ENGLISH HINDI Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
शरीर कैसे छोडऩा है दादी पहले से ही कर ली थी प्लानिंग, दादी जी नही चाहती थी कि उनके शरीर छोडऩे पर ज्यादा खर्च होकोविड-19 के विरुद्ध जंग में महान योगदान के लिए मैडीकल समुदाय की प्रशंसाबकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौतट्राईडेंट उद्योग समूह जिला के सेहत विभाग को देगा 10 हजार मेडीकल सूटकोरोना वायरस से मारे गए लोगों की अंतिम रस्में निभाने संबंधी हिदायतें जारी हों : ग्रेवाल जमाखोरी, कालाबाजारी और मूल्य वृद्धि को नियंत्रण के लिए विशेष टीमें गठितमंडी में पहुंचने वाले किसान को मिलेगा मास्क और सैनिटाइजरनिजामूद्दीन मरकज़ में तबलीगी जमात में भाग लेने वालों को दी 24 घंटों की अंतिम समय-सीमा
राष्ट्रीय

कोरोना लॉक डाउन: आमजन को मुसीबत, मुनाफाखोर देशप्रेम को ठेंगा दिखा कूट रहे चांदी

March 26, 2020 09:11 PM

ट्राईसिटी चंडीगढ़, संजय मिश्रा:
वैश्विक महामारी से निबटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित होते ही जहां एक ओर आमजनों को रोज़मर्रे के जरूरत वाले सामान खरीदनें में दिक्कतें आनी शुरू हो गई, वहीं दूसरी ओर मुनाफाखोरों ने जरूरी सामानों की कीमतों मे मनमर्जी का इजाफा कर दिया। चंडीगढ़ एवं पंजाब में कर्फ़्यू के चलते ट्राइसिटी में राशन और सब्जी के लिए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि मोहाली के उपायुक्त एवं चंडीगढ़ प्रशासन ने सेक्टर के हिसाब से घर—घर राशन एवं सब्जी के वितरण का ऐलान किया है लेकिन ये व्यवस्था सुचारु रूप से शुरू भी नहीं हो पाई है।

हरियाणा में भी 21 दिनों का लॉक डाउन घोषित किया गया है। ;यूं तो पूरे भारत देश में ही तालाबंदी की गई है लेकिन ट्राईसिटी में इन तीनों का क्षेत्र आता हैद्ध ऐसे समय में दुकानदार अपने राशन को ऊंची दर पर बेच रहे है और आमजन लेने को मजबूर है। कुछ दिन पहले ही जो 10 किलो के आटे का पैकेट 260 रुपए का आता था वो अभी 300 से 320 का मिलना शुरू हो गया है। अन्य राशन सामाग्री का भी बुरा हाल है। सब्जी के दर्शन भी दुर्लभ हो गए है किसी भी रेहड़ी वाले को सब्जी बेचना मना है और प्रशासन खुद भी घर—घर सब्जी की डिलिवरी देने में असमर्थ है।

हरियाणा में भी 21 दिनों का लॉक डाउन घोषित किया गया है। ;यूं तो पूरे भारत देश में ही तालाबंदी की गई है लेकिन ट्राईसिटी में इन तीनों का क्षेत्र आता हैद्ध ऐसे समय में दुकानदार अपने राशन को ऊंची दर पर बेच रहे है और आमजन लेने को मजबूर है। कुछ दिन पहले ही जो 10 किलो के आटे का पैकेट 260 रुपए का आता था वो अभी 300 से 320 का मिलना शुरू हो गया है। अन्य राशन सामाग्री का भी बुरा हाल है। सब्जी के दर्शन भी दुर्लभ हो गए है किसी भी रेहड़ी वाले को सब्जी बेचना मना है और प्रशासन खुद भी घर—घर सब्जी की डिलिवरी देने में असमर्थ है।

