ENGLISH HINDI Tuesday, September 22, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
विद्यार्थियों को अपने माता-पिता की लिखित सहमति के बाद ही कंटेनमैंट जोन से बाहर स्कूल जाने की आज्ञाबैंक ग्राहकों को ठगने वाले साईबर घोटालेबाजों के दो गिरोहों का पर्दाफाश, 6 गिरफ्तारलुधियाना जिला क्रिकेट एसो. चुनाव 17 वर्ष बाद 11 अक्तूबर कोप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आई, हो रही है अब फसली नुकसान की भरपाईखांसी, बुखार, जुकाम जैसे लक्षण वाले व्यक्ति हेल्पलाईन नम्बर 104 या 1077 पर करें सम्पर्क5 राज्यों का कुल सक्रिय मामले 60 फीसदी, नए मामले 52 फीसदी और रिकवरी दर 60 फीसदीजम्मू कश्मीर को फिर से धरती का स्वर्ग और भारत माता के मुकुट की मणि बनाएँ: राष्ट्रपति कोविन्दकांग्रेस ने जीरकपुर में ट्रेक्टर रैली आयोजित कर कृषि विधेयकों पर विरोध जताया
हरियाणा

पंजाब की सर्वदलीय बैठक के बयान का कोई औचित्य नहीं: मुख्यमंत्री

January 24, 2020 10:30 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पंजाब राज्य की सर्वदलीय बैठक में एसवाईएल को लेकर लिए गए निर्णय के संबंध में कहा कि मुझे आशा है कि अब सुप्रीम कोर्ट का निर्णय जल्द ही आ जाएगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के एग्जिक्यूशन ऑर्डर में इतना ही था कि आपसी सहमति से कोई न कोई रास्ता निकाला जाए।
मुख्यमंत्री पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा राज्य को आपसी समझदारी से सौहार्दपूर्ण समाधान निकालकर एसवाईएल का निर्माण करने के लिए कहा था, लेकिन पंजाब की सर्वदलीय बैठक में एक यह बात निकल कर आ रही है कि उन्होंने (पंजाब) ने अपनी स्टेट का निर्णय तो ले लिया है और जब यह निर्णय सुप्रीम कोर्ट में जाएगा तो अब निश्चित रूप से सुप्रीम कोर्ट अपना निर्णय जल्द देगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके (पंजाब) किसी भी प्रकार के बयान का कोई औचित्य नहीं है, क्योंकि एक समझौता हुआ है और समझौते को मान्यता मिली हुई है तथा सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय भी दिया हुआ है, अब केवल सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को एग्जिक्यूट करवाने के लिए स्वयं सुप्रीम कोर्ट ने एक अपना एग्जिक्यूशन ऑर्डर देना है, लेकिन अब लगता है कि पंजाब सौहार्दपूर्ण समाधान के फैसले से बैकआउट कर गया है, तो निश्चित रूप से सुप्रीम कोर्ट अब जल्द निर्णय देगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पानी मिलना है या नहीं मिलना है, एसवाईएल बननी है या नहीं बननी है, इन बातों का निर्णय हो चुका है। उन्होंने कहा कि अब केंद्र सरकार की ओर से भी सुप्रीम कोर्ट में एक एफिडेविट जाएगा कि हम प्रयत्न कर चुके हैं और सहमति नहीं बन रही है, अब तो केवल किस प्रकार से कौन बनाएगा, इस पर बात होनी है।
एक अन्य प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने कहा कि एसवाईएल को लेकर अब तक जो समय बर्बाद हो रहा था, वो अब नहीं होगा और इसका लाभ निश्चित रूप से हरियाणा को मिलेगा।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
सरकारी मंडियां बंद नहीं होंगी, प्रत्येक जिले में होगी विशेष ‘कृषि अदालत’ की स्थापना: मुख्यमंत्री होम आइसोलेशन दौरान चिकित्सा विभाग की टीमें नियमित करेंगी जांच बीएसएनएल का बेड़ा गर्क कर रहे अधिकारी, महीनों से सैकड़ों फोन-इंटरनेट बंद निजी सुरक्षा एजेंसियों की लाइसेंस वैधता को 31 दिसंबर तक बढ़ाया कठिन हालातों में भी हार न मानने का संदेश देती सुराही : चौटाला एक आईएएस अधिकारी और पांच एचसीएस अधिकारियों कोअतिरिक्त कार्यभार अवैध रूप से यमुना से रेत ले जाते चार डम्परों को पकड़ा कार से 90 किलोग्राम गांजा बरामद, दो व्यक्ति गिरफ्तार हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कोरोना रिपोर्ट फिर पॉजिटिव आई पंचकूला: अब तक का सबसे बड़ा कोरोना ब्लास्ट, 236 नए कोरोना संक्रमित