ENGLISH HINDI Monday, August 10, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कमलम् में हुए कार्यक्रम में नियमों की धज्जियां उड़ाने पर राज नागपाल ने की कड़ी निंदाचंडीगढ़ नगर निगम के कर्मचारी काम छोड़ कलाई की घड़ियों का करेंगे विरोध भारतीय क्रिएटिव यूनिटी ने उठाया वायरल डर को लेकर जागरूकता का बीड़ारेहड़ी—फड़ी वालों ने कब्जा कर लोगों के लिए की परेशानी खड़ी, ना मास्क— ना ही सोशल डिस्टेंसिंगभाजपाइयों द्वारा कोविड नियमों की अवेहलना करने पर ग्रह मंत्रायल से की शिकायतस्वतंत्रता दिवस पर देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला के अंतर्गत पांच वेबिनारों का आयोजनजिन विक्रेताओं के पास पहचान पत्र और विक्रय प्रमाणपत्र नहीं, उन्हें पीएम स्वनिधि योजना में शामिल करने हेतु अनुशंसा पत्र मॉड्यूल लॉन्चजो पढ़ेगा वो लिखेगा, जो लिखेगा वो बचेगा
हिमाचल प्रदेश

ज्वालामुखी: सडक़ें बदहाल, पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल

February 22, 2020 05:30 PM

 ज्वालामुखी, (विजयेन्दर शर्मा)
कांग्रेस प्रवक्ता ज्वालामुखी के पूर्व विधायक संजय रतन ने आरोप लगाया कि भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास के नाम पर छला है। विधानसभा चुनावों में भाजपा ने लोगों को गुमराह कर वोट तो हासिल कर लिये, लेकिन जो वायदे चुनावों में किये गये, उन्हें पूरा करने के बजाये अब ठेंगा दिया। जिससे ज्वालामुखी में विकास ठप्प होकर रह गया है।
यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुये पूर्व विधायक ने कहा कि 2 साल के कार्यकाल के दौरान स्थानीय विधायक रमेश धवाला एक भी पैसा ज्वालामुखी के विकास के लिये लाने में कामयाब नहीं हो पाये हैं। जिससे लोगों अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि धवाला ने जो भी उद्घाटन किये हैं,उन्हें कांग्रेस राज में ही स्वीकृत करवाया गया ,और धन भी मुहैया करवाया गया। भाजपा सरकार बनने के 2 साल बाद अब तक ज्वालामुखी में विकास का कोई काम नहीं हो रहा। अब धवाला बहाना बना रहे हैं कि सीएम उनकी नहीं सुनते। लेकिन अब भाजपा को जनता सबक सिखायेगी।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासनकाल में शुरू हुए विकास कार्यों को रोका गया। ज्वालामुखी में चल रहे कई विकास कार्य बंद करवा दिये गये है। जो कि एक गलत परंपरा है। इलाके की सडक़ें बदहाल है। पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल है। उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। ईमानदारी का चोला पहनने वाले विधायक अपने रिशतेदारों को नियम कायदों को ताक पर रख कर ठेके दिलवाने के लिये अफसरों पर दवाब डालते रहे हैं। धवाला जिस तरीके से सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने की राजनिति कर रहे हैं। वह गलत है।
संजय रतन ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में खुंडियां में एक सप्ताह के तीन दिन के लिये ज्वालामुखी के एसडीएम को वहां बिठाने की योजना थी। ताकि चंगर के लोगों को उनके घर द्धार प्रशासन की सुविधा मिलती। लेकिन नई सरकार बनने के बाद यह सब ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
उचित मूल्य की दुकानों के लिये करें आवेदन हिमाचल: प्रदेशभर में रोपित होंगे 1 करोड़ 20 लाख पौधे: चौधरी धौला कुआं में आईआईएम का शिलान्यास राष्ट्रपति द्वारा शहीद के पिता की याचिका पर समुचित कार्यवाही का आश्वासन आईजीएमसी में सहायक प्रोफेसर डॉ. शिखा ने फिर रचा इतिहास होम क्वारंटीन नागरिकों की होगी तीन स्तरीय निगरानी डेढ़ साल की बेटी परिजनों के हवाले छोड़ कोविड मरीजों के इलाज में जुटीं मीना शुरू हुआ स्वचलित कार्डियोवर्टर डिफाइब्रिलेटर उपचार, अचानक होने वाले कार्डिएक अरेस्ट में है जीवनरक्षक पानी के बिलों के सीवरेज शुल्क को 50 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत करने का निर्णय मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क कोचिंग