ENGLISH HINDI Saturday, August 15, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शनस्वतंत्रता दिवस पर ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दीए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडलवाराणसी में वर्चुअल माध्यम से धनवंतरी चलंत अस्पताल का शुभारंभपूंजीगत खर्च पर सीपीएसई की तीसरी समीक्षा बैठकविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और सराहनीय सेवाओं के लिए आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को पुलिस पदक से सम्मानितराष्ट्रपति ने सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए 84 वीरता पुरस्कारों और अन्य सम्मानों की मंजूरी दी
पंजाब

डॉक्टरों का मनोबल ऊपर उठाने के लिए रैप गायक रिखी रील आए आगे

July 03, 2020 08:41 PM

अखिलेश बंसल/करन अवतार, बरनाला:
25 वर्षिय रैप गीत गायक कलाकार रिखी रील ने डॉक्टरों का मनोबल कायम रखने के लिए एक गीत गायन किया है। जिसमें फ्रंट लाइन पर वायरस को दूर करने में जुटे एवं मरीज लोगों को वायरस से बचाने की कोशिश कर रहे डाक्टरों की अपनी परिवारिक, जमीनी, समाजिक हालत कैसी है उसे रैप संगीत के माध्यम से शब्दों द्वारा ब्यान किया किया है। गीत का टाईटल फ्रंट लाइन वारियर्स (माय डॉक बोलदा) है। संगीतकार इन्टॉक्सी है। लेखक का नाम रैपर है। कार्टून ने विडीयो निर्देशन किया है।
इसलिए पड़ी गीत की जरूरत:
कोरोना कोविड-19 में फ्रंट लाइन पर खड़े हो सेवाएं निभा रहे डाक्टरों जिन्हें अस्पतालों में चीख-पुकार के अलावा कुछ सुनने को नहीं मिलता, ड्यूटी पर डटे रहने के कारण उन्हें पता नहीं चल रहा कि परिवारों की स्थिती कैसी है, घर इस लिए नहीं जा पा रहे कि वायरस की चेन अस्पताल में ही टूट जाए। रिखी रील द्वारा गायन किया गया गीत दिलों को झिंझोड़ कर रखने वाला है। उसमें बताया गया है कि कुछ गैर समाजिक तत्व डाक्टरों को पत्थर मारने वाले हैं, कुछ गाली गलौच करने वाले हैं, लेकिन असलियत क्या है किसी को नहीं मालूम।
देशभक्ति का गीत ने बदली तकदीर:
रिखी रील का बचपन संगीत व खेलकूद से गुजरा। लेकिन वह जब भी स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्रता दिवस के मौके पर जाया करता, वह मंच पर शहीद-ए-आजम सरदार भगत सिंह का गीत आवश्य गाकर आता। उसकी रुचि को देखते उसके पिताश्री एडवोकेट विजय रिखी और मामाश्री महिंदर कपिल ने परितोष के अंदर बोलने का आत्मविश्वास पैदा किया। जिन्होंने उसे एक गीत सुनाने के बदले 10 रुपए देना शुरु किया। किसी विष्य पर डिबेट करने के लिए खास किस्म की डील तय की जाती। जो किसी बड़ी कंपनी के कांन्ट्रेक्ट से कम नहीं थी। गौरतलब हो कि रिखी रील ने पहले गीत का आगाज जापान के रियो में साल 2016 के दौरान हुई ओलंपिक स्पर्धा में पहुंची भारतीय फुटवॉली टीम के लिए गायन कर किया था।
परितोष के माता-पिता ने उसे हर चुनौती का सामना करने की शिक्षा दी जिसके चलते उसने स्कूली शिक्षा के वक्त क्रिकेट में तेज गेंदबाजी, बैडमिंटन में नेट-शटल को दूर से लपक कर उठाना और संगीत में रैप एवं क्लासीकल संगीत को पसंद किया। संगीत की प्राथ्मिक शिक्षा संगीतगुरु गगन मेहताब से मिली। उसके बाद छोटे छोटेमंच पर रैप प्रतियोगिताएं शुरु हुई, जहां हर मंच पर प्रथम स्थान हासिल किया। जिसने हौंसले बुलंद कर दिए। मंच पर चढऩे, वहां से शब्दों द्वारा किसी का मनोबल उठाने का खास तजुर्बा हासिल किया जिसके चलते परितोष रिखी की संगीत क्षेत्र ने रिखी रील के तौर पर पहचान बनाई।
बी. टेक पास हैं रिखी रील:
रिखी रील के नाम से जाने जाते नौजवान परितोष रिखी ने 10+2 डीएवी सेनेटरी सीनीयर सैकेंडरी पब्लिक स्कूल मालेरकोटला से पास की। रोजगार के लिए रास्ता बनाने के लिए कंप्यूटर साईंस में बी.टेक लवली प्रोफेश्नल युनिवर्सिटी जालंधर से की। उसका कहना है कि खुद के लिए हर कोई लिखता, गाता व काम करता है, लेकिन उसे दूसरे के लिए काम करने में मजा आने लगा है, और भविष्य में समाज, देश के लिए ही गायन करेगा।
रिखी रील ने डाक्टर्स के लिए गायन किया यह गीत:
कई करदे तारीफ, कई गालां कढदे ने, कई हत्थ बन्न नाल कम्म करदे ने।
कई डर के पत्थर दे वी वार करदे ने, पर मैं खड़ा अग्गे क्योंकि मेरे नाल घर दे ने।।
असीं सारे जानदे हां कि डाक्टर नाल जो वी होया सी कोविड-19 हालात विच।
लोकां ने डर के पत्थरां नाल वार वी कीते ओहना ते लोहे दे स्टूल मारे।।
ते कई गवर्नमेंट एंड नॉन गवर्नमेंट आर्गेनाईजेशन नाल आके हैल्प नी कीती।
डाक्टर अज्ज वी डट के हैल्प कर रहे ने साडी सारेयां दी, जो बचा रहे ने कोरोना वरगे डेंजर्स वायरस तो।।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दी ए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडल मंत्रियों को छूट, आम लोगों को बताया जा रहा कोरोना है महामारी मुख्यमंत्री द्वारा नकली शराब मामले में डी.जी.पी. को भद्दे ढंग से निशाना बनाने के लिए मजीठिया की कड़ी आलोचना माईक्रो और सीमित ज़ोनों में 100 प्रतिशत टेस्टिंग के निर्देश पटियाला में लगने वाले धरने लोगों की जान के लिए बने खतरा: सिंगला स्कूल के ऑनलाइन पेंटिंग और निबंध प्रतियोगिता 13 अगस्त को जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा