ENGLISH HINDI Thursday, October 01, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
हलवाई अब मिठाई के डिब्बों पर लिखना होगा बेस्ट बिफोर यूज हरियाणा मेें व्यापक प्रशासनिक फेरबदल, विजय वर्धन नए मुख्य सचिव, पाँच आईएएस , 9 एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेशश्री गुरू तेग़ बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के मौके पर हर गांव में 400 पौधे लगाने की मुहिम की शुरूहरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा सेवानिवृतमैरिज पैलेस, होटल और रैस्टोरैंट्स की सालाना लाइसेंस फीस व तिमाही अनुमानित फीस माफ को मंज़ूरीट्यूबवेल लगवाने की मांग को लेकर ई.ओ से मिले, आश्वासन मिलने से जगी उम्मीदघरेलू एकांतवास में तकरीबन 47,502 मरीज़ स्वस्थ हुएमोगा में हथियारबंद लुटेरों के ख़तरनाक गिरोह का पर्दाफाश
हरियाणा

आर्गेनिक उत्पाद वर्तमान समय की बड़ी जरूरत

January 17, 2020 10:01 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
आर्गेनिक उत्पादों की प्रमाणिकता के लिए जल्द ही एक एंजेंसी स्थापित की जाएगी। आर्गेनिक प्रमाणिकता एंजेंसी को विश्वविद्यालय और विभाग के माध्यम से संचालित किया जाएगा और प्रदेश के किसानों के आर्गेनिक उत्पादों के लिए प्रमाण पत्र दिए जांएगें। गन्नौर की मंडी में किसानों की एफपीओ के लिए अलग प्लाट अलॉट करने के लिए बिडींग करवाई जाएगी। हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जय प्रकाश दलाल ने कहा कि आने वाला बजट प्रदेश के किसान और कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए लाभकारी साबित होगा। कृषि मंत्री चौधरी हिसार में चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय के सभागार में बजट पूर्व संमंत्रण कार्यक्रम में उपस्थित कृषि क्षेत्र के लोगों को संबोधित कर रहे थे।
कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश के बहुत से किसान आर्गेनिक व प्राकृतिक खेती की ओर बढ़े हैं लेकिन आर्गेनिक खेती से पैदा होने वाले उत्पादों को बेचने के लिए प्रमाणिकता की बहुत अधिक जरूरत है। प्रदेश के किसानों ने भी प्रमाणिकता को लेकर मांग की है। उन्होंने बताया कि आर्गेनिक एवं प्राकृतिक खेती करने वाले किसानों की सुविधा के लिए प्रदेश में जल्द ही एक एंजेसी स्थापित की जाएगी, जो आर्गेनिक उत्पादों को प्रमाणिकता देगी। उन्होंने कहा कि इस कार्य में चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय भी मदद करेगा।
उन्होंने कहा कि फसल भंडारण के कार्य में किसान को शामिल करके उसकी आमदनी को भी बढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि आगामी बजट में किसानों को आधार मानकर रोजगारपरक नीति लाई जाएगी। संसाधनों को बढ़ाकर रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाना सरकार की प्राथमिकता रहेगी। हरियाणा किसानों का प्रदेश है और किसानों से संबंधित परेशानियों को किसान ही बता सकता है। इसी सोच के साथ मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बजट पूर्व संमंत्रण कार्यक्रम के आयोजन की पहल की है।
उन्होंने कहा कि दिल्ली के तीन ओर हरियाणा की सीमाएं लगती हैं। सरकार इस प्रयास में है कि दिल्ली के आस-पास हरियाणा के अलग-अलग स्थानों पर ऐसे केंद्र स्थापित किए जाएं जहां से दिल्ली एनसीआर में उत्पादों की सप्लाई हो और प्रदेश के किसान अपने उत्पादों को इन केंद्रो तक पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि अकेले दिल्ली में मसालों का 30-40 हजार करोड़ का व्यापार है। इसके अतिरिक्त दैनिक प्रयोग की वस्तुओं का भी व्यापार यहां बहुत बड़ा है। ऐसे में प्रदेश के किसान और कृषि जगत से जुड़े सभी संस्थानों को दिल्ली में रहने वाले लोगों की संख्या को ध्यान में रखते हुए उत्पादन को प्राथमिकता दें। उन्होंने पानी की कमी पर चिंता जताते हुए कि प्रदेश में पानी बचाने के कार्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे में सभी संबंधित संस्थानों को कम पानी में खेती व अन्य कार्य करने के लिए एक साथ आकर काम करना होगा।
कृषि मंत्री ने कहा कि बजट में पशु नस्ल सुधार के कार्य के लिए राशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। सरकार की कोशिश है कि पशु पालन की ओर विशेष ध्यान देते हुए नस्ल सुधार किया जाए और प्रदेश में दुध उत्पादन को बढ़ावा दिया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बरानी जमीनों को लीज पर लेकर सोलर आधारित बिजली पैदा करने की योजना है।
बैठक में कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने कहा कि आगामी बजट में मशरूम कोल्ड स्टोर जैसी अनेक प्रकार की व्यवस्थाओं को शामिल करने के प्रयास किए जांएगे।। उन्होंने बताया कि प्रदेश की गन्ना मिलों को सब्सिडी में शामिल में किया गया है ताकि किसानों को समय पर भुगतान हो सके।
इससे पूर्व वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टी.वी.एस.एन. प्रसाद ने बजट को लेकर विस्तार से बात रखी और निर्यात केंद्र के बारे में दिए गए सुझाव पर कहा कि हिसार के हवाई अड्डों पर दूसरा रनवे जल्द ही तैयार हो जाएगा और यहां ड्राई पोर्ट विकसित करने की कोशिश की जाएगी ताकि प्रदेश के किसान अपने उत्पादों को आसानी से निर्यात कर सके। उन्होंने उपस्थित किसानों से हिसार हवाई अड्डों के माध्यम से निर्यात की जा सकने वाली चीजों के बारे में सुझाव भी मांगा।
इससे पूर्व हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर के.पी. सिंह ने कार्यक्रम में पहुंचने पर कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे.पी. दलाल एवं वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि देश का अग्रणी हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय कृषि सुधार की दिशा में केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति तथा सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में बढ़चढकऱ अपना योगदान देगा तथा जो भी जिम्मेवारी उन्हें दी जाएगी उसका निर्वहन करने में सभी जरूरी कदम उठाए जाएंगे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
हरियाणा मेें व्यापक प्रशासनिक फेरबदल, विजय वर्धन नए मुख्य सचिव, पाँच आईएएस , 9 एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा सेवानिवृत चकबंदी के लिए गांव-गांव जाएंगे नायब तहसीलदार नकली घी— तेल बनाकर बेचने वालों पर कार्रवाई 14 सितम्बर से 28 सितम्बर तक हिंदी पखवाड़ा मनाया आरईआरए हिमाचल द्वारा दिए गए निर्देशों, निर्णय के विरूद्ध अपील सुनवाई के लिए अधिकृत हरियाणा: पुलिस ने 3 बच्चों सहित चार लापता को परिवार से मिलवाया 25 आईपीएस और 9 एचपीएस अधिकारियों के स्थानांतरण सरकारी मंडियां बंद नहीं होंगी, प्रत्येक जिले में होगी विशेष ‘कृषि अदालत’ की स्थापना: मुख्यमंत्री होम आइसोलेशन दौरान चिकित्सा विभाग की टीमें नियमित करेंगी जांच