ENGLISH HINDI Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
 
चंडीगढ़

जीएसटी पालन और चुनौतियां विषय पर कार्यशाला का आयोजन

February 13, 2020 10:49 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
भारतीय उद्योग परिसंघ द्वारा एमएसएमई की भलाई के लिए जीएसटी का पालन और चुनौतियां विषय पर चंडीगढ़ में कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए चंडीगढ़ और पंचकूला के जीएसटी चीफ कमिश्नर अनिल कुमार जैन ने कहा कि 2017 में जीएसटी को आरंभ करने के बाद से ही सरकार ने जीएसटी के मामले में उद्योगों की मदद के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जिसका नतीजा है कि कर आधार बढ़ा है और राजस्व का विस्तार हुआ है। जीएसटी काउंसिल जीएसटी का पालन करवाने के लिए इसे आसान बना रही है और इसके तहत कर को कम किया गया, फिजिकल कॉनटेक्ट को कम किया गया जिससे लाभ यह हुआ कि कर आधार बढ़ा है। यह जानना रोचक है कि जनवरी 2020 में कुल कर 1 लाख करोड़ एकत्रित किया गया है जो किसी भी माह का सबसे अधिक कर है। जीएसटी का सही पालन करवा कर इसमें आगे और बढ़ोत्तरी हो सकती है।
पीआर कमिश्नर (ऑडिट) पंचकूला तथा पीआर एडीजी एनएसीआईएन चंडीगढ़ अनिल कुमार गुप्ता ने कहा कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेशन रिटर्न फाईल करने की डेड लाईन को बढ़ा रहा है और उद्योगों की सुविधा केलिए रिटर्न दाखिल करने को आसान बना रहा है। जीएसटीएन नेटवर्क के सामने आने वाला मुश्किलों पर प्रकाश डालते हुए गुप्ता ने कहा कि जीएसटी प्रौद्योगिकी आधारित टैक्सेशन सिस्टम है और ऐसे में स्थिर नेटवर्क सबसे बड़ी चुनौती है।
चंडीगढ़ के सीजीएसटी एडिशनल कमिश्नर राजन दत्त ने कहा कि उत्तरी क्षेत्र जिसमें चंडीगढ़, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश शामिल हैं देश मेंं जीएसटी का पालन करने में देश में सबसे उपर आने वाला क्षेत्र है। उन्होंने कहा कि सीबीआईसी उद्योगों के सामने आने वाली पालन संबंधि चुनौतियों को हल करने के लिए हमेशा साथ खड़ी है और व्यापार को बैलेंस रखने, कर एकत्रित करने और इसे आसान बनाने, फै्रंडली टैक्स एडमिनस्टे्रशन के लिए यह कार्य करता है।
सीआईआई चंडीगढ़ के चेयरमैन सर्वजीत सिंह ने कहा कि जीएसटी भारत के इनडायरेक्ट टैक्सेशन सुधारों में एक क्रांतिकारी कदम साबित हुआ है और इसका वृद्घि, मुद्र स्फिति, राजकोषीय व्यवहार्यता तथा प्रतिस्पर्धा पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है। उन्होंने बताया कि बीते 3 साल में जीएसटी का सही पालन करवाने और इसके बारे में समझाने के लिए टीयर 2 और टीयर 3 शहरों में भी विभिन्न सत्र, कार्यशाला, और ट्रेनिंग कार्यक्रम आयोजित किए गए।
कंपनी सेक्रेटरी और टैक्स एक्सपर्ट संजय मल्होत्रा कहा कि जीएसटी कर व्यवस्था के शुरुआती दो साल अनुपालन और कार्यान्वयन पर फोकस रहे क्योंकि सरकार का उद्देश्य जीएसटी व्यवस्था में सुचारु परिवर्तन के लिए उद्योग को साथ लेकर चलना था। कुछ छोटी-मोटी समस्याओं को छोड़कर अब सभी को जीएसटी रिटर्न के मामले में सजग और सावधान रहने की जरूरत है और उन्हें फर्जी आईटीसी की स्थिति में सीजीएसटी नियमों के अनुरूप दंड भी दिया जा सकता है। कर दताओं को व्यापार की विभिन्न श्रेणियों के लिए ई इनवॉयसिंग टूल को भी लागू करना चाहिए। इससे रिटर्न दाखिल करने में होने वाली गलतियों की संभावना कम होगी।
ग्रांट थॉर्नटोन इंडिया एलएलपी के पार्टनर किशन अरोड़ा ने कहा कि जीएसटी एक बहुत बड़ा सुधार था जिसने बिजनेस सिस्टम में पालन होने के लिए अपना समय लिया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
वाल्मीकि आश्रम में की शिव परिवार की स्थापना सान्या शर्मा बनना चाहती है डॉक्टर, हासिल किए 92 फीसदी अंक गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल राम दरबार स्कूल में फलदार पौधे लगाए, प्रदीप छाबड़ा भी पहुंचे कोरोना महामारी से बचने के लिए मास्क सैनिटाइजर और 2 गज की दूरी जरूरी पौधारोपण....ताकि धरती हरी भरी रहे सावन में प्रवासी चिड़िया करतीं चीं..चीं कोरोना योद्धाओं को पुरस्कार देकर अपने जन्मदिन पर किया सम्मानित परीक्षाएं लेने के फैसले विरुद्ध ‘आप’ विद्यार्थी विंग ने किया रोष प्रदर्शन बिजली विभाग का कारनामा: भुगतान तिथि वाले दिन भेजे जा रहे हैं बिल पेड़ों के बिना जीवन नहीं, पेड़ ही जीवन है, पेड़ लगाओ जीवन बचाओ