ENGLISH HINDI Friday, August 14, 2020
Follow us on
 
पंजाब

जन्मदिन मनाने पहुंची पुलिस ने उड़ाई सोशल डिस्टैंसिंग आदेश की धज्जियां

May 07, 2020 05:17 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
पंजाबी पॉप गायक सिद्धू मूसा वाला की ओर से ऐके-47 राइफल के साथ गोलियां चलाने के घटनाक्रम में कई मुलाजिमों सहित लपेटे में आए संगरूर पुलिस के एक डीएसपी के मुअत्तल होने के कांड से पुलिस ने सबक नहीं लिया। बरनाला के एक डीएसपी रैक के अधिकारी अपने साथ 8 मुलाजिमों को लेकर अधेड़ उम्र की महिला का जन्मदिन मनाने और केक पहुंचाने की जगह उसके घर के अंदर पहुंच सोशल डिस्टैंसिंग कानून की धज्जियां उड़ाई। जिससे संबंधित वायरल हुई फोटो को लेकर कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर परिवार और पुलिस पर प्रश्न चिन्ह लगाया है। विश्वसनीय सूत्र बतातें है कि मामला पंजाब पुलिस के डीजीपी दिनकर गुप्ता के दरबार पहुंच गया है।   

चार दिन पहले पंजाबी पॉप गायक सिद्धू मूसा वाला के अध्याय से पुलिस ने नहीं लिया सबक, अपने साथ 8 मुलाजिमों को लेकर महिला के घर पहुंच कटवाया केक।


यह बताया मामला:
कोरोना वायरस को मात देने के लिए प्रदेश के अंदर लॉकडाउन लगा हुआ है। जिसको लेकर डीजीपी पंजाब दिनकर गुप्ता के आदेश के बाद राज्यभर के पुलिस विभाग ने परिवारों की खुशियां जारी रखने के लिए विशेषतौर पर बच्चों के जन्मदिन कार्यक्रमों पर केक भेजने शुरू किए हैं। आदेश यह भी हैं कि जिस किसी भी परिवार में बच्चों के जन्मदिन हों, पुलिस टीम उस घर के द्वार पर केक पहुंचा और मुबारकबाद के शब्द कहकर वापस लौट आएगी। इसके साथ ही विवाह समागम पर भी दूल्हे-दुल्हन के अलावा दोनों परिवारों के चार-पांच व्यक्ति ही शामिल होने के आदेश है। जबकि बरनाला पुलिस का एक अधिकारी अपने साथ 8 मुलाजिमों सहित शहर के अंदर स्थित सेखा फाटक के पास एक महिला का जन्मदिन का केक पहुंचाने ही नहीं गया, बल्कि उसके घर के अंदर बैठकर सोशल डिस्टैंसिंग की पूरी तरह धज्जियां उड़ाई। इस मौके पर जन्मदिन मना रही महिला के परिवार के पांच सदस्य और कांग्रेस पार्टी (युवा विंग) का एक नेता भी हाजिर था। जिनमें से किसी ने महिला का जन्मदिन मनाने और उसको केक पकड़ाने से पहले उसका जन्म सर्टिफिकेट भी देखना मुनासिब नहीं समझा।
वर्णनणीय है कि जिला बरनाला के एसएसपी संदीप गोयल अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए दिन रात सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करने, साबुन से बार-बार हाथ साफ करने और सैनेटाईजर का इस्तेमाल करने के बारे में कस्बों, शहरों और गांव-गांव जाकर प्रेरित कर रहे हैं। जरूरतमन्द परिवारों को राशन किटें भी वितरित कर रहे हैं। बरनाला में घटी उक्त घटना ने पुलिस विभाग के फर्ज को दरकिनार ही नहीं किया बल्कि जिला पुलिस मुखी के सपनों का हनन भी कर दिया है।
यह कहते हैं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता:
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और नगर सुधार ट्रस्ट बरनाला के चेयरमैन मक्खन शर्मा का कहना है कि जिस किसी कांग्रेसी वर्कर ने कानून और पार्टी के हुक्मों की धज्जियां उड़ाई हैं, उसके खिलाफ कार्यवाही करने के लिए पार्टी प्रधान को लिखकर भेजा जा रहा है।     

यह कहते हैं पुलिस अधिकारी:
आईजी पटियाला (रेंज पटियाला) जतिन्दर सिंह औलख आईपीएस का कहना है कि सोशल डिंस्टैंसिंग का कानून पुलिस के लिए भी है, ना कि सिर्फ आम लोगों के लिए। बरनाला के जिस पुलिस अधिकारी ने कोताही की है उसके बारे में जांच की जाएगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
मुख्यमंत्री द्वारा नकली शराब मामले में डी.जी.पी. को भद्दे ढंग से निशाना बनाने के लिए मजीठिया की कड़ी आलोचना माईक्रो और सीमित ज़ोनों में 100 प्रतिशत टेस्टिंग के निर्देश पटियाला में लगने वाले धरने लोगों की जान के लिए बने खतरा: सिंगला स्कूल के ऑनलाइन पेंटिंग और निबंध प्रतियोगिता 13 अगस्त को जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा ‘ऐजूकेशन हब्ब’ के तौर पर विकसित होगा मोहाली, यूनिवर्सिटी की स्थापना के लिए ‘लैटर ऑफ इनटैंट’ जारी सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीद शहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करना