ENGLISH HINDI Thursday, May 28, 2020
Follow us on
 
पंजाब

सरकारी दावे टायं टायं फिस्स— रोके साइकिलों से बिहार जा रहे प्रवासी मजदूर

May 16, 2020 07:24 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार के सभी दावों की उस वक्त टायं-टायं फिस्स हो गई जब फरीदकोट जिले के कोटकपूरा शहर से बिहार जाने के लिए 11 प्रवासी मजदूर साइकिलों पर सवार हो चल दिए। जिन्हें बरनाला में रोक लिया गया और उन्होंने डिप्टी कमिश्नर को बताया कि कोरोना के कारण बंद हुई फैक्टरियों के मालिकों ने मजदूरों को वेतन तो क्या देना था उन्हें धमकियां देते हुए नौकरी से ही बाहर कर दिया गया है। इधर दो महीनें से कोटकपुरा प्रशासन ने भी सार तो क्या लेनी थी किसी को सरकारी राशन तक नहीं दिया।     

कोरोना वायरस महामारी के कारण बंद हुई फैक्ट्रियों के मालिकों द्वारा मजदूरों को पिछला वेतन नहीं देने, धमकियां देते नौकरी से निकालने और कोटकपुरा प्रशासन की ओर से सरकारी राशन भी उपलब्ध नहीं होने से परेशान मजदूरों ने लिया साइकिलों पर बिहार जाने का फैसला।


उल्लेखनीय है कि रोके गए प्रवासी मजदूरों के लिए भोजन प्रबंध और ठहराव प्रबंध से लेकर उन्हें साइकिलों की बजाय रेलगाडी द्वारा बिहार भेजने के लिए प्रबंध कर दिए है। जिन्हें फिरोजपुर से रवाना किया जाएगा।  
डिप्टी कमिश्नर बरनाला को सूचना मिली थी कि 11 प्रवासी लोग कोटकपूरा से साइकिलों पर बिहार के लिए बरनाला में से गुजर रहे हैं। सूचना मिलने पर तुरंत पहुंचे डिप्टी कमिश्नर तेज प्रताप सिंह फूलका ने प्रवासी मजदूरों को रोक कर बातचीत की। उन्हें सरकारी प्रबंधों तले बिहार भेजने का वादा किया। डिप्टी कमिश्नर ने संबंधित अधिकारियों को सभी प्रवासी मजदूरों के लिए बस का प्रबंध करने, उनके ठहरने, खाने-पीने का प्रबंध और बिहार भेजने के लिए रेल गाड़ी तक पहुंचाने का प्रबंध करने के लिए आदेश जारी हुए। उसके बाद सभी मजदूरों को बरनाला जिला प्रशासनिक परिसर में स्थित सरकारी रसोई में लाया गया। जहां उन्हें पेटभर भोजन करवाया गया।  

