ENGLISH HINDI Friday, September 18, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

भारत के स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन बने विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन

May 23, 2020 12:26 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन के रूप प्रभार ग्रहण कर लिया है। इनका कार्यकाल तीन साल होगा। कार्यकारी बोर्ड में 34 तकनीकी रूप से योग्य सदस्य शामिल हैं। डब्‍ल्‍यूएचओ कार्यकारी बोर्ड का मुख्य कार्य हेल्‍थ असेंबली की ओर से लिए गए निर्णय और नीतियों को लागू करना तथा इसके कार्य को सुविधाजनक बनाना होता है। भारत के स्वास्थ्य मंत्री का डब्ल्यूएचओ में कार्यकारी बोर्ड का चेयरमैन बनना भारत की एक बहुत बड़ी हिस्सेदारी के तौर पर देखा जा रहा है।
पदभार संभालने के बाद केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी जैसे संकट ने विश्व स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य में फिर से ऊर्जा भरने के लिए वैश्विक साझेदारी मजबूत करने की जरूरत को रेखांकित किया है।
चीन के वुहान में कोरोना वायरस के विकसित होने के कारणों और उसके बाद बीजिंग द्वारा उठाए गए कदमों की जांच की मांग को लेकर अमेरिकन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित दुनिया के कई नेता आवाज उठाते रहे हैं। ऐसे समय में हर्षवर्धन 34 सदस्यीय विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के एक्जिक्युटिव बोर्ड के चेयरमैन बनाए गए हैं। ट्रंप के डब्ल्यूएचओ को चेतावनी देने के बाद संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य निकाय के भीतर तनाव चरम पर है। अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ की सदस्यता पर नए सिरे से विचार करने को कहा है कि अगले 30 दिनों में यदि वह चीन से अपनी स्वतंत्रता प्रदर्शित करने में विफल रहा तो उसकी वित्तीय मदद स्थायी रूप से रोक दी जाएगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री अनचाहे गर्भ का खतरा कम करता है आपातकालीन गर्भनिरोधक राष्ट्र की नियति युवाओं के हाथ में: उपराष्ट्रपति जी-20 देशों के मंत्रियों की बैठक में कोविड-19 से उत्पन्न समस्याओं का हल मिलकर ढूंढने की जरूरत राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेश अस्‍पताल में भर्ती प्रत्‍येक कोविड रोगी की ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता के लिए जिम्‍मेदार पुरानी शिक्षा व्यवस्था बदलना उतना ही आवश्यक, जितना खराब हुआ ब्लैकबोर्ड: प्रधानमंत्री केंद्र से जम्मू-कश्मीर में पंजाबी का सरकारी भाषा का रुतबा तुरंत बहाल करने की माँग उत्तराखंड हिमालयी क्षेत्र अध्ययन: 15 प्रतिशत हिस्से में भूस्खलन का सर्वाधिक खतरा