ENGLISH HINDI Saturday, September 19, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च

January 17, 2020 10:25 AM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो द्वारा एक संचार उपग्रह जीसैट-30 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया है। इस सैटेलाइट से भारत में संचार क्रांति आएगी। साल 2020 में इसरो का यह पहला मिशन है। इससे सरकारी और प्राइवेट कंपनियों को संचार लिंक प्रदान करने की क्षमता बढ़ेगी। इसरो अनुसार सैटेलाइट का इस्तेमाल व्यापक रूप से वीसैट नेटवर्क, टेलीविजन अपलिंकिंग, टेलीपोर्ट सेवाएं, डिजिटल सैटलाइट खबर संग्रहण (डीएसएनजी), डीटीएच टेलीविजन सेवाओं के साथ जलवायु परिवर्तन को समझने और मौसम की भविष्यवाणी करने के लिए किया जाएगा।
विशेषज्ञों अनुसार महज एक उपग्रह की लॉन्चिंग के लिए पूरी जीएसएलवी-एमके-3 तकनीक को अपनाने में समय लगता है। इस कारण उन देशों की अंतरिक्ष एजेंसियों से संपर्क किया जाता है जो इस तरह की तकनीक से उपग्रह को लॉन्च कर रही हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और यूरोपियन स्पेस एजेंसी दूसरे देशों के मिशन को अपने स्पेस सेंटर से अंजाम देती हैं।
इसका वजन करीब 3100 किलोग्राम बताया जा रहा है। इसरो अनुसार इस सैटेलाइट की मदद से टेलीपोर्ट सेवा, डिजिटल सैटेलाइट न्यूज गैदरिंग, डीटीएच टेलिविजन सेवा, मोबाइल सेवा कनेक्टिविटी जैसे कई सुविधाओं को बेहतर करने में मदद मिलेगी। कु-बैंड सिग्नल से पृथ्वी पर चल रही गतिविधियों को पकड़ा जा सकता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सुशासन और जीरो टाॅलरेंस आन करप्शन सरकार की प्राथमिकता मुख्यमंत्री रावत वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री अनचाहे गर्भ का खतरा कम करता है आपातकालीन गर्भनिरोधक राष्ट्र की नियति युवाओं के हाथ में: उपराष्ट्रपति जी-20 देशों के मंत्रियों की बैठक में कोविड-19 से उत्पन्न समस्याओं का हल मिलकर ढूंढने की जरूरत राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेश अस्‍पताल में भर्ती प्रत्‍येक कोविड रोगी की ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता के लिए जिम्‍मेदार पुरानी शिक्षा व्यवस्था बदलना उतना ही आवश्यक, जितना खराब हुआ ब्लैकबोर्ड: प्रधानमंत्री केंद्र से जम्मू-कश्मीर में पंजाबी का सरकारी भाषा का रुतबा तुरंत बहाल करने की माँग