ENGLISH HINDI Monday, August 10, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीदहिमालय क्षेत्र में गर्म पानी के स्रोत करते हैं वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्‍साइड का उत्‍सर्जनअंडमान और निकोबार द्वीप समूह के लिए पनडुब्‍बी के‍बल कनेक्टिविटी की शुरुआतवायरोलॉजी इंस्टीट्यूट की स्थापना के लिए केंद्र द्वारा प्रस्ताव मंज़ूरवृक्षारोपण कर मनाया ड्यूटी में व्यस्त कोरोना योद्धा का जन्मदिनशहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करनाकमलम् में हुए कार्यक्रम में नियमों की धज्जियां उड़ाने पर राज नागपाल ने की कड़ी निंदाचंडीगढ़ नगर निगम के कर्मचारी काम छोड़ कलाई की घड़ियों का करेंगे विरोध
हरियाणा

रेड क्रॉस सोसाइटी के कार्यों, सोसाइटी से जुड़े संगठनों व स्वयंसेवकों के कार्यों की सराहना

June 30, 2020 07:17 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
कोरोना काल के दौरान थैलेसिमिया व अन्य ज़रूरतमंद रोगियों को रक्त उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से हरियाणा रेड क्रास सोसाइटी ने धार्मिक, सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठनों के सहयोग से 26,752 रक्त इकाइयां एकत्रित कर पूरे देश में प्रथम स्थान प्राप्त किया, जिससे रेड क्रास सोसाइटी को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है। यह बात हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने आज भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी की हरियाणा राज्य शाखा की प्रबंध समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। राज्यपाल ने कोविड-19 के दौरान रेड क्रॉस सोसाइटी द्वारा किए गए कार्यों के लिए सोसाइटी से जुड़े संगठनों व स्वयंसेवकों के कार्यों की सराहना की।
इस अवसर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, जो इस सोसाइटी के उपप्रधान भी हैं और छ: जिलों यमुनानगर, रेवाडी, चरखी दादरी, फरीदाबाद, रोहतक और कुरूक्षेत्र के उपायुक्त, जो रेड क्रॉस सोसाइटी की जिला इकाइयों के अध्यक्ष भी हैं, उपस्थित थे। अन्य जिलों के उपायुक्तों ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में हिस्सा लिया।
भारतीय रेड क्रॉस की हरियाणा शाखा द्वारा किए गए कार्यों की सराहना करते हुए राज्यपाल ने कहा कि कोविड-19 संकट के दौरान, रेड क्रॉस सोसाइटी ने ब्लड यूनिटस को एकत्र करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके साथ-साथ कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क, सैैनेटाइजर व दस्ताने वितरित करने का कार्य भी किया। इतना ही नहीं, संक्रमण के प्रति आमजन को जागरुक भी किया।
श्री आर्य ने कहा कि रेड क्रॉस वालंटियर्स ने यह भी सुनिश्चित किया कि राज्य में हर ज़रूरतमंद को दो वक्त का खाना मिले। सोसाइटी द्वारा प्रत्येक ज़रूरतमंदों को सूखे राशन और पके हुए भोजन के पैकेटों को समुचित रुप से वितरित करने का कार्य किया। प्रवासी श्रमिकों को राहत पहुंचाने के दृष्टिगत रिलीफ कैंप स्थापित किए गए जिसमें प्रतिदिन हजारों लोगों के ठहरने की सुविधा मिली। हम सब के लिए यह गर्व की बात है कि राज्य सरकार और रेड क्रॉस सोसाइटी की राज्य शाखा द्वारा किए गए प्रयासों को देश में एक पहचान मिली है। उन्होंने कहा कि संकट के समय मानवता की सेवा करना हम सब का कर्तव्य है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि रेड क्रॉस का मुख्य कार्य समाज की सेवा करना है और समाज में ऐसे लोग हैं जो स्वेच्छा से समाज सेवा के कार्य में अपना बहुमूल्य योगदान देना चाहते हैं, ऐसे लोगों को रेड क्रास सोसाइटी से जोडऩा चाहिए।
