ENGLISH HINDI Thursday, January 28, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
एसबीपी हाउसिंग प्रोजेक्ट के आनंद टावर की नौवीं मंजिल में लगी आग मां भारती के पाठ के पश्चात कांग्रेस पूर्वांचल सेल ने लहराया तिरंगागणतन्त्र दिवस पर केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो के 30 अधिकारियों व कार्मिकों को विशिष्ट सेवा तथा सराहनीय सेवा पदक30,000 रु. की कथित धूसखोरी मामले में क्षेत्रीय श्रम आयुक्त तथा एक व्यक्ति गिरफ्तारध्वजारोहण करने बरनाला पहुंचे स्वास्थय मंत्री सिद्धू को दिखाये काले झंडेदिल्ली में कुछ अराजक तत्वों द्वारा हिंसा असहनीय, किसानों को दिल्ली की सरहदों पर लौटने की अपीलसीटीयू वार्षिक चुनाव : रेल इंजन पैनल ने शेर पार्टी को करारी शिकस्त दी धरमिंदर सिंह राही बने प्रधानचंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस और ओंकार चैरिटेबल ट्रस्ट ने चलाया ट्रैफिक रूल्स एंड रेगुलेशन अवेयरनेस ड्राइव
हिमाचल प्रदेश

लोगों से अपना स्थान नहीं छोड़ने का आग्रह किया

March 29, 2020 06:15 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने प्रदेश के भीतर और अन्य राज्यों में फंसे हिमाचलवासियों से आग्रह किया है कि वे जहां हैं, वहीं बने रहें, क्योंकि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस के दृष्टिगत अन्तरराज्यीय और राज्य के अन्दर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा रखी है।
मुख्यमंत्री ने आज उपायुक्तों के साथ वीडियो काॅंफ्रेंस के माध्यम से बातचीत के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक जिले से दूसरे जिले और राज्य के बाहर लोगों की गतिविधियों पर नजर रखी जाए। जो लोग पहले ही राज्य में प्रवेश कर चुके हैं उन्हें सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थ्तापित क्वारन्टिन केन्द्रों में रखा जाए। उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि जो लोग विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए हैं उनके लिए भोजन और ठहरने की उचित व्यवस्था की जाए।
उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन यह सुनिश्चित बनाए कि लोगों को किसी प्रकार की असुविधा न हो और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुचारू रूप से बनी रहे। उन्होंने कहा कि फंसे हुए लोगों की सुविधा के लिए स्कूलों और डाइट भवनों में बनाए गए कैम्पों में स्वच्छता का विशेष रूप से ध्यान रखा जाए।
जय राम ठाकुर ने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि वे फंसे हुए लोगों को उसी स्थान पर बने रहने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इन लोगों की हर संभव सहायता करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बाहर से और प्रदेश के एक जिले से दूसरे जिले में आए लोगों की पहचान करने के कार्य में पंचायती राज संस्थानों की सहायता ली जाए।
उन्होंने कहा कि दिल्ली और चण्डीगढ़ में फंसे हिमाचलवासियों की सुविधा के लिए नई दिल्ली और चण्डीगढ़ स्थित हिमाचल भवनों में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं। हिमाचल भवनों में इन लोगों को भोजन और ठहरने की सुविधा प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास किए जायेंगे।
मुख्य सचिव अनिल कुमार खाची ने उपायुक्तों से कहा कि लोगों के एक जिले से दूसरे जिले और बाहरी राज्यों से निर्गमन पर पूर्ण रोक लगाई जाए। इसके अतिरिक्त श्रमिकों और अन्य राज्यों के कर्मियों को भी प्रदेश के बाहर जाने के लिए नहीं कहा जाए और उन्हें शिविरों में ही रखा जाए।
पुलिस महानिदेशक एस.आर. मरडी ने कहा कि किसी भी अन्य राज्य से लोगों को लेकर आने वाले वाहनों को हिमाचल प्रदेश में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
गुड सेमेरिटन किसी सिविल/आपराधिक दायित्व के लिए जिम्मेवार नहीं: आरटीओ पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय डरोह को देशभर में प्रथम स्थान प्राप्त: डॉ. फुलझेले कोरोना पर अंतिम वार : दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान :अनुराग ठाकुर पंचायतों के पहले चरण में होने वाले चुनाव के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय सियासत: कांगड़ा की राजनीति में ऊफान, संजय रतन ही कांग्रेस के रतन जुर्माने के रूप में 1300 वाहनों से वसूले 18 लाख रुपये पौंग डैम में एच5एन1 वायरस से हुई प्रवासी पक्षियों की मृत्यु कुफरी में भारत का पहला स्की पार्क विकसित करने के लिए समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित ‘बर्ड फलू’ से बचाने के लिए लोगों से प्रांरभिक रोकथाम व नियंत्रण के उपाय करने की अपील