ENGLISH HINDI Friday, April 10, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कोविड-19:सर्वश्रेष्ठ साबित करने के लिए लॉरेट फार्मेसी संस्थान ने अपने छात्रों को दिया मौका 30 अप्रैल तक सरचार्ज या ब्याज सहित सभी बकायों पर नहीं लगेगा विद्यार्थियों को तनाव और मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित परेशानियों से मुक्ति दिलाने के लिए हेल्पलाइन लांचरात को कहीं भी बिजली नहीं काटी जाएगी: रणजीत सिंहकोविड आइसोलेशन वार्डों में कार्यरत डॉक्टरों, नर्सों, पैरा मेडिकल, ड्राइवरों को कोरोना पीरियड के दौरान वेतन दोगुना मिलेगा  रबी फसल खरीद के दौरान किसानों की सुविधा के लिए, 24&7 टोल-फ्री हेल्पलाइन सुविधा जिला बरनाला में कोरोना वायरस से हुई पहली मौतकोरोना का करंट! औसत बिजली बिल आने से भड़के शहर वासी, जब काम धंधा नहीं कहा से भरेंगे बिल
चंडीगढ़

नीलिमा की डायरी खोलेगी केसुसाइड के राज, परिजनों ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की उठाई मांग

March 10, 2020 11:21 PM

चंडीगढ़: बीती सात मार्च को अपनी जीवनलीला समाप्त करने वाली नीलिमा ठाकुर के परिजनों ने इसके लिए जिम्मेदार यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर उनके परिवार को इंसाफ दिए जाने की मांग की है।

नीलिमा ठाकुर के पति प्रकाश खती और पिता जगतार सिंह ने बताया कि नीलिमा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की सेक्टर 17 स्थित रीजनल ब्रांच में कार्यरत थी। यहाँ पर अपने कार्यकाल के दौरान नीलिमा ने पाया कि लोन डिसब्र्स के दौरान बैंक अधिकारियों की ओर से काफी अनियमितताएं और गलत तरीके इस्तेमाल किए जा रहे थे। जिसकी जानकारी नीलिमा ने उच्च अधिकारियों को दी, लेकिन दोषी अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

प्रकाश ने बताया कि नीलिमा ने बैंक में हो रही घपलेबाजी और धोखाधड़ी को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री को भी शिकायत देने का फैसला लिया था, जिसके बारे में उसने उनके साथ विचार किया था, लेकिन उन्होंने नीलिमा को मना कर दिया था। इसका जिक्र भी उसने डायरी में किया है। प्रकाश ने कहा कि दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, जिनकी वजह से उनका हंसता खेलता परिवार उजड़ गया।

नीलिमा की गलत सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाया जाना अधिकारियों को पसंद नही आया और उन्होंने नीलिमा को बार बार मानसिक तौर पर प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। जिसका जिक्र नीलिमा ने अपनी रोज की कलमबद्ध डायरी में किया है। डायरी में नीलिमा ने कुछ धोखाधड़ी के मामलों का भी जिक्र किया है, जिसमें उसने बताया कि उसके साथ काम करने वाले रामानंद, नरेश गुप्ता, ज्योति, सुमन, पंकज, मोनिका, विवेक, अशोक शर्मा, साहिल और रावत के नामों का जिक्र किया गया है,जोकि उसे मानसिक रूप से परेशान कर रहे थे।

जगतार सिंह ने बताया कि नीलम उनके पास ही रहती थी जबकि उसके पति प्रकाश खती हैदराबाद में एक प्राइवेट कंपनी में कार्यरत है। हादसे के वक़्त वो वहीँ थे, जबकि नीलिमा की मम्मी और उनकी पत्नी यूएसए में उनकी छोटी बेटी के पास गई हुई थी। प्रकाश और नीलिमा के दो बच्चे है। बड़ा छह साल का लड़का और एक साल की छोटी बच्ची। पिछले कुछ से नीलिमा परेशान चल रही थी। अधिकारियों द्वारा बार बार प्रताड़ित किये जाने से वो बहुत आहत थी। हमने उसे नौकरी से त्यागपत्र भी देने को कह दिया था। वो अभी इस पर विचार कर ही रही थी।

प्रकाश ने बताया कि नीलिमा ने बैंक में हो रही घपलेबाजी और धोखाधड़ी को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री को भी शिकायत देने का फैसला लिया था, जिसके बारे में उसने उनके साथ विचार किया था, लेकिन उन्होंने नीलिमा को मना कर दिया था। इसका जिक्र भी उसने डायरी में किया है। प्रकाश ने कहा कि दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, जिनकी वजह से उनका हंसता खेलता परिवार उजड़ गया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
मां मनसा देवी मंदिर में रोजाना बन रहा जरूरतमंद लोगों के लिए भंडारा उद्योगपति मित्रों ने जरूरतमंद लोगों में बांटा खाना गुरु का लंगर ने कालोनियों में बांटा खाना कोरोना वायरस लॉकडाउन: चंडीगढ़ व्यापार मंडल भी सहायतार्थ आया आगे जरूरतमंदों के लिए पूर्वांचल विकास महासंघ की बड़ी पहल लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटा लॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत गुरु का लंगर आई हॉस्पिटल ने पीजीआई के एमरजेंसी वार्ड में 100 पी पी किट भेंट की स्टेट अवार्डी समाजसेवी ने गरीब और मजबूर परिवारों सहित लोक डाउन में फंसे ट्रक ड्राइवर और क्लीनर को बांटा लंगर गुरु का लंगर आई हॉस्पिटल ने प्रवासी मजदूरों और गरीब परिवारों में लंगर वितरण किया