मजदूरों ने खोली सरकारी दावों की पोल:
कोटकपूरा से साइकिलों के द्वारा बिहार जा रहे और बरनाला प्रशासन द्वारा रोके गए प्रवासी मजदूरों ने सरकारी दावों को पूरी तरह अधारहीन बताया है। उन्होंने कहा कि वह कोटकपुरा की लोहे की फैक्ट्री में काम करते थे। लॉकडाउन के बाद उन्हें पिछली तनख्वाह तो क्या देनी थी, उन्हें गालियां देते और धमकियां देते हुए फैक्ट्री से बाहर निकाल दिया गया। उन्होंने बताया कि उनके खुद के पास जितने पैसे थे वह तो लौकडाउन के पहले हफ्ते ही खत्म हो गए। फरीदकोट और कोटकपूरा प्रशासन ने वहां के बाकी जरूरतमन्द परिवारों को क्या मदद की होगी, के बारे में नहीं जानते परन्तु उनमें से किसी की सार तक नहीं ली। उसके बाद उन्होंने बिहार से पैसे मंगवाए जब वह भी खत्म होने की कगार पर जा पहुंचे और जब देखा कि आगे हालात इससे ज्यादा बदतर होने वाले है तो उन्होंने साइकिलों पर सवार होकर बिहार जाने का फैसला लिया। बिहार से मंगवाए हुए बचे पैसों में से नए साइकिल खरीदे गए हैं।
यह थे सरकारी दावे:
कोविड-19 महामारी की दस्तक होने और पूरे देश में लॉकडाउन करने के साथ ही राज्य व केंद्र सरकारों ने दावा किया था कि कोरोना वायरस के कारण कोई भी कंपनी मालिक या फैक्ट्री मालिक मजदूरों को नौकरी से बाहर नहीं करेगा और किसी का वेतन नहीं काटेगा। आलम यह है कि जिन फैक्ट्रियों के मजदूरों के वेतन नहीं कटवाये, वहां की फैक्ट्रियां प्रशासन से मिलीभगत के चलते फैक्ट्रियों को ताला लग गया उनके मालिकों ने वर्करों की छुट्टी करना शुरू कर दिया।
आज की रात प्रवासी रहेंगे स्कूल में:
एडीसी (जन) मैडम रूही दुग्ग ने बताया है कि कोटकपूरा से आए प्रवासी मजदूरों को जिला रैडक्रॉस सोसायटी से संबन्धित रसोई में भोजन करवाने के बाद सभी को बस के द्वारा धनौला के सरकारी हाई स्कूल में भेजा गया है। रविवार की सुबह इन्हें नाश्ता करवा कर बस द्वारा फिरोजपुर रेलवे स्टेशन छोड़ा जाएगा, वहां से रेल गाड़ी द्वारा सभी मजदूर बिहार जा सकेंगे।
सरकारी प्रबंधों तलेे बिहार भेजे जाएंगे प्रवासी: डीसी
डिप्टी कमिश्नर तेज प्रताप फूलका का कहना है कि इस महामारी के समय में जिला बरनाला प्रशासन मानवता की भलाई में जुटा हुआ है। फरीदकोट जिले के कोटकपूरा शहर से साइकिलों पर चले प्रवासी मजदूरों को बिहार भेजने के लिए विशेष प्रबंध किये गए हैं। प्रवासी अब साइकिलों पर नहीं बल्कि रेलगाडी के द्वारा बिहार पहुंच सकेंगे। कोटकपूरा से आए सभी प्रवासी मजदूरों के विवरण जिला प्रशासन द्वारा इकठ्ठा किये गए हैं। संबन्धित अधिकारियों से संपर्क कर मजदूरों के लिए बस का इंतजाम कर सम्मान सहित फिरोजपुर रेलवे स्टेशन तक छोड़ा जाएगा। वहाँ से इन सभी को रेलगाड़ी द्वारा बिहार के लिए रवाना किया जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
.अब पत्रकारों ने छाती पर लिखना शुरु किया मैं भी हूं पत्रकार पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री पंजाब चैप्टर ने की मीडिया उद्योग को राहत देने की मांग पंजाब राज्य में दाखि़ल होने वाले सभी यात्रियों के लिए व्यापक दिशा-निर्देश जारी चंडी माता मंदिर पर अधिग्रहण के विरोध की आग पहुंची पंजाब राणेवाल कत्ल कांड की ‘आप’ ने की जोरदार निंदा वैश्विक कोरोना संकट होने के बावजूद लोग नहीं ले रहे सबक पुलिस और मनोचिकित्सक करेंगे घरेलू हिंसा से प्रभावित महिलाओं की समस्याओं का हल 45 पुलिस अधिकारियों के तबादले हॉकी स्टार पद्म श्री बलबीर सिंह सीनियर का पूरे राजकीय सम्मान सहित अंतिम संस्कार पंजाब में आपातकालीन चिकित्सा ई-पास एक भ्रम: क्या कोई कार्रवाई करेगा?