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि हरियाणा में रेड क्रॉस सोसाइटी के माध्यम से अधिक से अधिक जन औषधि केंद्र खोले जाएं, ताकि आमजन को उचित दरों पर दवाइयाँ उपलब्ध कराई जा सकें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि यूथ रेड क्रॉस गतिविधियों को निजी विश्वविद्यालयों में भी शुरु किया जाए। इसके अलावा, जूनियर रेड क्रास गतिविधियों को निजी स्कूलों में भी आरंभ किया जाए। उन्होंने जिला उपायुक्तो को निर्देश दिए कि पंचायतों से अपील की जाए कि मानवता की सेवा के लिए रेड क्रास सोसाइटी द्वारा कि जा रहे कार्यों के लिए हर संभव योगदान दें।
उन्होंने रेड क्रास के इतिहास से अवगत कराते हुए कहा कि युद्ध के दौरान मानवता की सेवा के नाते से रेड क्रॉस द्वारा बिना भेदभाव के घायलों की मदद की जाती थी और उनके द्वारा किए गए इन्हीं कार्यों की बदौलत समय के साथ-साथ आमजन का भरोसा इस सोसाइटी के प्रति बढ़ा है।
श्री मनेाहर लाल ने कहा कि कोविड—19 संकट की इस घड़ी में गरीब व ज़रूरतमंद व्यक्तियों की सहायता के लिए समाज के हर वर्ग से अपील की गई, जिसके परिणामस्वरूप हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड में आमजन के साथ-साथ लगभग 1.90 लाख कर्मचारियों ने भी योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि लगभग 200 कर्मचारियों ने अपना पूरा मासिक वेतन दिया। यहां तक कि ग्रुप-डी के भी काफी कर्मचारियों ने भी एक महीने का वेतन हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड में दिया।
मुख्यमंत्री ने बताया कि आज तक हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड में 248 करोड़ रुपये का योगदान हुआ है। उन्होंने कहा कि समाज के हर वर्ग के लोगों ने कोरोना रिलीफ फंड में योगदान दिया है, जिनमें छात्र और किसान भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि रेड क्रॉस सोसाइटी से जुड़े लोगों को समाज के प्रति अपना बहुमूल्य योगदान देने के लिए आमजन से अपील करनी चाहिए कि वे भी आगे आकर समाज के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को समझते हुए रेड क्रॉस सोसाइटी का सहयोग करें।
इस अवसर पर हरियाणा रेड क्रॉस सोसाइटी के महासचिव श्री डी. आर. शर्मा ने कहा कि राज्यपाल और मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन में हरियाणा की सभी जिला शाखाओं में मानवता की सेवा के लिए हर संभव प्रयास किए गए। उन्होंने अवगत कराया कि कोविड-19 महामारी के कारण लागू लॉकडाउन के दौरान, इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी की हरियाणा शाखा ने ज़रूरतमंद व्यक्तियों की मदद के लिए अपने विशेष राहत कार्यक्रम तैयार किए हैं।
उन्होंने बताया कि हरियाणा रेड क्रॉस ने कोविड-19 महामारी से बचाव और इससे लडऩे के लिए 7809 स्वयंसेवकों, 1072 गैर सरकारी संगठनों और 33 एम्बुलेंस की व्यवस्था की थी।
राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने कोविड-19 महामारी के दौरान हरियाणा रेड क्रॉस की भूमिका और प्रतिक्रिया नामक एक पुस्तिका का भी विमोचन किया। बैठक में कोविड-19 महामारी के दौरान रेड क्रॉस सोसाइटी (हरियाणा) द्वारा की गई गतिविधियों पर तैयार की गई डॉक्यूमेंटरी भी दिखाई गई।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
गर्भवती महिला कर्मचारियों को कार्यालय में उपस्थिती से छूट, घर से कार्य करने की अनुमति सैलजा ने उठाई एचटेट की वैधता बढ़ाने और जेबीटी भर्ती निकालने की मांग पर्यावरण के लिए पेड़ लगाओ— देश बचाओ, दुनिया बचाओ हरियाणा सहकारिता मंत्री ने "दी गुड़ियानी" प्राथमिक कृषि सहकारी समिति के कार्यालय व गोदाम का किया शिलान्यास शराब ठेके के खिलाफ स्थानीय लोगों और युवा कांग्रेस द्वारा धरना प्रदर्शन 6 महीने पुरानी सड़क को तोड़ा, खड्ढे से हो सकती है बडी दुर्घटना महामारी में लिया प्रण, योग द्वारा भारत को कोरोना मुक्त बनाना कालका और पिंजौर को पंचकूला सीमाओं से अलग करने स्वीकृति मनोहर लाल के दखल के बाद मिला कैडिला से वेतन, जताया आभार वार्डों के परिसीमन की अधिसूचना जारी