ENGLISH HINDI Saturday, May 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
हिमाचल प्रदेश

हिमाचल:किताबों की दुकानें भी खुलेंगी: डीसी

April 10, 2020 06:42 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला में किताबों की दुकानें प्रातः आठ बजे से लेकर दोपहर 11 बजे तक खोलने के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि कई स्कूलों में आनलाइन पढ़ाई आरंभ हो चुकी है तथा विद्यार्थियों की सुविधा के लिए ही किताबों की दुकानों को खोलने का निर्णय लिया गया है। ऐसी दुकानें ही खुलेंगी जिनमें केवल स्टेशनरी का ही सामान हो और दुकानों पर उचित सामाजिक दूरी बनाए रखने के दिशा निर्देश भी दिए गए हैं। खाद्य वस्तुओं, सब्जियों तथा मेडिसन की दुकानों को पहले की तरह ही प्रातः आठ बजे से दोपहर 11 बजे तक खुले रखने के निर्देश दिए गए हैं।   

सब्जियों तथा खाद्य वस्तुओं की रेट लिस्ट लगाना जरूरी


उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन की ओर से कारगर कदम उठाए जा रहे हैं। लोगों की आवाजाही को पूर्णतयः अंकुश लगाया जा रहा है सीमांत क्षेत्रों में चौकसी बढ़ाई गई है और लोगों से घरों में ही रहने की हिदायतें दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कई जगहों पर लोगों को खाद्य वस्तुओं की होम डिलीवरी की व्यवस्था भी की गई है ताकि कम से कम लोग आवश्यक खाद्य सामग्री खरीदने के लिए घर से बाहर निकलें। उन्होंने कहा कि घुमंतु परिवारों, मजदूरों को भी राशन उपलब्ध करवाने के लिए उपयुक्त कदम उठाए गए हैं।
फसलों की कटाई के लिए समय सीमा तय करने भी लेंगे निर्णय:
उपायुक्त प्रजापति ने कहा कि खेतीबाड़ी तथा फसलों की कटाई के लिए समय सीमा तय करने के लिए 11 अप्रैल को निर्णय लिया जाएगा ताकि किसानों को भी किसी तरह की असुविधा नहीं हो। स्थानीय स्तर पर किसानों से सब्जियां खरीदने और मंडियों तक पहुंचाने की व्यवस्था एपीएमसी के माध्यम से की गई है।
आईसोलेशन सेंटर में नागरिकों को 14 दिन की अवधि पूरी करनी होगी:
कांगड़ा जिला के सीमांत क्षेत्रों में स्थापित आईसोलेशन केंद्रों में रखे गए नागरिकों को 14 दिन की अवधि के बाद ही घर जाने की अनुमति मिलेगी तथा इस दौरान उनका मेडिकल चेकअप भी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आईसोलेशन केंद्रों में नागरिकों को भोजन, ठहरने सहित अन्य सुविधाएं भी दी जा रही हैं इसके साथ ही योग शिविर भी लगाए जा रहे हैं। उपायुक्त ने कहा कि बाहरी राज्यों या अन्य जिलों से लोगों की आवाजाही पर पूर्णतयः रोक है तथा अगर कोई पैदल चलते हुए भी कांगड़ा जिला में प्रवेश करते पाया गया तो उनको सीमांत क्षेत्रों में स्थापित आईसोलेशन केंद्रों में 14 दिन के लिए रखा जाएगा।
जिला में आवश्यक खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति:
उपायुक्त ने बताया कि 10 अप्रैल को कांगड़ा जिला में 12 गाड़ियां ब्रेड की, 207 सब्जियों के वाहन, 68 वाहन दूध के, 38 गाड़ियां रसोई गैस की, पेट्रोल डीजल की 7 वाहन तथा अनाज की 85 गाड़ियों, मेडिसन की 41 वाहनों द्वारा आपूर्ति की गई है। खाद्य निगम के गोदामों में दो महीने के राशन के भंडारण किया गया है इसके अतिरिक्त 25 ट्रक खाद्यान्नों की सप्लाई की गई है। गुरदासपुर, जलंधर, पठानकोट सब्जी मंडियों से भी सब्जियों की आपूर्ति हो रही है। खाद्य निगम पंजाब से 1100 मीट्रिक टन राशन की सप्लाई आना अभी बाकी है।
खाद्य वस्तुओं तथा सब्जियों के दुकानों पर रेट लिस्ट लगाना जरूरी
उपायुक्त प्रजापति ने कहा कि खाद्य वस्तुओं तथा सब्जियों की दुकानों पर रेट लिस्ट लगाना जरूरी है, रेट लिस्ट नहीं लगाने वाले दुकानदारों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को नियमित तौर पर रेट लिस्ट चेक करने के दिशा निर्देश भी दिए गए हैं। उपायुक्त ने लोगों से भी अपील करते हुए कहा कि घरों में भी खाद्य वस्तुओं का भंडारण नहीं करें। उन्होंने कहा कि खाद्य वस्तुओं तथा सब्जियों की नियमित तौर पर सप्लाई हो रही है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें