ENGLISH HINDI Wednesday, June 03, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कांग्रेसी नेता के पुत्र की मौत पर शोक की लहर, अंतिम संस्कार हिमाचल: पश्मीना उत्पाद को बढ़ावाअधिकारियों/कर्मचारियों की तरक्की जल्द करने के आदेशकोविड संकट दौरान सिविल डिफेंस द्वारा जरूरतमन्दों को दवाएं पहुंचाने का सिलसिला जारीहाईकोर्ट की निगरानी में न्यायिक आयोग करे पिछले 13 वर्षों के कृषि घोटाले की जांच: चीमाफर्जीवाड़ा: विश्व तंबाकू विरोधी दिवस मनाने का लैक्चर दिया और फुर्रर हो गए सेहत अधिकारीसोना लूटने वाला सरगना पंजाब पुलिस की वर्दी, नकली आईडी, चीनी पिस्तौल सहित काबूलॉकडाउन खुलते ही फर्नीचर मार्केट मार्ग पर बेतरतीब खड़ी गाड़ियों से जाम में फंसते लोग
पंजाब

कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर

March 31, 2020 09:23 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
कोरोना वायरस के खौफ ने सरकारों को हर तरह के एतिहात बरतने के लिए विवश कर दिया है। जिसके चलते पहले राज्यभर की जेलों में सजा भुगत रहे कैदियों को पेरोल पर घर भेजने का फैसला लिया अब नशामुक्ति केंद्रों को भी लगभग खाली करने की तैयारी कर ली है। बताया गया है कि नशामुक्ति केंद्रों में उपचाराधीन जो पंजीकृत नशेड़ी हैं उन्हें केंद्रों से घर लेजाने की अनुमति दी जा रही है और उन्हें दो माह की दवा भी एडवांस में दी जा रही है।

डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। 

  

डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद घर जाने की अनुमति:
नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को घर भेजने के बारे में जानकारी देते सिविल सर्जन बरनाला डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। जिसका मुख्य मकसद नशामुक्ति केन्द्रों में जेरे ईलाज नशा मरीजों (नशेडिय़ों) को कोविड-19 के फैलाव एवं संक्रमित होने से दूर रखना है। उन्होंने कहा कि ऐसे केंद्रों पर तैनात स्टाफ को यह भी निर्देश दिए हैं कि मरीजों को कोरोना के लक्षणों (तेज बुखार, खुश्क खांसी और सांस लेने में तकलीफ) के बारे में जागरूक करना है। आपातकाल स्थिति में सेहत विभाग के टोलफ्री नंबर 104 पर संपर्क करने को कहा गया है।
41 कैदियों को किया जा चुका रिहा:
इससे पहले जिला की माननीय अदालत के चीफ जुडीशियल मजिस्ट्रेट द्वारा जिला व सेशनज जज वरिंदर अग्रवाल के दिशा-निर्देश पर बरनाला जेल से 41 कैदियों को पेरोल पर रिहा किया जा चुका है। जिनमें 26 कैदी बाहरी जिलों से संबंधित है। कैदियों को रिहा करने का कारण भी कैदियों को कोरोना वायरस से दूर रखना है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
कांग्रेसी नेता के पुत्र की मौत पर शोक की लहर, अंतिम संस्कार अधिकारियों/कर्मचारियों की तरक्की जल्द करने के आदेश कोविड संकट दौरान सिविल डिफेंस द्वारा जरूरतमन्दों को दवाएं पहुंचाने का सिलसिला जारी हाईकोर्ट की निगरानी में न्यायिक आयोग करे पिछले 13 वर्षों के कृषि घोटाले की जांच: चीमा फर्जीवाड़ा: विश्व तंबाकू विरोधी दिवस मनाने का लैक्चर दिया और फुर्रर हो गए सेहत अधिकारी सोना लूटने वाला सरगना पंजाब पुलिस की वर्दी, नकली आईडी, चीनी पिस्तौल सहित काबू 10 जून से पहले मुकम्मल हो जायेगी रजबाहों/माईनरों की सफ़ाई शराब पर कोविड सैस लगाकर लेंगे 145 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व पंजाब में मैन मार्केट, सैलून, शराब की दुकानों, सपा आदि निर्धारित संचालन विधि की पालना के साथ आज से खुले कांग्रेसी मंत्रियों ने केंद्र द्वारा संघीय ढांचे का गला घोंटने पर बादलों को घेरा