ENGLISH HINDI Wednesday, February 19, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मूर्धन्य पत्रकार संतोष कुमार की जयंती पर 'पत्रकारिता वर्तमान संदर्भ में' विषय पर परिचर्चा 25 कोभाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास व वोट के नाम पर छला: संजय रतनलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने मनाया स्थापना दिवस 8वीं मिस्टर चंडीगढ़ चैम्पियनशिप 23 फरवरी को , एस. डी. कालेज सैक्टर 32 मे होगा आयोजनहिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंगसरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरीडेराबस्सी— बरवाड़ा रोड पर एक फैक्ट्री में आग लगीपरमजीत कला, संस्कृति और खेल प्रकोष्ठ के अध्यक्ष नियुक्त
पंजाब

स्कूलों में खाली पड़े पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करे सरकार: आप

January 24, 2020 10:10 AM

चंडीगड़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार से मांग की है कि राज्य के सरकारी स्कूलों में 27 हजार से अधिक खाली पड़े पदों पर भर्ती प्रक्रिया तुरंत शुरू किया जाए, जिससे गरीबों, दलितों समेत आम परिवारों से सम्बन्धित और सरकारी स्कूलों पर निर्भर बच्चे अच्छी शिक्षा हासिल कर सकें।
‘आप’ द्वारा जारी बयान में पार्टी की कोर समिति के चेयरमैन और विधायक प्रिंसीपल बुद्ध राम और विपक्ष की उप नेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके ने कहा कि पंजाब में लगभग 70 हजार ईटीटी और बी एड -टैट पास की योग्यता रखने वाले अध्यापक बेरोजगार हैं, जो पिछली बादल सरकार के समय से आज तक नौकरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं। दूसरी तरफ पंजाब के सरकारी स्कूलों में 27 हजार से अधिक ईटीटी और बी.एड. के पद खाली पड़ें हैं। जिस का क्षतिपूर्ति सरकारी स्कूलों में पढ़ते आम परिवारों के बच्चों को भुगतना पड़ रहा है।
प्रिंसीपल ने कहा कि घर-घर सरकारी नौकरी के वायदे से सत्ता में आई कैप्टन सरकार खाली पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों के साथ भद्दा मजाक कर रही है। प्रिंसीपल बुद्ध राम ने कहा कि 15000 से अधिक योग्य ईटीटी अध्यापकों के लिए सिर्फ 500 पदों को मंजूरी इस बात का सबूत है, जबकि सरकारी स्कूलों में ईटीटी के 12000 से अधिक पद खाली पड़े हैं। यही सलूक बी एड टैट पास अध्यापकों के साथ किया जा रहा है, जो पिछले 4 महीने से नौकरियों के लिए पक्का मोर्चा लगाए बैठे हैं।
विधायका माणूंके ने कहा कि एक तरफ कैप्टन सरकार सरकारी स्कूलों को जरुरी अध्यापक और दूसरा स्टाफ न दे कर एक साजिश के अंतर्गत गरीब, दलितों और आम घरों के बच्चों को अच्छी शिक्षा से वंचित रख रही है, दूसरी तरफ हजारों की संख्या में एकसुर और एकजुट संघर्ष कर रहे योग्य अध्यापकों के लिए बहुत कम संख्या में असामियां निकाल कर बेरोजगार अध्यापकों के संघर्ष में दरार डालने का यत्न कर रही है। जो उस सरकार को बिल्कुल नहीं अच्छा लगता, जिस ने नौजवानों के साथ नौकरियों का लिखित वायदा किया हो।
‘आप’ विधायकों ने अध्यापकों समेत बाकी सरकारी नौकरियों के लिए उम्र की सीमा भी 37 साल से बढ़ा कर 42 साल करने की मांग की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरी डेराबस्सी— बरवाड़ा रोड पर एक फैक्ट्री में आग लगी नम्बरदारों का मानभत्ता 2000 रुपए करने का फैसला चार सरकारी स्कूलों का नाम स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के नाम पर रखने की मंजूरी लौंगोवाल कांड के बाद शिक्षा विभाग सहित सिविल, पुलिस, परिवहन हरकत में अमनदीप कौर को बहादुरी पुरस्कार और मुफ़्त शिक्षा देने का ऐलान 4504 स्कूली वाहनों की जांच; 1649 के चालान और 253 वाहनों को किया जब्त रिश्वत लेते हुए सी.डी.पी.ओ. सेवक समेत गिरफ़्तार संगरूर के लौंगोवाल में स्कूल वैन को लगी आग, 4 मासूम जिन्दा जले, मुख्यमंत्री ने दिए घटना की मैजिस्ट्रेट जांच के आदेश जनगणना 2021 की सफलता के लिए राज्य स्तरीय काँफ्रेंस