ENGLISH HINDI Saturday, September 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अबोहर तस्वीर के सम्पादक राजेश सचदेवा को भार्याशोककिसानों के गुस्से के आगे सिवल-पुलिस प्रशासन की हुई बस, व्यापारी डराकिसान आक्रोष: डेराबस्सी में जाम किया गया चंडीगढ़ दिल्ली हाईवेभारत में हर वर्ष मुंह के कैंसर के सवा लाख नए केस, मुंह के कैंसर के 80 प्रतिशत केसों का कारण तंबाकू: डा. राजन साहूडेराबस्सी में निर्माणाधीन दो मंजिला बिल्डिंग धराशाही, चार की मौत मुख्यमंत्री का निजी सहायक बनकर अधिकारियों और अन्यों को धोखा देने वाला सिपाही गिरफ्तारहरियाणा: पुलिस ने 3 बच्चों सहित चार लापता को परिवार से मिलवायाछात्रवृति योजनाओं की ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30 नवम्बर
पंजाब

सावधान: कर्फ्यु खत्म हुआ है कोरोना नहीं

May 18, 2020 08:05 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की ओर से 18 मई से कर्फ्यु खत्म करने का ऐलान करने के बाद सोमवार की सुबह बाजारों में उतरे लोगों और व्यापारियों के चेहरों पर रौणक तो देखने को मिली, लेकिन देश में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा 96 हजार से पार होने, अब तक 3049 मौतें होने और गुजरे 24 घंटे के दौरान 5 हजार नए केस आने के बावजूद लोगों ने सबक नहीं लिया। बाजारों में उतरे लोगों ने लौकडाउन के मुख्य तीन नियम (एस.एम.एस.) की पालना नहीं की। बताने योग्य है कि पंजाब प्रदेश सरकार के आदेश पर कर्फ्यु खत्म हुआ है ना कि कोरोना। क्यूंकि लॉकडाउन अभी जारी है। जिसको जारी रखने के लिए पंजाब में बढ़ाकर 31 मई तक कर दी गई है। जिसके अंर्तगत स्कूल व कालेज सहित सभी शैक्षणिक संस्थान बंद रखने, होटल व रेस्टोरेंट, हजामत व सैलून की दुकाने, सिनेमा हाल व मॉल्ज बंद रखने, राजनैतिक, धार्मिक, सत्संग, खेल, सांस्कृतिक कार्यक्रम बंद रखने के आदेश हैं।
आर्थिक स्थिती के मद्देनजर खोले गए बाजार:
वैश्विक कोरोना वायरस महामारी (कोविड-19) से बचाव के लिए देशभर में पहले लॉकडाउन और उसके अगले दिन कर्फ्यु लगाना पड़ा था। शुरुआत में लोगों को 21 दिनों के लिए घरों के अंदर रहने को कहा गया, जिन्होंने सरकार की हर तरह की हिदायतों की पालना भी बाखूबी की। हालांकि प्रशासन की ओर से व्यापारियों को सख्त आदेश जारी किए थे कि कोई भी दुकानदार जरूरी वस्तुओं की कालाबाजारी नहीं करेगा। जिसको लेकर जिला प्रशासन की तरफ से कुछ जगह पर केस भी दर्ज किए गए। उसके बावजूद दवा, किराना दुकानदारों और फल-सब्जी विक्रेताओं ने जरूरी वस्तुओं में शामिल (दवाएं/सैनेटाईजर/मास्क और दालें/फल-सब्जियों) की मनमर्जी की कीमतें वसूलते कालाबाजारी को अंजाम दिया। आलम यह रहा कि लोगों को मजबूरीवश इन वस्तुओं की खरीददारी ज्यादा कीमत अदा कर करनी पड़ी। करीब दो महीने चले कर्फ्यु के दौरान सभी कारोबार बर्बाद होने की कगार पर पहुंच गए, जिससे सरकार को भी रेवेन्यू आना बंद हो गया। लोगों की जरूरतें पूरी नहीं कर सकने एवं सरकारी खजाने की आर्थिक स्थिति डावांडोल होती देख मजबूरी के चलते राज्य सरकार को कर्फ्यु खत्म करने का फैसला लेना पड़ा।
बाज़ार खुले, एस.एम.एस नजरअन्दाज:
सरकार की ओर से बाजार खोलने के लिए फैसले के बाद बाजार तो खुल गए, लेकिन 58 दिनों बाद बाजारों में उतरे लोगों ने शोशल डिस्टैंसिंग, मास्क और सैनेटाईजर (एसएमएस नियम) को नजरअंदाज रखा। बताने योग्य है कि देश में गत 24 घंटे के दौरान 5 हजार नये केस दाखिल होने से कोरोना वायरस पॉजिटिव की संख्या 96169 हो चुकी है।
कोरोना ने मंत्रियों-अधिकारियों के बीच पैदा की खट्टास:
कहते हैं पैसा ही सबसे बड़ी फसाद की जड़ है। एक तरफ तो सरकारी तंत्र जमीनी स्तर पर लोगों की जरूरतें पूरी करने पर नाकाम साबित हो रहा था, दूसरी ओर मंत्रियों व वरिष्ठ अधिकारियों की खुद की जरूरतें पूरी होने पर लॉक लग गया था। जिसके चलते शराब के कारोबार को लेकर प्रदेश के मंत्रियों की सरकारी वरिष्ठ अधिकारियों के बीच बड़ा तनाव पैदा हुआ। नतीजा यह है कि यदि कोरोना महामारी के दाखिले ने लोगों को शारीरिक तौर पर ही परेशान नहीं किया, बल्कि राजसी लोगों की अपनी ही सरकार के दिग्गज अधिकारियों के बीच भी कड़वाहट पैदा कर डाली।
ये कहते हैं सेहत अधिकारी:
डाक्टर मनप्रीत सिंह सिद्धू का कहना है कि भले ही पंजाब प्रदेश में दूसरे राज्यों के मुकाबले कोरोना पीडितों की संख्या तकरीबन खत्म होने की स्टेज पर है, परन्तु फिर भी कोरोना का खतरा बरकरार है। यदि लोगों ने शोशल डिस्टैंसिंग, मास्क और सैनेटाईजर (एसएमएस) नजरअंदाज किया तो यह बीमारी कभी भी भयानक रूप धारण कर सकती है।

