ENGLISH HINDI Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कोविड-19 के विरुद्ध जंग में महान योगदान के लिए मैडीकल समुदाय की प्रशंसाबकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौतट्राईडेंट उद्योग समूह जिला के सेहत विभाग को देगा 10 हजार मेडीकल सूटकोरोना वायरस से मारे गए लोगों की अंतिम रस्में निभाने संबंधी हिदायतें जारी हों : ग्रेवाल जमाखोरी, कालाबाजारी और मूल्य वृद्धि को नियंत्रण के लिए विशेष टीमें गठितमंडी में पहुंचने वाले किसान को मिलेगा मास्क और सैनिटाइजरनिजामूद्दीन मरकज़ में तबलीगी जमात में भाग लेने वालों को दी 24 घंटों की अंतिम समय-सीमाकोरोना से बिना हथियार सीधी लड़ाई लड़ रहे योद्धा सेहत कर्मियों को आज मिलीं बचाव किट्टें
हिमाचल प्रदेश

मुख्यमंत्री ने गुरमीत बेदी की ज्योतिष पर लिखी रिसर्च बुक रिलीज की

March 02, 2020 11:11 PM

शिमला (विजयेन्दर शर्मा) ।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने चंडीगढ़ में हिमाचल अकादमी से पुरस्कृत साहित्यकार गुरमीत बेदी द्वारा ज्योतिष पर लिखी गई शोध पुस्तक ‘एस्ट्रोलाॅजी एक विज्ञान’ का विमोचन किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्योतिष एक प्राचीन विज्ञान है, जिसमें ग्रह, नक्षत्र और खगोलीय पिंडों के बारे में बहुत सटीक गणनाएं करके प्रामाणिक जानकारियां दी गई हैं। उन्होंने कहा कि वेदों को ज्योतिष की छठी आंख कहा गया है और भारतीय ऋषि मुनियों व मनीषियों ने ज्योतिष पर कई महत्वपूर्ण ग्रंथ लिख कर इस विधा को और समृद्ध किया है।

  मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने प्रसन्नता व्यक्त की कि साहित्य की विभिन्न विधाओं में सृजन के अलावा गुरमीत बेदी ने तीन दशक के अपने व्यापक शोध के बाद अपनी इस पुस्तक में ज्योतिष को लेकर फैली अनेक भ्रांतियों का निराकरण करके इसे एक संपूर्ण विज्ञान साबित करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा ज्योतिष विषय पर लगातार शोध होना चाहिए ताकि विश्व भारत की इस गौरवपूर्ण विरासत से लाभान्वित हो सके। उन्होंने इस विषय पर शोध करने के लिए गुरमीत बेदी को बधाई दी और आशा व्यक्त की कि वह भविष्य में भी इस विषय पर अपना अध्ययन और शोध जारी रखेंगे।

गुरमीत बेदी हिमाचल प्रदेश सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में उप निदेशक हैं और चंडीगढ़ स्थित प्रेस संपर्क कार्यालय में तैनात हैं। इस शोध पुस्तक में उन्होंने विभिन्न ग्रहों की प्रकृति और मानव जीवन पर उनके प्रभाव का विस्तार से वर्णन किया है। साहित्य की विभिन्न विधाओं में गुरमीत बेदी ने 9 पुस्तकें व तीन उपन्यास लिखे हैं। उन्हें हिमाचल अकादमी सहित देश-विदेश के कई पुरस्कार मिल चुके हैं और उनकी रचनाओं का कई भाषाओं में अनुवाद हुआ है। उनके कविता संग्रह ‘मेरी ही कोई आकृति’ का जर्मन कवयित्री रोजविटा ने जर्मनी में भी अनुवाद किया है।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने पिछले महीने इस पुस्तक का विमोचन किया था। गुरमीत बेदी ज्योतिष पर शोध पुस्तक लिखने वाले पहले हिमाचली लेखक भी हैं। दिल्ली के प्रमुख पब्लिशर भावना प्रकाशन ने इस पुस्तक को प्रकाशित किया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
बीज, खाद तथा कीटनाशक दवाइयों की दुकानें भी खुलेंगी सार्वजनिक स्थानों पर एक मीटर की दूरी नहीं तो होगी एफआईआर कोरोना से जंग में जनप्रतिनिधियों के वेतन भत्ते में कटौती स्वागत योग्य कदम एक्टिव केस फाईंडिंग अभियान के तहत 23 लाख व्यक्तियों की स्वास्थ्य जानकारी प्राप्त शहीद बालकृष्ण का पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, मुख्य मंत्री जयराम ठाकुर ने शोक जताया, गोविंद सिंह ठाकुर ने दी श्रद्धांजलि मीडिया में कोविड-19 बारे अप्रमाणिक समाचारों को रोकने का आग्रह देश के करोड़ों देशवासी लॉकडाउन का पालन कर देश को बचाने में लगे हैं तब्लीगी जमात में भाग लेने वालों की दें त्वरित सूचना राज्यपाल ने की कुलपतियों के साथ चर्चा पुलिस को पीपीई किट व एन-95 मास्क के लिए एक करोड़ रुपये की स्वीकृति