ENGLISH HINDI Friday, August 14, 2020
Follow us on
 
पंजाब

1 जून से स्त्री रोग सेवाओं की होगी ई-संजीवनी ओपीडी की शुरूआत

May 21, 2020 11:25 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
कोविड-19 के मद्देनजऱ अस्पतालों में भीड़ एकत्रित होने से रोकने के लिए टेलीमेडिसिन राज्यभर के मरीज़ों के लिए वरदान साबित होगा, क्योंकि बहुत से लोगों को रोज़ाना डाक्टरी सलाह और पुरानी बीमारियों सम्बन्धी सुझावों की ज़रूरत होती है। आम दवाओं के लिए टैलीमेडिसिन के अलावा अब स्वास्थ्य विभाग मातृ स्वास्थ्य देखभाल (एमसीएच) को यकीनी बनाने के लिए 1 जून से स्त्री रोग सेवाओं के लिए ई-संजीवनी ओपीडी की शुरूआत करने जा रहा है।
जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिद्धू ने बताया कि पंजाब द्वारा प्रात:काल 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक जनरल मेडिसिन के लिए ई-संजीवनी ओपीडी सेवाएं पहले ही शुरू कर दी गई हैं। हालाँकि दिशा-निर्देशों के अनुसार गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था की पहली तिमाही तक अस्पताल में संक्रमण के होने का ख़तरा बढ़ जाता है और उनको अस्पताल में आने से परहेज़ करना चाहिए। इसलिए गर्भवती महिलाओं और दूध स्तनपान करवाने वाली माताओं को जन्म से पहले की देखभाल के लिए और स्त्री रोग सेवाएं प्रदान करने के लिए पंजाब सरकार स्त्री रोग सेवाओं के लिए ई-संजीवनी ओपीडी शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है।
एमसीएच सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए डॉक्टरों और स्टाफ नर्सों को प्रशिक्षण देने के लिए ऑनलाइन टैक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म के प्रयोग संबंधी जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने आगे कहा कि प्रशिक्षण सैशन के दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए विभिन्न उपाय किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कौशल में सुधार के लिए नियमित प्रशिक्षण मुहैया करवाने और स्वास्थ्य सेवाओं के प्रबंधन के लिए निर्देशों का प्रसार करने के लिए लोगों को इकठ्ठा करना मुश्किल हो गया है, इसलिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा इको ज़ूम प्लेटफॉर्म की सहायता से ऑनलाईन प्रशिक्षण सैशनों का प्रयोग किया जा रहा है। सभी डॉक्टरों, स्टाफ नर्सों और पैरा-मैडीकल स्टाफ के साथ संपर्क करके पूरे पंजाब राज्य में स्वास्थ्य सेवा संबंधी विभिन्न प्रोग्रामों के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसी तरह का एक प्रशिक्षण कोविड-19 महामारी के चलते गर्भवती महिलाओं के प्रबंधन के लिए जागरूकता संबंधी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन पंजाब, एस.एच.आई.एफ.डब्ल्यू. (राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान) प्रशिक्षण प्रभाग, मैडीकल कॉलेज, अमृतसर, पटियाला और फऱीदकोट की तकनीकी सहायता के साथ करवाया गया।
विशेष तौर पर यह प्रशिक्षण डॉयरैक्टर (परिवार कल्याण) डॉ. प्रभदीप कौर की निगरानी अधीन प्रोग्राम अफ़सर, डॉ. गुरविन्दर कौर समेत प्रोग्राम अफ़सर (एम.सी.एच.) डॉ. इन्दरदीप कौर की हाजिऱी में हुआ। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य क्लिनिकल स्टाफ को गर्भवती महिलाओं और प्रसव के प्रबंधन के विषय सम्बन्धी जागरूक करना था। इस प्रशिक्षण में अलग-अलग विषय जैसे कोविड-19 महामारी, ट्राईज और टेस्टिंग इंट्रापार्टम केयर, जन्म के बाद और नवजात बच्चों की देखभाल और सुविधा की तैयारी संबंधी विचार-विमर्श किया गया। प्रशिक्षण में राज्य भर में लेबर रूम में काम कर रहे लगभग 600 डॉक्टरों और स्टाफ नर्सों और स्पैशल न्यूबौरन केयर युनिट (एस.एन.सी.यू) ने भाग लिया। एमसीएच सेवाओं के लिए लगभग 85 स्त्री रोग विशेषज्ञों और जि़ला परिवार नियोजन अधिकारियों को ई संजीवनी ओपीडी सेवाएं देने सम्बन्धी प्रशिक्षण दिया गया।
उन्होंने कहा कि यह सेवाएं गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत मददगार होंगी, जिनको गर्भावस्था के दौरान दवा, ख़ुराक और आम देखभाल की सलाह दी जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि स्त्री रोग ओपीडी का समय सोमवार से शनिवार तक प्रात:काल 8.00 बजे से प्रात:काल 9.30 बजे तक होगा। मंत्री ने यह भी बताया कि घर रहना और अस्पताल में अनावश्यक आने से परहेज़ करना सुरक्षित होगा।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
मुख्यमंत्री द्वारा नकली शराब मामले में डी.जी.पी. को भद्दे ढंग से निशाना बनाने के लिए मजीठिया की कड़ी आलोचना माईक्रो और सीमित ज़ोनों में 100 प्रतिशत टेस्टिंग के निर्देश पटियाला में लगने वाले धरने लोगों की जान के लिए बने खतरा: सिंगला स्कूल के ऑनलाइन पेंटिंग और निबंध प्रतियोगिता 13 अगस्त को जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा ‘ऐजूकेशन हब्ब’ के तौर पर विकसित होगा मोहाली, यूनिवर्सिटी की स्थापना के लिए ‘लैटर ऑफ इनटैंट’ जारी सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीद शहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करना