ENGLISH HINDI Friday, April 03, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना सेनेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजाकोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिकराष्ट्रपति करेंगे राज्यपालों, लेफ्टिनेंट गवर्नरों एवं राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश प्रशासकों के साथ कोविड-19 पर चर्चादेश के 410 जिलों में कराया गया राष्‍ट्रीय कोरोना सर्वेक्षण जारीलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटालॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत
हरियाणा

किसानों की आय को दोगुना करने के लिए अनेक नवीन और महत्वाकांक्षी योजनाएं

February 22, 2020 05:34 PM

शिमला (विजयेन्दर शर्मा)
वर्तमान प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की परिकल्पना को साकार करने के लिए वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए अनेक नवीन और महत्वाकांक्षी योजनाएं आरम्भ की है और इस लक्ष्य को हासिल करने में दुधारू पशुओं का पालन महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।
यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज मंडी जिले के बल्ह विधानसभा क्षेत्र के चक्कर में 16.31 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले मिल्कफेड के 50,000 लीटर क्षमता के दुग्ध प्रसंस्करण संयंत्र की आधारशिला रखने के बाद कही।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में मिल्कफेड के पास एक लाख लीटर दूध एकत्र करने की क्षमता है, जिसे बढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि विकसित देशों में ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिकी का मुख्य आधार पशुपालन है और अच्छी नस्ल की गायों का पालन करने से किसानों की आय कई गुणा बढ़ सकती है।
जय राम ठाकुर ने मिल्कफेड की विभिन्न गतिविधियों में विविधता लाने के लिए उनके प्रयासों की सराहना की, इससे न केवल राजस्व में वृद्धि सुनिश्चित होगी, बल्कि किसानों को और अधिक प्रभावी सेवाएं प्रदान करने में मदद भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार देसी नस्ल के मवेशियों को भी बढ़ावा दे रही है, ताकि किसानों को अधिक दूध देने वाली गायें मिल सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्राकृतिक खेती को भी बढ़ावा दे रही है ताकि लोगों को मवेशियों को पालने के लिए प्रेरित किया जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में गौ संरक्षण बोर्ड का गठन किया है, इसके अलावा राज्य के विभिन्न हिस्सों में कई गौ अभयारण्य खोले जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय मेडिकल काॅलेज नेरचैक, मंडी इस क्षेत्र के अग्रणी चिकित्सा महाविद्यालय के रूप में तेजी से उभर रहा है और राज्य सरकार इस स्वास्थ्य संस्थान को सुदृढ़ करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य में वर्तमान में सरकारी क्षेत्र में छह मेडिकल काॅलेज हैं और बिलासपुर जिला में एम्स का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में चिकित्सा विश्वविद्यालय के यथोचित कार्य को सुनिश्चित करने के लिए नेरचैक के पास भूमि चिन्हित की जा रही है। उन्होंने कहा कि जमीन मिलते ही यहां कार्य आरम्भ कर दिया जाएगा।
ठाकुर ने नेरचैक स्थित श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय में 45 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टर्सरी कैंसर केयर सेंटर का शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस सेंटर के बनने से क्षेत्र की 25 लाख से अधिक आबादी को स्वास्थ्य सुविधा मिलेगी। इस केंद्र में सिर व गर्दन, स्तन, गर्भाशय ग्रीवा, फेफड़ों और लिंफोमा आदि के कैंसर के इलाज के लिए लीनियर एक्सीलेटर, एचडीआर ब्रैकीथेरेपी और योजना सीटी-सिम्युलेटर जैसी नवीनतम मशीनरी और उपकरण स्थापित होंगे। उन्होंने कहा कि इस टर्सरी कैंसर केयर सेंटर में कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी, आॅन्कोसर्जरी जैसी सुविधाएं भी उपलब्ध होगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, अन्य कर्मचारियों को भी एक्सग्रेशिया मुआवजे की घोषणा हरियाणा में 70,000 लोगों की क्षमता के 467 राहत शिविर स्थापित हरियाणा सरकार का कोविड-19 फाइनेंशियल सपोर्ट ऐलान प्रवासी मजदूरों की मूवमेंट के दृष्टिगत सभी अंतर्राज्यीय और अंतर-जिला सीमाएं सील करने के निर्देश हरियाणा : कोरोना रिलीफ फंड में 5 करोड़ दिए सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग की जिम्मेवारी बढ़ी: मीणा कोरोना के चलते एक महीने तक बिजली विभाग के सभी कैश काउंटर बंद, सारचार्ज से छूट सरसों और गेहूं की खरीद के व्यापक प्रबंधों के निर्देश कोरोना से निपटने को सरकारी एवं गैर-सरकारी संस्थाओं, सामाजिक व धार्मिक संगठनों का सहयोग जरूरी: कोविन्द हरियाणा में तीन महीने की अवधि के लिए नियुक्त होंगे तक्नीकी कर्मचारी