ENGLISH HINDI Saturday, April 04, 2020
Follow us on
 
हरियाणा

पुलवामा हमले की बरसी पर राहुल गांधी का ट्वीट शर्मनाक: मलिक

February 15, 2020 08:27 AM

गुरुग्राम, फेस2न्यूज:
पुलवामा हमले की बरसी पर राहुल गांधी ने शर्मनाक ट्वीट कर एक बार फिर घाव हरे कर दिए हैं। देश की बड़ी पार्टी के बड़े नेताओं को इस तरह के ट्वीट या बयान पूरी गरिमा में रहते हुए करने चाहिए। इस मोके पे मालिक ने अपने वः अपनी पार्टी की ओर से सभी शहीदों को श्रधांजलि देते हुए कहा कि राहुल गांधी इस तरह ट्वीट बिना सोचे-समझे और बिना इसकी गंभीरता जानें कर देते हैं। यह बात शुक्रवार को भाजपा प्रदेश प्रवक्ता रमन मलिक ने कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस तरह के ट्वीट से ही चर्चा में बनी रहना चाहती है। जबकि राहुल गांधी ने पार्टी को शून्य पर लाकर खड़ा दिया है।
रमन मलिक ने बताया कि राहुल गांधी ने पुलवामा हमले पर शुक्रवार को बरसी के अवसर पर ट्वीट कर पूछा है कि इसकी जांच क्या हुआ और इसका फायदा किसे हुआ है? रमन मलिक ने कहा कि इस तरह के सवालों से कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनीतिक रोटियां सेक रहे हैं। इससे कांग्रेस अपना फायदा देख रही है और इस तरह वे किस पर सवाल खड़े कर रहे है? भारतीय सेना इस विषय पे अपना पक्ष रख चुकी है, क्या उनको भारतीय सेना पे संशय है?
मलिक ने सवाल उठाते हुए राहुल गांधी से पूछा है कि कांग्रेस के राज में हुई राजेश पायलेट, माधवराव सिंधिया आदि बड़े नेताओं की हत्या से किसे फायदा हुआ है? उन्हें इस तरह के ट्वीट के लिए समय और गरिमा को भी ध्यान रखना चाहिए था।
मलिक ने कटाक्ष करते हुए सवाल भी पूछे कि शहीदे आजम भगत सिंह की मृत्यु से किसको फायदा हुआ? किसको नेताजी की कथित मृत्यु से फायदा हुआ? और किसको को भारत के विभाजन का फायदा मिला? मलिक ने यह सवाल भी दाग डाले कि संजय गांधी की मृत्यु से किसको फायदा हुआ? इंदिरा की मृत्यु से किसको फायदा हुआ? राजीव गांधी की मृत्यु से किसको फायदा हुआ? वाड्रा परिवार की मृत्यु से किसको फायदा हुआ? क्योंकि यह सारी की सारी मृत्यु अकस्मत या संदेह से ग्रस्त परिस्थितियों में हुई। मलिक ने राहुल गांधी को याद कराते हुए कहा कि मुंबई ट्रेन ब्लास्ट या सिटी स्टेशन ब्लास्ट हो, अमरनाथ यात्रा पर आतंकवादियों का हमला और ना जाने कितने और हमले कश्मीर और भारत में उनकी पार्टी के राज में हुए। उन सब पर भी अगर यही सवाल पूछे जाएँ तो उनका वह जवाब देने की चेष्टा करें, तो देश को भी पता लगेगा कि इससे किसको फायदा हो रहा था? उन्होंने आगे सवाल पूछते हुए कहा कि जो धारा 370 स्थाई नहीं थी उसको स्थाई बताते हुए कश्मीर की समस्या को जो कात्यों बनाए रखा व कश्मीरी पंडितों के दर्द का कोई आभास नहीं रखा, ना ही उनको न्याय दिलाने में कोई योगदान दिया, इसका जवाब कौन देगा? मलिक ने राहुल गांधी को याद करते हुए कहा कि जिस समय शहीदों के शव को लोग श्रद्धांजलि दे रहे थे। उस समय वह अपने फोन पर ना जाने क्या देख और समझने की कोशिश कर रहे थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
कोविड-19 संक्रमण की भ्रामक सूचना पर साइबर सेल की पैनी नज़र, गलत पोस्ट पर हो सकती है सजा एक आईएएस अधिकारी स्थानांत्रित निजी विद्यालयों को निर्देश: फीस जमा करवाने पर तत्काल प्रभाव से रोक पर्यटक वीजा पर भारत आए तबलीगी जमात के 107 लोगों की पहचान हरियाणामें की गई, एफआईआर भी दर्ज कोविड-19 के मद्देनजर सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान, तंबाकू उत्पादों का सेवन निषेध निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, अन्य कर्मचारियों को भी एक्सग्रेशिया मुआवजे की घोषणा हरियाणा में 70,000 लोगों की क्षमता के 467 राहत शिविर स्थापित हरियाणा सरकार का कोविड-19 फाइनेंशियल सपोर्ट ऐलान प्रवासी मजदूरों की मूवमेंट के दृष्टिगत सभी अंतर्राज्यीय और अंतर-जिला सीमाएं सील करने के निर्देश हरियाणा : कोरोना रिलीफ फंड में 5 करोड़ दिए