ENGLISH HINDI Friday, January 22, 2021
Follow us on
 
पंजाब

कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर

March 31, 2020 09:23 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
कोरोना वायरस के खौफ ने सरकारों को हर तरह के एतिहात बरतने के लिए विवश कर दिया है। जिसके चलते पहले राज्यभर की जेलों में सजा भुगत रहे कैदियों को पेरोल पर घर भेजने का फैसला लिया अब नशामुक्ति केंद्रों को भी लगभग खाली करने की तैयारी कर ली है। बताया गया है कि नशामुक्ति केंद्रों में उपचाराधीन जो पंजीकृत नशेड़ी हैं उन्हें केंद्रों से घर लेजाने की अनुमति दी जा रही है और उन्हें दो माह की दवा भी एडवांस में दी जा रही है।

डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। 

  

डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद घर जाने की अनुमति:
नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को घर भेजने के बारे में जानकारी देते सिविल सर्जन बरनाला डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। जिसका मुख्य मकसद नशामुक्ति केन्द्रों में जेरे ईलाज नशा मरीजों (नशेडिय़ों) को कोविड-19 के फैलाव एवं संक्रमित होने से दूर रखना है। उन्होंने कहा कि ऐसे केंद्रों पर तैनात स्टाफ को यह भी निर्देश दिए हैं कि मरीजों को कोरोना के लक्षणों (तेज बुखार, खुश्क खांसी और सांस लेने में तकलीफ) के बारे में जागरूक करना है। आपातकाल स्थिति में सेहत विभाग के टोलफ्री नंबर 104 पर संपर्क करने को कहा गया है।
41 कैदियों को किया जा चुका रिहा:
इससे पहले जिला की माननीय अदालत के चीफ जुडीशियल मजिस्ट्रेट द्वारा जिला व सेशनज जज वरिंदर अग्रवाल के दिशा-निर्देश पर बरनाला जेल से 41 कैदियों को पेरोल पर रिहा किया जा चुका है। जिनमें 26 कैदी बाहरी जिलों से संबंधित है। कैदियों को रिहा करने का कारण भी कैदियों को कोरोना वायरस से दूर रखना है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
गणतंत्रता दिवस पर सुरक्षा को लेकर महिला पुलिस फ्रंटलाईन पर ‘आप’ ने 26 जनवरी के ‘किसान ट्रैक्टर परेड’ के समर्थन का किया ऐलान आप प्रतिनिधिमंडल निकाय चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयुक्त से मिला 200 जरूरतमंद परिवारों को बांटे जूते और दवाईया तीन अलग-अलग गिरोहों के पांच सदस्य हथियार,जाली भारतीय करंसी और चोरी के वाहनों सहित काबू आंदोलनकारी किसानों को धमकाना मोदी सरकार का बेहद शर्मनाक कार्य: मान पंजाब के विश्वविद्यालय और महाविद्यालय 21 जनवरी से पूर्ण रूप में खोले जाएंगे एडीजीपी राय ने मुनीष जिन्दल द्वारा सामयिक घटनाओं बारे लिखी किताब ‘द पंजाब रिव्यू’ की रीलीज़ क्या ये किसान अलगाववादी व आतंकवादी लगते हैं? कैप्टन का केंद्र सरकार से सवाल भारत रत्न गुलजारी लाल नन्दा फ़ाउंडेशन की पंजाब इकाई के प्रबंध संयोजक होंगे बरनाला के एडवोकेट कपिल