ENGLISH HINDI Saturday, August 15, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शनस्वतंत्रता दिवस पर ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दीए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडलवाराणसी में वर्चुअल माध्यम से धनवंतरी चलंत अस्पताल का शुभारंभपूंजीगत खर्च पर सीपीएसई की तीसरी समीक्षा बैठकविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और सराहनीय सेवाओं के लिए आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को पुलिस पदक से सम्मानितराष्ट्रपति ने सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए 84 वीरता पुरस्कारों और अन्य सम्मानों की मंजूरी दी
हिमाचल प्रदेश

भारतीय जनता पार्टी में शीत-युद्ध छिड़ा हुआ है और अब इनकी लड़ाई सड़कों पर आ गयी

June 13, 2020 07:15 PM

  धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा)

कांग्रेस नेता ज्वालामुखी के पूर्व विधायक संजय रतन ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में शीत-युद्ध छिड़ा हुआ है और अब इनकी लड़ाई सड़कों पर आ गयी है। संगठन और सरकार की इस जंग में भाजपा विधायक के पुतले तक जला दिए गए। प्रदेश सरकार और भाजपा आपसी कलह में इतनी मसरूफ है कि उनका ध्यान पूरी तरह से कोरोना और विकास कार्यों से हट चुका है जिसका नुक़सान आम जनता को हो रहा है।
पत्रकारों को संबोधित करते हुये संजय रतन ने भाजपा और प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि हिमाचलवासियों के साथ 65 हजार करोड़ के 70 हाई-वे के नाम पर हुए सबसे बड़े धोखे पर क्यों चुपी साध ली है? हिमाचल प्रदेश सरकार ने पूरे प्रदेश को अव्यवस्था के आलम में डूबो दिया है और कोरोना काल में इस प्रदेश के अन्दर स्वास्थ्य घोटालों के संबंध में भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रेम कुमार धूमल ने इसे देशद्रोह के बराबर बताया है और भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने इसे महापाप की संज्ञा दी। तब भी भारतीय जनता पार्टी इस अति संवेदनशील एवं शर्ममनाक विषय पर भी बेशर्मी से सामना करने का मन बनाया और पूरी सरकार के मंत्री और भाजपा के नेता जिलावार इस स्वास्थ्य घोटाले पर सराकर का बचाव करने के लिए उतर गए। परंतु हिमाचल प्रदेश के हितों के साथ इतना बड़ा कुठाराघात हुआ है जिसे प्रदेश की जनता कभी माफ नहीं करेगी और इसका खुलासा स्वयं केन्द्र सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने अपने वक्तव्य में कह दिया। परंतु अब इस मामले पर हिमाचल सरकार क्यों खामोश है? सरकार को हिमाचल प्रदेश की जनता से सार्वजनिक रूप से क्षमा मांगनी चाहिए और इस मामले में सरकार और भाजपा को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।
भारतीय जनता पार्टी ने हिमाचल प्रदेश में विधानसभा और लोकसभा चुनावों में इस मुद्दे को जमकर भुनाया ही नहीं अपितु सारी-की-सारी भारतीय जनता पार्टी का चुनाव प्रचार 65 हजार करोड़ रुपए के 70 नेशनल हाई-वे के इर्द-गिर्द घूमता रहा और हिमाचल प्रदेश की भोली-भाली जनता को इन हाई-वेज के नाम पर गुमराह करके जनादेश प्राप्त किया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी इस विपदा के समय में भी सिर्फ और सिर्फ राजनीति कर रही है। जहां आज केन्द्र और प्रदेश की सरकारों का ध्यान कोरोना से निपटने के लिए केन्द्रित होना चाहिए था वहीं भाजपा देश के अन्दर चुनावों की तैयारी में जुट गई है और वर्चुअल रैलियों के माध्यम से पुन: लोगों को गुमराह करने का प्रयत्न किया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में भी इन रैलियों का सिलसिला आरम्भ हो चुका है जबकि अन्य विकास कार्यों के प्रति हिमाचल प्रदेश में सरकार गम्भीरता नहीं दिखा रही व पूरा विकास ठप्प पड़ा है

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
नवोदय विद्यालय में ग्यारहवीं कक्षा में लेटरल एंट्री के लिए आवेदन आमंत्रित रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए ‘हिम हल्दी दूध’ का शुभारम्भ टी.जी.टी. टेट पास उम्मीदवार 25 अगस्त तक दर्ज करवायें भूतपूर्व सैनिकों के आश्रितों में अपना नाम आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा सहायिका के पद के साक्षात्कार 31 अगस्त को 12 व 13 अगस्त को बिजली आपूर्ति बाधित बगली फीडर में 14 अगस्त को बिजली बंद ‘एक जिला-एक उत्पाद’ की अवधारणा को लेकर बनाये जायेंगे कृषक उत्पादक संगठन हिमाचल ने ई-संजीवनी पोर्टल पर परामर्श पंजीकृत करने में तीसरा स्थान प्राप्त किया उचित मूल्य की दुकानों के लिये करें आवेदन हिमाचल: प्रदेशभर में रोपित होंगे 1 करोड़ 20 लाख पौधे: चौधरी