ENGLISH HINDI Thursday, June 04, 2020
Follow us on
 
पंजाब

बठिंडा निगम के मेयर से लेकर पार्षद पांच साल में हड़प गए करीब 6 करोड़

May 19, 2020 09:28 PM

बठिंडा, अखिलेश बंसल:
बठिंडा निगम के मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर और तमाम नगर पार्षद गत पांच साल में करीब 6 करोड़ हड़प कर गए। यह खुल्लासा ग्राहक जागो संस्था के सचिव एवं आरटीआई एक्टीविस्ट संजीव गोयल द्वारा सूचना का अधिकार-2005 के तहत हासिल की गई जानकारी से किया गया है। जिसने पूरे जिलावासियों के होश उड़ा दिए हैं। गौर हो कि लोगों द्वारा किए गए मतदान के बलबूते निगम के उक्त ओहदों पर तैनात होने के बाद पदाधिकारियों ने एक बार भी पीछे मुडक़र नहीं देखा है। जिससे नगर की स्थिती बद से बदतर है। जो समस्याएं पांच साल पहले थी नगर का उससे भी ज्यादा बुरा हाल है।
ग्राहक जागो संस्था के सचिव और आर.टी.आई. एक्टिविस्ट संजीव गोयल ने बताया कि उसके द्वारा सूचना का अधिकार-2005 के तहत 06 मार्च 2020 को आर.टी.आई. आवेदन कर जानकारी हासिल की गई है। जिसमें साल 2015 के बाद से मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर और सभी म्युनिसिपल काउंसलरों को दिये गये सभी फंड और मान भत्तों की सूचनात्मक जानकारी 15 मई 2020 को हासिल हो सकी। यहां यह भी बतातें चलें कि नगर निगम बठिंडा के मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर और म्युनिसिपल कौंसलरों का कार्यकाल 08 मार्च 2020 को पूरा हो चुका है।
नगर के 50 म्युनिसिपल कौंसलरों को एक वर्ष में मिले सभी भत्तों की रकम 10275000/- रूपये बनती है, जबकि पांच वर्षों में यह रकम 51375000/- रूपये बन जाती है। इस तरह मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर और सभी नगर पार्षदों को पिछले 5 सालों में भत्तों के रूप में 5,87,17,500/- रूपये दिए गए हैं । जिसमें से सिर्फ टेलीफोन अलाउंस ही 6240000/- रूपए दिया गया है जो कि 2000/- प्रति महीना के हिसाब से बना है।  

ग्राहक जागो संस्था के सचिव एवं आरटीआई एक्टीविस्ट ने किया खुल्लासा, लोगों के उड़े होश।


गौरतलब है कि एक ओर तो निगम प्रशासन कह रहा है कि निगम पिछले कुछ समय से वित्तीय संकट से गुजर रहा है। जब बहुत सी निजी फोन कंपनियां अपने ग्राहकों की संख्या बढ़ाने को दूसरी कंपनियों के मुकाबले सबसे कम रेट पर अनलिमिटेड कॉल्स की सुविधा प्रदान करने को तैयार हैं तो निगम प्रशासन इसके लिए तैयार क्यूं नहीं हुआ।
लोग हैं हैरान:
मतदाताओं द्वारा चिलचिल्लाती हुई धूप और जाड़े की सर्दी में खड़े होकर इन पार्षदों के लिए मतदान कर उन्हें पदों पर विराजमान किया है, उन्हें शानौशौकत की जिंदगी बसर करने के लिए सजा सजाया प्लेटफार्म परोसा है। जबकि उनमें हजारों ऐसे भी मतदाता हैं जिन्हें दो वक्त की रोटी तक नसीब नहीं हो पा रही।
मतदाताओं ने लुटाया इस तरह से नगर:
मेयर को एक साल में मिले 542500 रूपये (पांच वर्षों में मिले 2712500 रूपये)
संदर्भ/ विषय -------------राशि प्रति वर्ष ----------पांच वर्षों में
मान भत्ता ---------------360000 रूपये -------- 1800000 रूपये
हल्का अलाउंस ------------180000 रूपये ---------900000 रूपये
मीटिंग भत्ता ---------------2500 रूपये -----------12500 रूपये

सीनियर डिप्टी मेयर को एक साल में मिले 494500 रूपये (पांच वर्षों में मिले 2472500 रूपये)
संदर्भ/ विषय -------------राषि प्रति वर्ष ----------पांच वर्षों में
मान भत्ता ----------- ---288000 रुपए ----------1440000 रूपये
हल्का अलाउंस -----------180000 रुपए --------- 900000 रूपये
टेलीफोन अलाउंस ----------24000 रूपये ---------120000 रूपये
मीटिंग भत्ता --------------2500 रूपये-----------12500 रूपये

डिप्टी मेयर को एक साल में मिले 431500 रूपये (पांच वर्षों में मिले 21,57,500 रूपये)
संदर्भ -------------राषि प्रति वर्ष ----------पांच वर्षों में
मान भत्ता ----------225000 रूपये --------1,12,5000 रूपये
हल्का अलाउंस ------ 180000 रूपये -------- 9,00,000 रूपये
टेलीफोन ---------- 24000 रुपए ----------1,20,000 रूपये
मीटिंग भत्ता---------2500 रुपए -----------12500 रूपये

हर म्युनिसिपल कौंसलर को एक वर्ष में मिले 2,05,500 रूपये (पांच वर्षों में मिले 1027500 रूपये )
संदर्भ /विषय -------------राषि प्रति वर्ष ----------पांच वर्षों में
हल्का अलाउंस------------180000 रूपये ------- 900000 रूपये
टेलीफोन अलाउंस---------24000 रूपये ---------120000 रूपये
मीटिंग भत्ता ------------1500 रूपये -----------7500 रूपये

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
कैमिकल फैक्ट्री में बिना मंजूरी खड़ी कर दी तीन मंजिला बिल्डिंग लापरवाही: अस्पताल से रैफर हुई नवजन्मी बच्ची को लिटाया कोरोना सैंपल ले जा रही वैन में कांग्रेसी नेता के पुत्र की मौत पर शोक की लहर, अंतिम संस्कार अधिकारियों/कर्मचारियों की तरक्की जल्द करने के आदेश कोविड संकट दौरान सिविल डिफेंस द्वारा जरूरतमन्दों को दवाएं पहुंचाने का सिलसिला जारी हाईकोर्ट की निगरानी में न्यायिक आयोग करे पिछले 13 वर्षों के कृषि घोटाले की जांच: चीमा फर्जीवाड़ा: विश्व तंबाकू विरोधी दिवस मनाने का लैक्चर दिया और फुर्रर हो गए सेहत अधिकारी सोना लूटने वाला सरगना पंजाब पुलिस की वर्दी, नकली आईडी, चीनी पिस्तौल सहित काबू 10 जून से पहले मुकम्मल हो जायेगी रजबाहों/माईनरों की सफ़ाई शराब पर कोविड सैस लगाकर लेंगे 145 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व