ENGLISH HINDI Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
शरीर कैसे छोडऩा है दादी पहले से ही कर ली थी प्लानिंग, दादी जी नही चाहती थी कि उनके शरीर छोडऩे पर ज्यादा खर्च होकोविड-19 के विरुद्ध जंग में महान योगदान के लिए मैडीकल समुदाय की प्रशंसाबकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौतट्राईडेंट उद्योग समूह जिला के सेहत विभाग को देगा 10 हजार मेडीकल सूटकोरोना वायरस से मारे गए लोगों की अंतिम रस्में निभाने संबंधी हिदायतें जारी हों : ग्रेवाल जमाखोरी, कालाबाजारी और मूल्य वृद्धि को नियंत्रण के लिए विशेष टीमें गठितमंडी में पहुंचने वाले किसान को मिलेगा मास्क और सैनिटाइजरनिजामूद्दीन मरकज़ में तबलीगी जमात में भाग लेने वालों को दी 24 घंटों की अंतिम समय-सीमा
राष्ट्रीय

घर.घर जाकर राशन सामग्री पहुंचा रही है विजय जिन्दल चैरिटेबल ट्रस्ट

March 25, 2020 04:50 PM

जिला प्रशासन के आह्वान पर तैयारी करवाई सैकड़ों अन्नपूर्णा किट

श्रीगंगानगर। समाजसेवी संस्था विजय जिन्दल चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा लॉकडाउन के दौरान घर.घर जाकर राशनी सामग्री पहुंचाई जा रही है। जिला प्रशासन के आह्वान पर तैयार करवाई गई सैकड़ों अन्नपूर्णा किट जरूरतमंद परिवारों की पहचान कर उनके घर पर ही मुहैयार करवाने की सेवा मंगलवार से प्रारंभ हुई हैए जोकि लॉकडाउन के जारी रहने तक चलती रहेगी। इसके लिए आमजन का पूरा सहयोग मिला है और भामाशाह.दानवीर लोग आगे बढक़र अन्नपूर्णा किट का लागत मूल्य वहन कर रहे हैं।सामाजिक सरोकार का यह प्रयास सभी के साथ व समर्थन से ही सफल हो पाएगा।

ट्रस्टके अध्यक्ष विजय जिन्दल ने बताया कि मंगलवार को अलग.अलग इलाकों में 34 परिवारों की पहचान कर उन्हें रसद सामग्री पहुंचाई गई। इसी क्रम में बुधवार सुबह भी अनेक परिवारों तक पहुंचा गया और उन्हें करीब 10 दिन का राशन निशुल्क  वितरित किया गया। श्री जिन्दल के अनुसार ट्रस्ट का प्रयास है कि इस सेवा का लाभ ऐसे परिवारों को मिलेए जिन्हें सरकारी सहायता प्राप्त नहीं है अथवा दस्तावेजों की औपचारिकताएं पूरी न होने के कारण वे किसी योजना के पात्र नहीं हैं। ऐसे में यदि लॉकडाउन की वजह से उनका काम.धंधा बंद हो गया है तो विजय जिन्दल चैरिटेबल ट्रस्ट उनके परिवार के लिए राशन सामग्री उपलब्ध करवाएगी। श्री जिन्दल ने सभी सेवाभावी लोगों से आग्रह किया है कि इस आपदा की स्थिति में किसी
जरूरतमंद के मददगार बनें और ऐसे परिवारों की सूचना भी देंए जिन्हें इस सेवा का लाभ मिलना चाहिए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
शरीर कैसे छोडऩा है दादी पहले से ही कर ली थी प्लानिंग, दादी जी नही चाहती थी कि उनके शरीर छोडऩे पर ज्यादा खर्च हो बकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौत भारतीय रेल अत्यंत तेज गति से पीपीई-पोशाक का निर्माण करेगी कोविड-19: लोगों को राहत प्रदान करने के कार्यों में पूर्व-सैनिक अपनी भूमिका निभाने को एकजुट हुए ‘विश्व स्वास्थ्य दिवस’ पर प्रधानमंत्री श्री मोदी का संदेश पूर्ण बंदी के बाद भी जन स्वास्थ्य को आर्थिक विकास की तुलना में प्राथमिकता दी जाएगी: उपराष्ट्रपति कोरोना एवं भविष्य की चुनौतियां: मानव ससांधन मंत्रालय ने की "समाधान" चैलेंज की शुरुआत कुपवाड़ा शहीद जवानों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की एम्स ऋषिकेश ने पोर्टेबल वेंटीलेटर सिस्टम प्राणवायु विकसित किया कर्मचारी भविष्य निधि संगठन का जन्म रिकार्ड ठीक करने सम्बन्धी संशोधित निर्देश जारी