ENGLISH HINDI Saturday, September 19, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव

January 17, 2020 10:08 AM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) भारत की 16वीं जनगणना का कार्य वर्ष 2021 में किया जाना है जिसको लेकर हिमाचल प्रदेश में प्रारंभिक तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। मुख्य सचिव अनिल कुमार खाची ने आज यहां राज्य सचिवालय में जनगणना वर्ष 2021 के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए गठित राज्य स्तरीय समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता की।
अनिल कुमार खाची ने कहा कि जनगणना कार्य में पारदर्शिता और सही जानकारी के संकलन के लिए राज्य में जनगणना 2021 का अधिकतम कार्य मोबाईल ऐप के माध्यम से संपादित कराया जाएगा। जानकारियों का संकलन आनलाईन और आफलाईन दोनों तरीकों से किया जा सकेगा। फरवरी, मार्च माह में उपायुक्तों, जिले के अन्य अधिकारियों को जनगणना के कार्य का विस्तृत प्रशिक्षण दिया जाएगा।
निदेशक जनगणना ने सूचित किया कि जनगणना कार्यालय द्वारा हिमाचल प्रदेश में 18 मास्टर ट्रेनर को नवम्बर 2019 में प्रशिक्षण दिया जा चुका है, जो मार्च 2020 में जिला स्तर पर सभी जिलों में लगभग 418 फील्ड ट्रेनर को प्रशिक्षण देंगे। इनके द्वारा अप्रैल माह में राज्य के लगभग 19500 प्रगणकों व पर्यवेक्षको को जनगणना 2021 का कार्य करने के लिए प्रशिक्षित दिया जाएगा।
निदेशक जनगणना ने जानकारी दी कि प्रगणक अपने मोबाईल का उपयोग कर मोबाईल ऐप के माध्यम से जनगणना का कार्य सम्पादित करेंगे। मोबाईल के माध्यम से जनगणना कार्य करने वाले प्रगणकों को लगभग 25 हजार और पेपर पर कार्य करने वाले प्रगणकों को लगभग 17 हजार रूपए मानदेय डी.बी.टी. माध्यम से ही उनके खाते में भेजा जाएगा। मोबाईल ऐप से जनगणना का कार्य संपादित होने से जनगणना संबंधी आंकड़े शीघ्रता से जारी किए जा सकेंगे।
सुशील कुमार कप्टा ने बताया कि राज्य में जनगणना 2021 के प्रथम चरण में 16 मई से 30 जून 2020 तक मकानों की गणना की जाएगी और उन्हें सूचीबद्ध किया जाएगा। उपरोक्त कार्य के साथ-साथ राष्ट्रीय जनगणना रजिस्टर को भी अपडेट किया जाएगा। जनगणना के संपूर्ण कार्य का पर्यवेक्षण वेब पोर्टल के माध्यम से किया जाएगा। राजस्व विभाग और अन्य विभागों के अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया है। इस कार्य के लिए हिमाचल प्रदेश में फील्ड ट्रेनर्स, प्रगणकों व पर्यवेक्षकों की नियुक्ति का कार्य जिला स्तर/चार्ज स्तर पर किया जाएगा।
मुख्य सचिव ने राज्य के सभी लोगो से अपील की है कि वे इस राष्ट्रीय कार्य में बढ़-चढ़ कर भाग लें, प्रगणकों को सही व पूर्ण जानकारी दें तथा जनगणना कार्य में पूर्ण सहयोग दें। उन्होने कहा कि जनगणना सिर्फ महिलाओं और पुरूषों की गिनती ही नहीं है बल्कि देश के विकास में गति लाने का भी एक माध्यम है तथा सरकारें इन आंकड़ों पर विकास से सम्बन्धित सभी योजनाओं का निर्धारण करती है।
उन्होंने कहा कि जनगणना 2021 के सभी आंकडे़ देश की जनता की आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक दृष्टि से सरकार को नीति निर्धारण करने में सहायक सिद्ध होंगे। मुख्य सचिव ने जनगणना निदेशालय को निर्देश दिए कि सभी प्रगणकों को प्रशिक्षण प्रभावी रूप से दिया जाये ताकि सही जानकारी एकत्रित की जा सके।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सुशासन और जीरो टाॅलरेंस आन करप्शन सरकार की प्राथमिकता मुख्यमंत्री रावत वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री अनचाहे गर्भ का खतरा कम करता है आपातकालीन गर्भनिरोधक राष्ट्र की नियति युवाओं के हाथ में: उपराष्ट्रपति जी-20 देशों के मंत्रियों की बैठक में कोविड-19 से उत्पन्न समस्याओं का हल मिलकर ढूंढने की जरूरत राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेश अस्‍पताल में भर्ती प्रत्‍येक कोविड रोगी की ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता के लिए जिम्‍मेदार पुरानी शिक्षा व्यवस्था बदलना उतना ही आवश्यक, जितना खराब हुआ ब्लैकबोर्ड: प्रधानमंत्री केंद्र से जम्मू-कश्मीर में पंजाबी का सरकारी भाषा का रुतबा तुरंत बहाल करने की माँग