ENGLISH HINDI Saturday, July 11, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

बीएपीएस के मंदिरों में साप्ताहिक व दैनिक सभाएं कोरोना वायरस के चलते स्थगित

March 16, 2020 11:29 PM

अबोहर : लगभग 1200 मंदिरों व 3 अक्षरधामों का संचालन कर रही बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था ने कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए निर्णय लिया है कि रविवार के साथ साथ प्रतिदिन होने वाली सभाएं, मूर्ति प्रतिष्ठा, एकादशी आदि महोत्सव सभी मंदिरों में अनिश्चितकाल के लिये स्थगित रहेंगे।

संस्था की अंतराष्ट्रीय सेवाओं के निदेशक ईश्वरचरण स्वामी ने जानकारी दी है कि रविवारीय व अन्य साप्ताहिक सभाओं को टीवी व अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से देश विदेश में मौजूद लाखों हरीभक्तों तक पहुंचाया जायेगा।

स्वामी जी ने कहा है कि 70 वर्ष से अधिक की उम्र वाले व्यक्ति या जिनमें बुखार, सर्दी, फ्लू आदि के लक्षण दिखाई दें वे अपने घरों में ही रहें, मंदिर मत जायें। हरीभक्तों से कहा गया है कि मंदिर दर्शन यात्रा जैसे सामूहिक आयोजन अगली सूचना तक स्थगित कर दें। मंदिरों में दर्शन व अभिषेक की व्यवस्था कायम रहेगी लेकिन लोगों को सलाह दी गई है कि वे समूह के रूप में इस उदेश्य से मंदिरा में मत आयें।
संस्था के आध्यात्मिक मुखिया मंहतस्वामी जी महाराज व अन्य संतवृंद के बारे में निर्णय लिया है कि उनकी मौजूदगी के कारण हरीभक्तों की भीड जमा हो जाती है। वर्तमान परिस्थितियों में किसी के स्वास्थय पर भी भीड के कारण प्रभाव पड सकता है। इसलिये न केवल महंतस्वामी जी महाराज बल्कि अन्य संत भी एक स्थान पर ही रहेंगे। न तो विचरण और ना ही प्रवचन के लिये निर्धारित स्थल से बाहर जायेंगे। व्यक्तिगत मुलाकातें भी नहीं होंगी। पारिवारिक शांति अभियान भी स्थगित कर दिया गया है। लोगों से कहा गया कि वे अपने अपने स्थान पर मौजूद रहकर इस संक्रमण से पूरे विश्व की रक्षा के लिये प्रार्थना करें।

संस्था की ओर से सभी लोगों को सलाह दी गई है कि वे वर्तमान स्थिति से भयभीत ना हो और ना ही किसी प्रकार की अफवाह फैलायें। स्वास्थय के बारे में सबंध अधिकारियों द्वारा जारी किये जाने वाले दिशा निर्देशों का पालन करें। अपने घर आंगन व आस पास स्वच्छता बनाये रखें ताकि इस वायरस से बचाव हो सके।

उल्लेखनीय है कि महंतस्वामी जी महाराज 6 माह के लिये अमेरिका, इंगलैंड, कैनेडा आदि देशों की यात्रा पर जाने वाले थे लेकिन उन्होने सभी कार्यक्रम रद््द कर दिये हैं। फिलहाल वे अहमदाबाद से 150 किलोमीटर दूर सारंगपुर गांव में ही निवास करेंगे लेकिन उनसे व्यक्तिगत मुलाकात की लोगों को अनुमति नहीं होगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
भ्रष्ट तंत्र की उपज है विकास दुबे— जो बहुतों का जीवन ही ले डूबे एम्‍स दिल्‍ली ने कोविड क्‍लीनिकल मैनेजमेंट के बारे में राज्‍य के डॉक्‍टरों को टेली-परामर्श देना शुरु किया 25 वर्ष के अविवाहित दिव्यांग पुत्र ईसीएचएस सुविधा प्राप्त करने के पात्र कोविड-19 से लड़ने हेतु ईसीएचएस के तहत प्रति परिवार एक पल्स ऑक्सीमीटर की प्रतिपूर्ति की अनुमति अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन योजना अवधि को जुलाई से पांच माह और बढ़ाकर नवंबर तक की मंजूरी भारत में दीपगृह पर्यटन के अवसरों को विकसित करने का आह्वान महामारी को देखते हुए परीक्षाओं पर यूजीसी संशोधित दिशानिर्देश, अकादमिक कैलेंडर जारी कोविड—19: ठीक होने वालों की संख्या करीब 4 लाख 40 हजार हुई आईसीएआर-राष्ट्रीय पादप आनुवांशिक संसाधन ब्यूरो ने किए एमओयू पर हस्ताक्षर सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी?