ENGLISH HINDI Thursday, May 28, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

कोविड–19 प्रबंधन हेतु पर्याप्त स्वास्थ्य अवसंरचना व स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थापना

May 10, 2020 07:29 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
देश में कोविड-19 के प्रबंधन के लिए पर्याप्त स्वास्थ्य अवसंरचना और स्वास्थ्य सुविधाओं की पहचान की गई है और इन्हें स्थापित किया गया है। कोविड-19 मामलों के प्रबंधन के लिए समर्पित सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं को निम्न तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है।
श्रेणी 1- समर्पित कोविड अस्पताल (डीसीएच)-समर्पित कोविडअस्पताल ऐसे अस्पताल हैं जो मुख्य रूप से उन लोगों को व्यापक देखभाल प्रदान करते हैं जिन्हें चिकित्सकीय रूप से गंभीर की श्रेणी में रखा जाताहै। इन अस्पतालों मेंनिश्चित ऑक्सीजन सहायता के साथ आईसीयू, वेंटिलेटर और बेड होंगे। इन अस्पतालों में संदिग्ध और पुष्ट मामलों के लिए अलग-अलग क्षेत्र होंगे। समर्पित कोविड अस्पताल, समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्रों और कोविड देखभाल केंद्रों के लिए रेफरल केंद्रों के रूप में काम करेंगे।
श्रेणी 2-समर्पित कोविडस्वास्थ्य केंद्र (डीसीएचसी)-समर्पित कोविडस्वास्थ्य केंद्र ऐसे अस्पताल हैं जो उन सभी मामलों की देखभाल करते हैं जिन्हें चिकित्सकीय रूप से हल्का (माइल्ड) मानाजाता है। समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र के पास संदिग्ध और पुष्ट मामलों के लिए अलग-अलग क्षेत्र होंगे। इन अस्पतालों में निश्चित ऑक्सीजन सहायता के साथ बेड उपलब्ध होंगे। प्रत्येक समर्पित कोविडस्वास्थ्य केंद्र को एक या एक से अधिक समर्पित कोविडअस्पतालों सेजोड़ा गया है।
श्रेणी 3- समर्पित कोविडदेखभाल केंद्र (डीसीसीसी)-कोविडदेखभाल केंद्र केवल उन मामलों के लिए देखभाल की पेशकश करेगा जिन्हें चिकित्सकीय रूप से हल्के या बहुत हल्के मामलों या कोविडसंदिग्धों के रूप में मानाजाता है। ये अस्थायी सुविधाएं हैं जो राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों द्वाराहॉस्टल, होटल, स्कूल, स्टेडियम, लॉज आदि में स्थापित की जा सकती हैं। ये सुविधाएं सार्वजनिक और निजी दोनों ही प्रकार सुविधाओं में स्थापित की जा सकती हैं। इन सुविधाओं में संदिग्ध और पुष्ट किए गए मामलों के लिए अलग-अलग क्षेत्र होंगे। प्रत्येक समर्पित कोविडदेखभाल केंद्र को एक या एक से अधिक समर्पित कोविडस्वास्थ्य केंद्रों और रेफरल उद्देश्य के लिए कम से कम एक समर्पित कोविडअस्पताल सेजोड़ा गया है।
10 मई तक, सभी राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों के 483 जिलों में 7740 सुविधाओं की पहचान की गई है, जहाँ राज्य/ केंद्र शासित प्रदेशों के अस्पतालों के साथ-साथ केंद्र सरकार की सुविधाएं भी मौजूद हैं। अभी कुल 656769 आइसोलेशन बेड, पुष्ट मामलों के लिए 305567 बेड, संदिग्ध मामलों के लिए 351204 बेड, ऑक्सीजन सुविधा के साथ 99492 बेड, ऑक्सीजन सुविधा (मैनिफोल्ड) के साथ 1696 सुविधाएं और 34076 आईसीयू बेड उपलब्ध हैं।
भारत सरकार ने सभी राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों से अनुरोध किया गया है कि वे तीनों प्रकार की कोविडसमर्पित सुविधाओं को सार्वजनिक सूचना के लिए अपने वेबसाइट पर अधिसूचित और अपलोड करें। 32 राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों ने अपनी वेबसाइटों/ सार्वजनिक सूचना प्लेटफार्मों पर पहले ही सूचना अपलोड कर दी है और बाकी सभी ऐसा करने की प्रक्रिया में हैं।
राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) में कोविड-19 के लिए परीक्षण क्षमता को और बढ़ाने की आवश्यकता के मद्देनजर, सशक्त समूह 2 की सिफारिशों के अनुसार एक उच्च क्षमता कीमशीन की खरीद को मंजूरी दी गई थी। कोबस 6800 परीक्षण मशीन को सफलतापूर्वक एनसीडीसी में स्थापित किया गया है। एनसीडीसी,जरूरत के अनुसार दिल्ली, एनसीआर, लद्दाख, जे एंड के और अन्य राज्यों से नमूनों के परीक्षण के लिए सहायता प्रदान कर रहा है। वर्तमान में एनसीडीसी में परीक्षण क्षमता प्रति दिन लगभग 300-350 परीक्षण की है। कोबस 6800 मशीन में 24 घंटों में लगभग 1200 नमूनों का परीक्षण करने की क्षमता है। इससे कोविड-19 के लिए एनसीडीसी की परीक्षण क्षमता में काफी वृद्धि हुई है।
अब तक कुल 19,357 लोग ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 1511 मरीज ठीक हुए हैं। इससे ठीक होने की दर 30.76 प्रतिशत हो गयी है। पुष्ट किए गए मामलों की कुल संख्या अब 62,939 है। कल से, भारत में कोविड-19 के पुष्ट मामलों की संख्या में 3277 की वृद्धि हुई है।
कोविड-19 पर किसी भी प्रश्न के मामले में, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की हेल्पलाइन नं : + 91-11-23978046 या 1075 (टोल-फ्री) पर फ़ोन करें। कोविड-19 पर राज्यों/ संघ राज्य क्षेत्रों की हेल्पलाइन नंबरों की सूची यहाँ उपलब्ध है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के बाद बंगाल में एनडीआरएफ की 10 अतिरिक्त टीमें तैनात की गई "जैव विविधता भारतीय संस्कृति का अनिवार्य हिस्सा है": शेखावत कोविड—19 परीक्षण में 9 पॉजिटिव जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया कोरोना संकट में आर्थिक मंदी से झूझ रहा भारतीय फिल्म जगत: प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों से सहयोग की गुहार भारत के स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन बने विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन आत्मनिर्भर भारत अभियानः संवृद्धि आवेग की आगामी तरंग की ओर लक्षित