ENGLISH HINDI Saturday, August 15, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शनस्वतंत्रता दिवस पर ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दीए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडलवाराणसी में वर्चुअल माध्यम से धनवंतरी चलंत अस्पताल का शुभारंभपूंजीगत खर्च पर सीपीएसई की तीसरी समीक्षा बैठकविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और सराहनीय सेवाओं के लिए आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को पुलिस पदक से सम्मानितराष्ट्रपति ने सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए 84 वीरता पुरस्कारों और अन्य सम्मानों की मंजूरी दी
पंजाब

अस्पतालों का नाम ‘माई दौलतां जच्चा-बच्चा अस्पताल’ रखने का फैसला

July 06, 2020 05:20 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार क्ल्याण विभाग द्वारा 37 जच्चा-बच्चा अस्पतालों का नाम पहले पातशाह जगत गुरू श्री गुरु नानक देव जी के जन्म के समय उनकी संभाल करने वाले दाई माई दौलतां के नाम पर ‘माई दौलतां जच्चा-बच्चा अस्पताल’ रखने का फैसला किया गया है।
राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिद्धू ने जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य विभाग का यह अनूठा कदम श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व वर्ष में दाई माई दौलतां को उपयुक्त श्रद्धाँजलि होगी। उन्होंने कहा कि माई दौलतां वह भाग्यशाली मनुष्य थी जिनको जगत गुरू बाबा नानक जी के सबसे पहले दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि साहिब श्री गुरु नानाक देव जी की आयु के प्राथमिक कुछ महीनों में हुए पालन-पोषण में माई दौलतां का बहुत बड़ा योगदान है जिसको पहचा प्रदान करते हुए पंजाब सरकार ने यह फैसला किया है।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार के इस फैसले से विभाग के प्रशिक्षण प्राप्त स्टाफ नर्सें और ए.एन.एम. व अन्य स्टाफ द्वारा निभाई जा रही बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका को भी उपयुक्त पहचान मिलेगी और वह और भी जोश, उत्साह और निष्ठा से काम करेंगे।
स. सिद्धू ने बताया कि राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने स्वास्थ्य विभाग की तरफ से इस सम्बन्धी भेजे गए प्रस्ताव को मंजूर करते हुए कहा है कि पंजाब में बनाए जा रहे ‘माई दौलतां जच्चा-बच्चा अस्पताल’ माताओं और उनके नवजात बच्चों के स्वास्थ्य और संभाल के क्षेत्र में नया मील का पत्थर साबित होंगे। पंजाब के मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को हिदायत की है कि इन अस्पतालों के निर्माण और कार्य कुशलता सम्बन्धी समय-समय पर समीक्षा की जाये जिससे निश्चित किए गए लक्ष्य हासिल किये जा सकें।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की रहनुमाई में शुरू किये गए इस प्रोजैक्ट के अंतर्गत राज्य में कुल बनने वाले 37 ‘माई दौलतां जच्चा-बच्चा हस्पताल’ में से 26 पहले ही मुकम्मल हो चुके हैं जबकि बाकी रहते अस्पताल भी एक साल के दौरान मुकम्मल हो जाएंगे।
उन्होंने कहा कि 9 जच्चा-बच्चा हस्पतालों का निर्माण कार्य मुकम्मल किया गया है। (दसूहा, समाना, मलेरकोटला, खन्ना, तरनतारन, पठानकोट, फतेहगढ़ चूडिय़ां, भाम और राजपुरा) और लगभग 73 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले संगरूर, नकोदर, मोगा, फतेहगढ़ साहिब, गोन्याना, मलोट, गिद्दड़बाहा, फगवाड़ा, खरड़, बुढ्ढलाडा और जगरावां में 11 माई दौलतां जच्चा-बच्चा हस्पताल निर्माणाधीन हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दी ए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडल मंत्रियों को छूट, आम लोगों को बताया जा रहा कोरोना है महामारी मुख्यमंत्री द्वारा नकली शराब मामले में डी.जी.पी. को भद्दे ढंग से निशाना बनाने के लिए मजीठिया की कड़ी आलोचना माईक्रो और सीमित ज़ोनों में 100 प्रतिशत टेस्टिंग के निर्देश पटियाला में लगने वाले धरने लोगों की जान के लिए बने खतरा: सिंगला स्कूल के ऑनलाइन पेंटिंग और निबंध प्रतियोगिता 13 अगस्त को जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा