ENGLISH HINDI Thursday, October 01, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
हलवाई अब मिठाई के डिब्बों पर लिखना होगा बेस्ट बिफोर यूज हरियाणा मेें व्यापक प्रशासनिक फेरबदल, विजय वर्धन नए मुख्य सचिव, पाँच आईएएस , 9 एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेशश्री गुरू तेग़ बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के मौके पर हर गांव में 400 पौधे लगाने की मुहिम की शुरूहरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा सेवानिवृतमैरिज पैलेस, होटल और रैस्टोरैंट्स की सालाना लाइसेंस फीस व तिमाही अनुमानित फीस माफ को मंज़ूरीट्यूबवेल लगवाने की मांग को लेकर ई.ओ से मिले, आश्वासन मिलने से जगी उम्मीदघरेलू एकांतवास में तकरीबन 47,502 मरीज़ स्वस्थ हुएमोगा में हथियारबंद लुटेरों के ख़तरनाक गिरोह का पर्दाफाश
चंडीगढ़

होम्योपैथी से दिल के सुराख का ईलाज अब संभव: डॉ अनुकांत गोयल

January 14, 2020 07:37 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज

 होम्योपैथी की चर्चा होते ही जहन में छोटी - छोटी मीठी गोलियाों का ख्याल अक्सर आता है, परंतु चंडीगढ़ के जानेमाने माहिर होम्योपैथी डॉक्टर अनुकांत गोयल जो सैक्टर 46 मे अपना निजी क्लिीनिक चलाते हैं, ने एक अहम जानकारी देकर सबको चौंका दिया है कि होम्योपैथी से दिल के सुराख का ईलाज किया जा सकता है।                                  इस बात को प्रमाणित करते हुए डॉक्टर अनुकांत गोयल ने बताया कि दो मरीज जिनमें एक बच्चा महज एक साल का था जबकि एक महिला जो कि लगभग चालीस साल की थी, दोनों का सफलतापूर्वक इलाज किया। बच्चे के दिल में 7 मिली मीटर के दो सुराख थे और एक साल की दवा से एक सुराख बंद हो गया जबकि दूसरा तीन मिलीमीटर का रह गया।जबकि अगले साल तक वो भी बंद हो गया तथा बच्चा पूरी तरह स्वस्थ हो गया। दूसरी तरफ चालीस वर्ष की महिला ने भी केवल दो साल की दवा से पूरी तरह से रोग से मुक्ति पा ली।                                                                              इसके अलावा अमृतसर से भी दो बच्चों जिनमें से पहला अभी महज एक साल और दूसरा पांच आयु वर्ष का है उसका भी ईलाज डाक्टर साहब कर रहे है। कमाल की बात है कि दोनों को किसी ने पी.जी.आई से रिकमेंड किया है। जब डाक्टर साहब से दिल में सुराख के ईलाज से संबंधित खर्च के बारे मे पूछा तो मुस्कुराते हुए बताया कि बहुत मामूली है मात्र हजार से बारह सौ रूपये महीना तक।                                                                                                                         उन्होंने बताया कि मरीज का रिपोर्ट कार्ड देखकर ही ईलाज का खर्च तय होता है,फिर भी अधिकतम खर्च की सीमा यही है जबकि एलोपैथी मे ये खर्चा लाखों रुपए तक चला जाता है। डॉक्टर गोयल ने बताया कि हमारी होम्योपैथी के पास बहुत से असाध्य रोगों का बेहतरीन ईलाज मौजूद है ओर अब लोगों मे इसके प्रति जागरूकता बढ़ने लगी है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
पूर्ण विधि-विधान और मंत्रोचार से रुद्राक्ष के पौधे लगाए स्पॉट लाइट 24 चैनल मीडिया करेगा कोरोना योद्धाओं का सम्मान कार्पोरेट घरानों को बेच दिए किसानों के हित, कांग्रेस नेता परमजीत सिंह का मोदी सरकार पर जोरदार हमला भारत में हर वर्ष मुंह के कैंसर के सवा लाख नए केस, मुंह के कैंसर के 80 प्रतिशत केसों का कारण तंबाकू: डा. राजन साहू प्रसिद्ध सूफी गायक की रचना लॉकडाउन -21-मैं से मसीहा- लॉन्च चंडीगढ़ एन.एच.एम कर्मचारी संघ ने प्रशासनिक निदेशक पोस्ट पर उठाये सवाल गुरुद्वारा नानकसर साहिब में "ज्योति-जोत-दिवस" पाठ का डाला गया भोग ओयो ने चंडीगढ़ वेन्यू पार्टनर के आरोपों से किया इनकार भाषा का कोई मजहब नहीं होता : इरशाद कामिल चंडीगढ़ में शिवसेना की नई कार्यकारणी गठित, मोहित शर्मा महासचिव चुने गए