कोई इक्का दुक्का रेहड़ी वाला अगर मिल भी गया तो 20 रुपए किलो वाला आलू अभी 35 रुपए किलो एवं अन्य सब्जी के रेट भी करीब—करीब दोगुने हो गए है। पंचकुला प्रशासन ने सभी सेक्टर में घर घर सब्जी देने के लिए कुछ वेंडरों की लिस्ट उनके फोन नंबर सहित जारी की है लेकिन वे फोन या तो लगते ही नहीं है या पीकअप ही नहीं होते।

दुकान, कारख़ाना, कार्यालय सभी कुछ बंद है। दिहाड़ीदार मजदूर ज्यादा परेशान है। हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार की तरह पंजाब सरकार ने श्रम विभाग मे रजिस्टर्ड मजदूर को इस परेशानी के समय मे 3000 रुपए की आर्थिक मदद की घोषणा की है, वहीं हरियाणा सरकार ने मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत निबंधित गरीब परिवारों को मार्च के लिए 6000 रुपया एवं अप्रैल के लिए भी 6000 रुपए जारी करने की घोषणा की है।

इन सब से इतर दुकानदारों के परेशानी को देखने वाला कोई नहीं है। शॉप एक्ट में रजिस्टर्ड दुकानदारों पर दोहरी मार है एक तरफ उनकी प्रतिष्ठान बंद है तो कमाई भी बंद है लेकिन अपने स्टाफ की सैलरी एवं दुकान का किराया का मीटर चालू है।
यही हाल हरियाणा के सीएससी संचालकों का भी है, लॉक डाउन में उनके सेंटर बंद है और प्रतिदिन के 300– 400 रुपए कमाने वाले इन संचालकों को खाने के लाले पड़ रहे है।

इन सभी की शिकायत है कि हरियाणा सरकार को जब अपनी कोई योजना लागू करना होता है तो वो सीएससी को याद करते है और सीएससी संचालक भी आगे बढ़ कर सभी सरकारी योजनाओं को हकीकत में आमजन तक पहुंचाते है, लेकिन इस बुरे वक्त में वे उन्हें भूल गए। पंचकुला जिले के सीएससी संचालक मिस्टर चौधरी, किरण गुप्ता, पूनम, सुदेश, मनोज कुमार आदि कईयों ने इस बुरे हालात में अपने सरवाईव के लिए सरकार से परिवार समृद्धि योजना के जैसा ही मदद की गुहार की है, क्योंकि आखिर वो भी तो हरियाणा का एक परिवार है।

इतनी शिकायतों के बावजूद भी सभी सीएससी संचालकों ने एक स्वर से सरकार के इस लॉक डाउन मे अपने सहयोग को दुहराया और कहा I LOVE MY INDIA. दूसरी ओर सोशल मीडिया पर देश प्रेम की दुहाई देने व प्रचार करने वाले कुछ मुनाफाखोर  संकट की इस घड़ी में देश प्रेम की जगह लूट खसोट को तरजीह देने पर तुले हैं। जिनका इलाज समय रहते आवश्यक है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
शरीर कैसे छोडऩा है दादी पहले से ही कर ली थी प्लानिंग, दादी जी नही चाहती थी कि उनके शरीर छोडऩे पर ज्यादा खर्च हो बकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौत भारतीय रेल अत्यंत तेज गति से पीपीई-पोशाक का निर्माण करेगी कोविड-19: लोगों को राहत प्रदान करने के कार्यों में पूर्व-सैनिक अपनी भूमिका निभाने को एकजुट हुए ‘विश्व स्वास्थ्य दिवस’ पर प्रधानमंत्री श्री मोदी का संदेश पूर्ण बंदी के बाद भी जन स्वास्थ्य को आर्थिक विकास की तुलना में प्राथमिकता दी जाएगी: उपराष्ट्रपति कोरोना एवं भविष्य की चुनौतियां: मानव ससांधन मंत्रालय ने की "समाधान" चैलेंज की शुरुआत कुपवाड़ा शहीद जवानों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की एम्स ऋषिकेश ने पोर्टेबल वेंटीलेटर सिस्टम प्राणवायु विकसित किया कर्मचारी भविष्य निधि संगठन का जन्म रिकार्ड ठीक करने सम्बन्धी संशोधित निर्देश जारी