेशानी खड़ी, ना मास्क— ना ही सोशल डिस्टेंसिंग सीचेवाल मॉडल की तर्ज पर 15 गांवों की नुहार बदलने का लक्ष्य मेडीकल अधिकारियों के 323 पदों के लिए इंटरव्यू द्वारा की जायेगी भर्ती पुलिस द्वारा कार्यवाही, 400 किलो लाहन, पाँच किश्तियां बरामद