ENGLISH HINDI Friday, April 03, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना सेनेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजाकोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिकराष्ट्रपति करेंगे राज्यपालों, लेफ्टिनेंट गवर्नरों एवं राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश प्रशासकों के साथ कोविड-19 पर चर्चादेश के 410 जिलों में कराया गया राष्‍ट्रीय कोरोना सर्वेक्षण जारीलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटालॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत
हिमाचल प्रदेश

ज्वालामुखी: सडक़ें बदहाल, पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल

February 22, 2020 05:30 PM

 ज्वालामुखी, (विजयेन्दर शर्मा)
कांग्रेस प्रवक्ता ज्वालामुखी के पूर्व विधायक संजय रतन ने आरोप लगाया कि भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास के नाम पर छला है। विधानसभा चुनावों में भाजपा ने लोगों को गुमराह कर वोट तो हासिल कर लिये, लेकिन जो वायदे चुनावों में किये गये, उन्हें पूरा करने के बजाये अब ठेंगा दिया। जिससे ज्वालामुखी में विकास ठप्प होकर रह गया है।
यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुये पूर्व विधायक ने कहा कि 2 साल के कार्यकाल के दौरान स्थानीय विधायक रमेश धवाला एक भी पैसा ज्वालामुखी के विकास के लिये लाने में कामयाब नहीं हो पाये हैं। जिससे लोगों अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि धवाला ने जो भी उद्घाटन किये हैं,उन्हें कांग्रेस राज में ही स्वीकृत करवाया गया ,और धन भी मुहैया करवाया गया। भाजपा सरकार बनने के 2 साल बाद अब तक ज्वालामुखी में विकास का कोई काम नहीं हो रहा। अब धवाला बहाना बना रहे हैं कि सीएम उनकी नहीं सुनते। लेकिन अब भाजपा को जनता सबक सिखायेगी।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासनकाल में शुरू हुए विकास कार्यों को रोका गया। ज्वालामुखी में चल रहे कई विकास कार्य बंद करवा दिये गये है। जो कि एक गलत परंपरा है। इलाके की सडक़ें बदहाल है। पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल है। उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। ईमानदारी का चोला पहनने वाले विधायक अपने रिशतेदारों को नियम कायदों को ताक पर रख कर ठेके दिलवाने के लिये अफसरों पर दवाब डालते रहे हैं। धवाला जिस तरीके से सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने की राजनिति कर रहे हैं। वह गलत है।
संजय रतन ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में खुंडियां में एक सप्ताह के तीन दिन के लिये ज्वालामुखी के एसडीएम को वहां बिठाने की योजना थी। ताकि चंगर के लोगों को उनके घर द्धार प्रशासन की सुविधा मिलती। लेकिन नई सरकार बनने के बाद यह सब ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना से सामाजिक दूरी को बनाए रखने में ई-पास मेकेनिज्म होगा सहायकः मुख्यमंत्री गैर पंजीकृत प्रवासी मजदूरों को पंजीकृत कर प्रदान किए जाएं पहचान पत्रः राज्यपाल औद्योगिक घरानों को संचालन शुरू करने के लिए सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी: मुख्यमंत्री हिमाचल भवन में वर्ग विशेष को ठहराने का समाचार तथ्यहीन और भ्रामक 14 अप्रैल तक बंद रहेंगे सरकारी कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान: मुख्यमंत्री मरकज की तबलीगी जमात से लौटे नागरिकों की तुरंत दे सूचना: डीसी कोविड-19 सोलीडेरिटी रिस्पांस फंड हेतु मुख्यमंत्री को चैक भेंट किए महामारी के कठिन समय में सरकार के साथ खड़े हों, दलगत राजनीति से उठकर कार्य करें