— एडिश्नल डिस्ट्रिक कमिश्नर रूही दुग्ग का कहना है कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए जिला प्रशासन की ओर से शोशल डिस्टैंसिंग, मास्क और सैनेटाईजर की हिदायतों का पालन करने के जारी निर्देश पहले की तरह रहेंगे। जैसे पिछले 58 दिनों में लॉकडाउन व कर्फ्यु के दौरान लोगों को जागरूक किया जा रहा था, प्रशासन की तरफ से जागरूकता मुहिम आगे भी जारी रहेगी। समय-समय पर बाजारों में सर्वे भी किया जाएगा। जिस किसी जगह पर नियमों का उल्लंघना करने का मामला ध्यान में आया तो कार्यवाही की जाएगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
अबोहर तस्वीर के सम्पादक राजेश सचदेवा को भार्याशोक किसानों के गुस्से के आगे सिवल-पुलिस प्रशासन की हुई बस, व्यापारी डरा किसान आक्रोष: डेराबस्सी में जाम किया गया चंडीगढ़ दिल्ली हाईवे डेराबस्सी में निर्माणाधीन दो मंजिला बिल्डिंग धराशाही, चार की मौत मुख्यमंत्री का निजी सहायक बनकर अधिकारियों और अन्यों को धोखा देने वाला सिपाही गिरफ्तार प्री-प्राईमरी अध्यापकों के 8393 पद भरने की मंज़ूरी, वॉलंटियरों को मिलेगी छूट कैबिनेट द्वारा पंजाब राज सतर्कता आयोग की स्थापना को मंजूरी पंजाब सरकार ने प्राईवेट लैबज़ के लिए कोविड-19 टेस्ट रेट घटाए अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के पहुँचने पर एकांतवास के लिए रैपिड एंटीजेन टैस्ट जरूरी पंजाब पुलिस शिकायत अथॉरिटी के काम-काज संबंधी नियमों को मंजूरी