ENGLISH HINDI Sunday, January 24, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
संत कबीर फाउंडेशन के स्पेशल बच्चों ने गणतंत्र दिवस के उपलक्ष पर आयोजित किए रंगारंग कार्यक्रमखेती कानूनों के विरुद्ध संघर्ष में शहीद हुए 162 किसानों को केंद्र 25-25 लाख का मुआवज़ा दे: पंजाबी कल्चरल कौंसलनाबालिग से छेड़छाड़ का मामला:बाबा देवनाथ ने बीजेपी नेता अनिल दूबे के खिलाफ शिकायत देकर फूंका पुतलानैटबॉल के पहले पूल मुक़ाबलों में जिला मानसा के पुरुष/महिला दोनों वर्गों की बल्ले-बल्लेनैशनल शेड्यूल्ड कास्टस एलायंस और दलित संघर्ष मोर्चा ने कैप्टन सरकार के अड़ियल व्यवहार के खिलाफ दलित महापंचायत बुलाने का निर्णयप्रतिबंधित चायना डोर बेचने जा रहा व्यक्ति काबू, डोर के 110 गट्टू बरामदपहली गेंद पर छक्का: जिला ओलंपिक एसोसिएशन के पुनः होंगे चुनाव: उपायुक्तहास्य व्यंग्य: मेरा मोटर साईकल और गणतंत्र दिवस
हिमाचल प्रदेश

संस्थागत क्वारंटीन में लोगों की नियमित चिकित्सा जांच सुनिश्चित की जाएः मुख्यमंत्री

May 19, 2020 06:07 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य के सभी उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए निर्देश दिए कि संस्थागत क्वारंटीन में रखे गए लोगों की नियमित चिकित्सा जांच सुनिश्चित बनाने के साथ-साथ एक्वारंटीन केंद्रों में पर्याप्त सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि डाॅक्टरों की टीम क्वारंटीन केंद्रों का दौरा अवश्य करे ताकि वहां रहने वाले लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें। बुजुर्गो और लंबी बीमारी से पीड़ित मरीजों को सभी आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएं और जरूरत पड़ने पर उन्हें स्वास्थ्य संस्थानों में स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने कहा कि यदि आवश्यकता पड़ने पर होटलों को भी संस्थागत क्वारंटीन केंद्रों के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। इससे इन केंद्रों में रहने वाले लोगों का मनोबल भी बढ़ेगा।
जय राम ठाकुर ने कहा कि जिला प्रशासन को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि देश के अन्य हिस्सों से आने वाले हिमाचलियों के घर पहुंचने से पहले ही पंचायती राज संस्थाओं के चुने हुए प्रतिनिधियों को उनकी सूचना उपलब्ध करवाई जाए।
उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मी बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों की घर वापसी से पहले ही ऐसे लोगोें के घरों का दौरा करें ताकि उसके परिवार के सदस्यों को शारीरिक दूरी बनाने के महत्व के बारे में जागरूक किया जा सके। स्वास्थ्य कर्मियों और पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों को सुनिश्चित करना होगा कि ऐसे घरों में अलग कमरों और शौचालयों की उचित सुविधा हो। यदि सुविधा उपलब्ध नहीं हो तो ऐसे लोगों को नजदीक के पंचायत घर, युवक मंडल भवन, महिला मंडल भवन और सामुदायिक केंद्रों में स्थानांतरित किया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रवासी मजदूरों की सुविधा के लिए प्रदेश में राष्ट्रीय योजना ”वन नेशन-वन राशन कार्ड“ शुरू की है। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रवासी मजदूरों को दो माह तक निःशुल्क खाद्य सामग्री मिले। उन्होंने कहा कि जिन मजदूरों के पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें भी प्रति व्यक्ति पांच किलोग्राम गेहूं या चावल और प्रति माह एक किलोग्राम दाल निःशुल्क दी जाएगी।
जय राम ठाकुर ने कहा कि संस्थागत व होम क्वारंटीन से बाहर आने वाले लोगों को अन्य लोगों को को कोविड-19 के बारे में जागरूक बनाने के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में कार्य करने के लिए प्रेरित करने के प्रयास किए जाने चाहिए।
मुख्य सचिव अनिल खाची ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि राज्य सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाएगा।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
गुड सेमेरिटन किसी सिविल/आपराधिक दायित्व के लिए जिम्मेवार नहीं: आरटीओ पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय डरोह को देशभर में प्रथम स्थान प्राप्त: डॉ. फुलझेले कोरोना पर अंतिम वार : दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान :अनुराग ठाकुर पंचायतों के पहले चरण में होने वाले चुनाव के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय सियासत: कांगड़ा की राजनीति में ऊफान, संजय रतन ही कांग्रेस के रतन जुर्माने के रूप में 1300 वाहनों से वसूले 18 लाख रुपये पौंग डैम में एच5एन1 वायरस से हुई प्रवासी पक्षियों की मृत्यु कुफरी में भारत का पहला स्की पार्क विकसित करने के लिए समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित ‘बर्ड फलू’ से बचाने के लिए लोगों से प्रांरभिक रोकथाम व नियंत्रण के उपाय करने की अपील