ENGLISH HINDI Monday, August 10, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीदहिमालय क्षेत्र में गर्म पानी के स्रोत करते हैं वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्‍साइड का उत्‍सर्जनअंडमान और निकोबार द्वीप समूह के लिए पनडुब्‍बी के‍बल कनेक्टिविटी की शुरुआतवायरोलॉजी इंस्टीट्यूट की स्थापना के लिए केंद्र द्वारा प्रस्ताव मंज़ूरवृक्षारोपण कर मनाया ड्यूटी में व्यस्त कोरोना योद्धा का जन्मदिनशहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करनाकमलम् में हुए कार्यक्रम में नियमों की धज्जियां उड़ाने पर राज नागपाल ने की कड़ी निंदाचंडीगढ़ नगर निगम के कर्मचारी काम छोड़ कलाई की घड़ियों का करेंगे विरोध
हिमाचल प्रदेश

सब्जी उत्पादन कर सुधारी आर्थिकी, स्वरोजगार से चुनी आर्थिक स्वावलंबन की राह

July 10, 2020 07:52 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) अगर इंसान के मन में कुछ करने का जज़्बा और लग्न हो तो छोटे-छोटे प्रयास बड़ी सफलता का आधार बन जाते हैं। कांगड़ा तहसील के सहौड़ा गांव की निशा देवीे इस बात को चरितार्थ करती ऩजर आती हैं।
शादी के बाद निशा जब सहौड़ा गांव में अपने ससुराल आई थीं, उस समय घर की आर्थिक स्थिति काफी कमज़ोर थी। पति खेतीबाड़ी करते थे तो उन्होंने भी इसमें हाथ बंटाना शुरू कर दिया। फिर भी दोनों मिलकर इतना नहीं कमा पाते थे कि उनके परिवार का सही ढंग से गुज़र-बसर हो सके। ग़रीबी और हालात से दो-चार होने के बावजूद निशा एक बेहतर जीवन जीने की चाह लिए अपनी उम्मीदों को संवारने के लिए प्रयासरत थीं। तभी उन्होंने देखा कि उसके आस-पास के लोग सब्ज़ी उत्पादन में लाखों रुपये कमा रहे हैं तो उनके मन में भी विचार आया कि क्यों न हम भी अपने खेतों में पारम्परिक खेती के बज़ाए कुछ ऐसा करें ताकि हमारी आर्थिकी में सुधार हो सके।
ऐसे में उन्हें पंजाब नैशनल बैंक के धर्मशाला स्थित ग्रामीण स्वरोज़गार प्रशिक्षण संस्थान द्वारा सहौड़ा में लगाए गये जागरूकता शिविर में संस्थान द्वारा चलाए जा रहे इच्छुक लोगों को उन्नत कृषि बारे प्रशिक्षण देने का पता चला। उन्हें आशा की किरण नजर आई और उन्होंने तुरन्त संस्थान से सम्पर्क किया तो पता चला कि ये प्रशिक्षण निःशुल्क करवाया जाता है। भोजन और रहने का खर्चा भी संस्थान ही करता है। फिर क्या था, उन्होंने सब्ज़ी नर्सरी प्रबन्धन एवं सब्ज़ी उत्पादन के दस दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में दाखि़ला ले लिया।
निशा बताती हैं कि उनके लिए यह प्रशिक्षण बहुत उपयोगी साबित हुआ। इस दौरान उन्होंने खेतीबाड़ी की उन्नत तकनीकों तथा व्यवसाय चलाने के साथ-साथ नक़दी फसलों की खेती करने के सम्बन्ध में भी पूरी जानकारी ली। इस तरह आरसेटी का प्रशिक्षण कार्यक्रम उनके जीवन में परिवर्तन का आधार बना।
निशा बताती हैं कि उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत अपने पति के साथ लगभग 35 हजार रूपये की पूंजी लगाकर सब्ज़ियों का उत्पादन शुरू किया। मेहनत और प्रशिक्षण से प्राप्त ज्ञान के बूते देखते ही देखते दिन बदलने लगे। सब्जियों को आस-पास की सब्जी मंड़ियों में बेचना शुरू कर दिया। अब वे अधिकतर सब्ज़ी धर्मशाला सब्ज़ी मंडी में बेचती हैं और हर महीने लगभग 12 से 15 हजार रूपये कमा रही हैं और अपने परिवार के साथ खुशहाल जीवन बिता रही हैं। उनका सारा परिवार उनके साथ सब्ज़ी उत्पादन का कार्य कर रहा है।
