ENGLISH HINDI Monday, July 06, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
चंडीगढ़

प्रकृति पर आधारित कलम रस्किन बांड से प्रेरित

May 24, 2020 06:38 PM

बायफोकल विज़न/ इंकलाब नागपाल
कभी देश के सबसे महंगे रहे व आज भी 10 महंगे लेखकों में से एक मशहूर लेखक रस्किन बांड का गत दिवस जन्मदिन था .. बायफोकल विज़न ने अक्समात उन्हें याद किया था, हालांकि मुझे याद नही था... अंग्रेज लेखक हैं मंसूरी में रहते हैं और प्रकृति पर ज्यादा लिखते हैं... आप ज्यादा जानकारी गूगल से ले सकते हैँ, मैं उनसे जुड़ी अपनी बात को ही सिर्फ सांझा करूंगा ... अपने स्कूली जीवन में ही मैने उन्हें पढ़ना शुरू कर दिया था... तितलियों, गिलहरियों, पहाड़ियों, पेड़ों आदि की सम्मोहक बातों ने मुझे उनकी तरफ आकर्षित किया था... मुझे लगा शायद मैं बालक हूं, इसलिए मुझे अच्छी लगती है... लेकिन 2012 आते आते मैने जाना कि उच्च न्यायलयों, सर्वोच्च न्यायालयों के जजों से लेकर तमाम हस्तियां उन्हें पढ़ती हैं और कायल हैं... ऐसा बहुत कम होता है कि सभी एज ग्रुप और छात्र से लेकर जजों तक सभी समान रूप से दीवाने हों.. महिला पुरूष का भी अंतर नहीं... बायफोकल विजन के नजरिए से देखा तो मालूम हुआ कि प्रकृति के बारे में सब पढ़ना चाहते हैं... प्रकृति पर लिखने की कोशिशें मेरी उन्हीं की कलम से प्रेरणा लेती है... लेकिन नकल नही करती
जय प्रकाश चौकसे फिल्मी दुनिया के वरिष्ठ पत्रकार हैं व फिल्मीं दुनिया और श्रद्धाजंलियों पर उनकी कलम खूब रंग बिखेरती है ... सालों साल उन्हें पढ़ते रहने के बाद मैने जाना कि जनाब थोड़ा बहुत इस गुमान में थे कि उनकी शैली से लिखने वाला कोई नहीं ... उनको पढ़ने वालों को यकीन है कि वास्तव में उनकी शैली का कोई लेखक नहीं है ... मेरी कलम जहां जहां तक पहुंच पाई है वहां तक तो मैने बता दिया कि कोई और भी उनकी शैली में लिखने वाला मौजूद है।
मशहूर लेखक खुशवंत सिंह का कालम ‘ना काहू से दोस्ती न काहू से बैर’ बहुत मशहूर रहा है … इतना बिंदास लिखते थे कि उनका बिंदास जीवन भी दिख जाता था… पढ़ने वालों को मालूम हो गया था कि वो कैसा जीवन जीते हैं... उनका विकल्प भी पैदा न हुआ था क्योंकि कि खुल्लम खुल्ला लिखने की हिम्मत भारतीय समाज में किसी के पास नही होती... लेकिन रामानंद सीरीज को मैने लिखकर लगभग उस कमी को पूरा किया है ...मेरा भी जीवन लोगों को नजर आ जाता है ... लेकिन उनके नारी संसार की अवधारणाओं को छूना, वैचारिक, प्रतिबद्धता के चलते थोड़ा मुश्किल है, कभी पाठकों को जरूरत महसूस हुई तो उन तत्वों का समावेश भी करेंगे, लेकिन वो सब बातें बनावटी होंगे क्योंकि मुझे वैसे अनुभव नहीं है।
व्यंग्यकार की भांति कटाक्ष करने की तरफ कभी तमन्ना होती है तो मशहूर व्यंग्यकार अशोक चक्रधर की शैली में भी लिखने की कोशिश रहती है। सामाजिक और सामयिक मुद्दों पर लिखने की बात आती है तो पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार व बलबीर पुंज की तरह भी कलम का इस्तेमाल किया जाता है … एन रघुरामण के मैनेजमैंट फंडा लिखना तो बिल्कुल आसान है
राजनीति पर टिप्पणियां लिखने से इसलिए गुरेज रहता है कि एक विचारधारा में पले बढ़े होने के कारण कलम पर पक्षपाती होने का आरोप आयेगा... पूर्व मंत्री प्रो. लक्ष्मी कांता चावला को पढ़ते समय हम देखते थे कि जो वह लिख रही है, उनसे तो हम पहले ही सहमत हैं और विरोधी पक्ष ने उनके तथ्यों या तर्कों को मानना नहीं है... ऐसे में पांच रूपये के बाल पैन का सिक्का वहां क्यों घिसाना।
शरद जोशी की तरह कहानियां लिखने का कभी मन हुआ तो वो भी लिखेंगे लेकिन इन तमाम रंगों से होली खेलते हुए एक कोशिश रहती है कि कोई रंग ज्यादा न चढ़ जाये ... इसलिए संतुलन बनाये रखने के लिए बदल बदल कर हाथ आजमाते रहते हैं ... किसी खास विधा में लगातार लिखते रहने से कोई खास पारंगत हुआ जा सकता है, ऐसा न मेरा मानना है और न ही ऐसा होता है ... लेखक को आर्थिक पक्ष से जिस तरफ फायदा होता है उस तरफ बढ़ जाता है और मेरे जैसे जिसने अपनी कलम को आर्थिक न किया हो उसे कोई फर्क नहीं पड़ता ... रस्किन बांड जी को स्वस्थ्य रहने की शुभकामनाएं ... यह कालम उन तक पहुंचाया जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
गोरैया: कम होती संख्या पर चिन्ता, पुन: चहचहाट के लिए संरक्षण पर बढते कदम विश्व हिंदू परिषद ने समाज सेविका सुप्रिया गोयल को किया सम्मानित स्वामी अशीम देब गोविंद धाम सोसायटी ने धूमधाम से मनाया गुरु पूर्णिमा का त्यौहार ज्वेलर्स मार्केट सेक्टर 23 में कोरोना कर्मयोद्धा किये सम्मानित मिली एक नई जिम्मेदारी नया दायित्व, आईसीएसई की बनी राष्ट्रीय सचिव सेक्टर 26 मंडी में पीने के पानी के लिए मचा हाहाकार क्यों बढ़ता गया मर्ज पंचकूला में कोरोना संक्रमण से पहली मौत, 74 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने तोड़ा दम, 10 नए मामले भी आए डॉक्टर्स डे पर होम्योपैथी को समर्पित डॉक्टर ने निभाई जिम्मेदारी पारस गोयल बने अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद चंडीगढ़ महानगर के वार्ड अध्यक्ष