ENGLISH HINDI Thursday, July 16, 2020
Follow us on
 
हिमाचल प्रदेश

खामोशियों को चिल्लाने दो, शब्दों में उतर जाने दो

May 28, 2020 06:08 AM

— शिखा शर्मा
वृद्ध मां- बाप की लाठी उनका पुत्र होता है। अगर लाठी कोने में अकड़ कर खड़ी रहे तो लड़खड़ाते पांवों और कांपते हाथों को सहारा कौन देगा? जीवनभर जिस पुत्र की छोटी- छोटी इच्छाओं को उन्होंने सर आंखों पर रखकर पूरा किया। वहीं मां- बाप पुत्रहित के लिए कुछ बोल दें तो उनको बूढ़ा होने और नासमझ होने के ताने सुनने को मिल जाते हैं। शायद! यही दिन देखने के लिए मां- बाप बुजुर्ग होते हैं। हालांकि ये बातें आम सुनने को मिल जाती हैं लेकिन कोरोना काल में लंबे समय से चल रहे लॉक डाउन में बुजुर्गों की दशा ज्यादा आहत है। कोरॉना महामारी काल बनकर सबके सिर पर तांडव कर रही है फिर भी अकड़ सातवें आसमान पर है। अगर इस वक़्त भी इंसानियत नहीं जागी तो ऐसे पुत्रों का इंसान होना पाप है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
असां दी मुन्नी असां दा स्वाभिमान : परमार राज्य जलवायु परिवर्तन केन्द्र ने की बर्फ आवरण की मैपिंग शिव अराधना के लिए सर्वोत्तम है सावन का महीना आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पदों के लिए 31 जुलाई को ज्वालामुखी में साक्षातकार सब्जी उत्पादन कर सुधारी आर्थिकी, स्वरोजगार से चुनी आर्थिक स्वावलंबन की राह कृषि उपकरणों पर अनुदान से किसानों में बढ़ा आधुनिक तकनीक के प्रति रुझान वरिष्ठजनों को मनोरंजक स्थान प्रदान करने के लिए विकसित होंगे 100 उद्यान एवं पार्क समाजसेवी संस्था इंक्रेडिबल कांगड़ा ने किया उपायुक्त को सम्मानित होनहार बेटियों को शुभकामनाएं देने पहुंचे एसडीएम हिमकोस्ट ने सूर्यग्रहण पर विद्यार्थियों से राइट-अप और प्रेजेंटेशन मांगे