पंजाब नैशनल बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के निदेशक महेन्द्र शर्मा बताते हैं कि संस्थान जरूरतमंद एवं इच्छुक लोगों को स्वरोज़गार आरम्भ करने के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण देता है, ताकि वे आर्थिक रूप से सुदृढ़ एवं आत्मनिर्भर हो सकें। वे बताते हैं कि संस्थान 18 से 45 वर्ष तक की महिलाओं और पुरूषों को डेयरी फार्मिंग, खुम्ब उत्पादन, सब्जी नर्सरी प्रबंधन और सब्जियों की खेती, आलू एवं प्याज की खेती और प्राकृतिक संरक्षण, अचार और पापड़ बनाना, खिलौने बनाना, डुने पत्तल बनाना, कपड़े के बैग बनाना तथा मोबाईल रिपेयरिंग जैसे विभिन्न रोजगारपरक व्यवसायों में प्रशिक्षण प्रदान करता है।
निदेशक ने बताया कि प्रशिक्षण की समाप्ति पर प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण-पत्र दिए जाते हैं, जिसके द्वारा वे स्वरोज़गार हेतु जिला कांगड़ा के किसी भी बैंक से ऋण प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। प्रशिक्षण प्राप्त करने के इच्छुक युवक व युवतियां नज़दीक राजकीय महाविद्यालय सभागार, सिविल लाईन धर्मशाला, पीएनबी ग्रामीण स्वरोज़गार प्रशिक्षण संस्थान कांगड़ा में सम्पर्क कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए उनसे उनके दूरभाष नम्बर 9418020861 या संस्थान के दूरभाष नम्बर 01892227122 पर संपर्क किया जा सकता है।
क्या कहते हैं उपायुक्त
उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति का कहना है कि ज़िला में युवाओं एवं महिलाओं को स्वरोज़गार अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने पर बल दिया जा रहा है। इस प्रकार के प्रशिक्षणों से लोग क्षेत्र विशेष के लिए आवश्यक ज्ञान प्राप्त कर एवं कौशल विकास से स्वरोजगार अपनाकर स्वावलंबन की राह पर आगे बढ़े हैं। उनका कहना है कि जिला प्रशासन लोगों को स्वरोजगार आरम्भ करने के लिए हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन सकें।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
उचित मूल्य की दुकानों के लिये करें आवेदन हिमाचल: प्रदेशभर में रोपित होंगे 1 करोड़ 20 लाख पौधे: चौधरी धौला कुआं में आईआईएम का शिलान्यास राष्ट्रपति द्वारा शहीद के पिता की याचिका पर समुचित कार्यवाही का आश्वासन आईजीएमसी में सहायक प्रोफेसर डॉ. शिखा ने फिर रचा इतिहास होम क्वारंटीन नागरिकों की होगी तीन स्तरीय निगरानी डेढ़ साल की बेटी परिजनों के हवाले छोड़ कोविड मरीजों के इलाज में जुटीं मीना शुरू हुआ स्वचलित कार्डियोवर्टर डिफाइब्रिलेटर उपचार, अचानक होने वाले कार्डिएक अरेस्ट में है जीवनरक्षक पानी के बिलों के सीवरेज शुल्क को 50 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत करने का निर्णय मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क कोचिंग